Delhi Rain: टूटा 45 सालों का रिकॉर्ड.. यमुना का जलस्तर 207.66 मीटर के पार, CM केजरीवाल ने की इमरजेंसी मीटिंग

51

दिल्ली में यमुना का जलस्तर खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है. इधर, दिल्ली में मंडराते बाढ़ के खतरे को देखते हुए सीएम अरविंद केजरीवाल ने सचिवालय में आपात बैठक की. बैठक में दिल्ली सरकार के मंत्री, महापौर और विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद थे. बता दें, दिल्ली में मानसून की दस्तक के बाद लगातार हो रही बारिश से पूरा शहर पानी-पानी हो गया है. की इलाकों में सड़के तालाब बन गई हैं. वहीं, हरियाणा के हथिनी कुंड बैराज से पानी छोड़े जाने से यमुना का जलस्तर खतरे के निशान से काफी ऊपर बह रहा है.

सीएम केजरीवाल ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को लिखा पत्र
यमुना नदी का तेजी से बढ़ते जलस्तर को देखते हुए दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने अहम बैठक की. इससे पहले सीएम केजरीवाल ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिख कर पूरी स्थिति से भी अवगत कराया. उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि दिल्ली में G20 शिखर सम्मेलन होना है. इसको देखते हुए हथिनीकुंड से सीमित मात्रा में पानी छोड़ा जाना चाहिए, ताकि यमुना का जलस्तर और न बढ़े.

एनडीआरएफ की 12 टीमें तैनात
दिल्ली में यमुना के बढ़े हुए जलस्तर ने 45 सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है. केंद्रीय जल आयोग के मुताबिक यमुना का जलस्तर शाम चार बजे तक 207.71 मीटर पर पहुंच गया है. दिल्ली में निचले इलाकों में बाढ़ के संभावित खतरे को देखते हुए दिल्ली सरकार ने इलाका खाली करा दिया है. वहीं, सुरक्षा के लिहाज से एनडीआरएफ की 12 टीमों को तैनात किया गया है. दिल्ली सरकार ने किसी भी आफत से निपटने की पूरी तैयारी की है.बता दें, यमुना नदी का जलस्तर बढ़ने से नोएडा के कई क्षेत्रों में बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं. यमुना नदी के करीब में नोएडा के जो क्षेत्र है, वहां पानी जमा होने लगा है.

यमुना के जलस्तर ने तोड़ा 45 सालों का रिकॉर्ड
दिल्ली में यमुना का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है. इससे पहले यमुना का जल स्तर 1978 में 207.49 मीटर तक पहुंच गया था और अब इस रिकॉर्ड को तोड़ते हुए जलस्तर 207.55 मीटर तक पहुंच गया है. यमुना के जलस्तर को लेकर केजरीवाल ने एक ट्वीट कर कहा कि केंद्रीय जल आयोग ने आज यमुना का जलस्तर 207.72 मीटर तक पहुंचने का अनुमान जताया है. दिल्ली के लिए यह अच्छी खबर नहीं है. केजरीवाल ने कहा कि हथिनी कुंड बैराज में असामान्य रूप से अधिक मात्रा में पानी छोड़े जाने के कारण यमुना का स्तर बढ़ रहा है. केंद्र से यह सुनिश्चित करने का आग्रह किया जाता है कि यमुना का जलस्तर और न बढ़े.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.