कौन हैं मुस्लिम नेता रिकमन मोमिन ? पीएम मोदी के इस प्रशंसक को बीजेपी ने बनाया मेघालय का अध्यक्ष

5

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने अपने राज्यसभा सदस्य एस सेल्वगनबथी को पार्टी की पुडुचेरी इकाई का अध्यक्ष नियुक्त किया है. वहीं बीजेपी ने अपनी नगालैंड इकाई के उपाध्यक्ष को प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया है. पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह की ओर से जारी अलग अधिसूचना के अनुसार बीजेपी ने रिकमन मोमिन को पार्टी की मेघालय इकाई का अध्यक्ष नियुक्त किया है. पार्टी की अधिसूचना के अनुसार बीजेपी प्रमुख जे पी नड्डा ने इन नियुक्तियों को मंजूरी दी है. इन तीनों प्रदेशों में से एक प्रदेश की खास चर्चा अब होने लगी है. जी हां…वह प्रदेश मेघालय है. दरअसल, रिकमन मोमिन को बीजेपी ने मेघालय इकाई का अध्यक्ष बनाया जिसके बाद उनके बारे में लोग जानना चाहते हैं.

जानें कौन हैं रिकमन मोमिन

रिकमन मोमिन जैसा नाम से ही पता चल रहा है कि वे मुस्लिम समुदाय से आते हैं, उन्हें बीजेपी ने मेघालय इकाई का अध्यक्ष नियुक्त किया है. जिस मुस्लिम नेता रिकमन मोमिन को प्रदेश की कमान सौंपी गई है, उनकी दिल्ली के नेताओं में जबरदस्त पकड़ बताई जा रही है. साल 2022 में, बीजेपी ने मेघालय की तुरा लोकसभा सीट से मोमिन को चुनावी मैदान में उतारा था. रिकमन मोमिन पीएम नरेंद्र मोदी के जबरदस्त प्रशंसक माने जाते हैं. वे पेशे से एक व्यापारी हैं. मोमिन मीडिया में कई बार इस बात को साफ तौर पर कह चुके हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से प्रभावित होकर ही उन्होंने राजनीति में कदम रखने का काम किया है.

अर्नेस्ट मावरी को क्यों हटाया गया

मेघालय में इतने बड़े बदलाव के बाद लोगों के मन में सवाल उठ रहा है कि बीजेपी ने इतना बड़ा फैसला क्यों लिया ? यदि आपको याद हो तो मेघालय बीजेपी के पूर्व प्रमुख अर्नेस्ट मावरी का बयान कुछ दिनों पहले आया था. इसमें उन्होंने कहा था कि पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व इस बात पर फैसला करेगा कि उन्हें पद पर बने रहना चाहिए या नहीं? आगे उन्होंने कहा था कि मैंने अपना तीन साल का कार्यकाल पूरा कर लिया है. मैं इस पद पर आगे रहूंगा या नहीं, इसका फैसला केंद्रीय नेतृत्व करेगा. मारवी का उक्त बयान बीजेपी विधायक एएल हेक के उस बयान के बाद आया था जिसमें उन्होंने कहा था कि मावरी को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाने का कदम हटाया जा सकता है.

पूर्वी और पूर्वोत्तर राज्यों पर बीजेपी का फोकस

आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव को लेकर सभी पार्टियां तैयारी में जुट चुकी है. इस बीच बीजेपी पूर्वी और पूर्वोत्तर भारत के राज्यों पर ज्यादा फोकस कर रही है. इस क्षेत्र के 12 राज्यों के बीजेपी के वरिष्ठ नेता लोकसभा चुनाव के संबंध में रणनीति बनाने के लिए गुवाहाटी में जुटे थे. एक नजर पूर्वोत्तर के आठ राज्यों पर डालें तो इस क्षेत्र में कुल 25 लोकसभा सीट हैं, जिनमें असम में सबसे ज्यादा 14 सीट हैं. अरुणाचल प्रदेश, मेघालय, मणिपुर तथा त्रिपुरा में लोकसभा की दो-दो सीटें हैं, वहीं मिजोरम, नागालैंड तथा सिक्किम में एक-एक सीट है. अब बात पूर्वी राज्यों की करें तो पश्चिम बंगाल में लोकसभा की 42 सीट, बिहार में 40 सीट, ओडिशा में 21 और झारखंड में 14 सीट हैं जिसको जीतने के लिए भाजपा पूरा जोर लगा रही है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.