Rajasthan Politics: ‘आज हम धमाका करेंगे’, राजेंद्र गुढ़ा ने विधानसभा जाने से पहले कही थी ये बात

81

Rajasthan Politics : राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजेंद्र गुढ़ा को मंत्री पद से बर्खास्त कर दिया है जिसके बाद से प्रदेश की सियासत तेज हो चली है. राजेंद्र गुढ़ा द्वारा विधानसभा में अपनी ही सरकार के खिलाफ बयान पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा का बयान सामने आया है. उन्होंने कहा कि हमें जानकारी मिली है कि राजेंद्र गुढ़ा ने किसी नेता को कहा था कि आज हम धमाका करेंगे. इसमें कहीं तार तो नहीं जुड़े हैं, इस प्रकार की शंका व्यक्त की जा रही है. हम इसकी जांच करेंगे कि ये साजिश तो नहीं थी.

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि कैबिनेट में किसी को शामिल करना या बाहर करना राज्य के सीएम का अधिकार है. यही काम राज्य के सीएम (अशोक गहलोत) ने भी किया है. वहीं मामले पर सूबे के सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि यह हमारी पार्टी का अंदरूनी मामला है और इस पर हम अपने हिसाब से चर्चा करते हैं.

राजेंद्र सिंह गुढ़ा को राजस्थान के मंत्री पद से बर्खास्त किये जाने के सवाल पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि यह कांग्रेस पार्टी का अंदरूनी मामला है. इस पर हम अपने हिसाब से देखते हैं और निर्णय लेते हैं. मुख्य विपक्षी दल बीजेपी द्वारा कानून व्यवस्था, पेपर लीक सहित कई मुद्दों को लेकर राज्‍य सरकार पर निशाना साधे जाने पर सीएम गहलोत ने कहा कि ये माहौल खराब कर रहे हैं इनके पास कहने के लिए कुछ नहीं है. ये बस रटी-रटाई बातें करते नजर आ रहे हैं. हमने विकास में कमी रखी हो तो बताएं. हमारी योजनाओं और फैसलों से घबरा कर भाजपा के लोगों ने तय किया कि राज्‍य सरकार को किस तरह से बदनाम किया जाए.

मंत्री राजेंद्र गुढ़ा को बर्खास्त किया गया

आपको बता दें कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार रात प्रदेश के मंत्री राजेंद्र गुढ़ा को बर्खास्त कर दिया था. राजभवन की ओर से इस बात की पुष्टि बीती रात की गयी थी. गुढ़ा ने शुक्रवार को विधानसभा में महिला अत्याचार के मुद्दे पर अपनी ही सरकार को घेरा था, इसके कुछ ही घंटे बाद यह कार्रवाई की गयी. राजभवन के प्रवक्ता ने इस बाबत जानकारी दी कि गुढ़ा को बर्खास्त करने के बारे में मुख्यमंत्री की अनुशंसा को राज्यपाल ने तत्काल प्रभाव से स्वीकार कर लिया है.

मंत्री गुढ़ा ने महिला अत्याचार के मुद्दे पर अपनी ही सरकार को घेरा

राजस्थान के पूर्व राज्य मंत्री राजेंद्र गुढ़ा ने महिला सुरक्षा और उन पर अत्याचार के मुद्दे पर विधानसभा में अपनी ही पार्टी की सरकार पर सवाल उठाये थे. राजस्थान विधानसभा में राजस्थान न्यूनतम आय गारंटी विधेयक 2023 पर चर्चा के दौरान कांग्रेस विधायकों ने मणिपुर में हिंसा के मुद्दे पर तख्तियां लहराईं. इसके बाद राजेंद्र गुढ़ा ने अपनी ही सरकार पर सवाल उठाया और कहा कि राजस्थान में, ये सच्चाई है कि हम महिलाओं की सुरक्षा में असफल हो गये, और राजस्थान में जिस तरह से अत्याचार बढ़े हैं महिलाओं के ऊपर, मणिपुर के बजाय हमें अपने गिरेबान में झांकना चाहिए.

मैंने क्या गलत कहा?

राजस्थान कैबिनेट से हटाए जाने के बाद राजेंद्र सिंह गुढ़ा ने मीडिया के सामने प्रतिक्रिया दी. उन्होंने कहा कि उन्हें सच बोलने की सजा दी गयी है. महिलाओं के खिलाफ अपराध में राजस्थान नंबर एक स्थान पर है. मैंने क्या गलत कहा? मुझे सच बोलने की सजा दी गयी है. आगे उन्होंने कहा कि जनता मेरे साथ है और आगे भी रहेगी, मैं उनके लिए काम करूंगा. चाहे वह (अशोक गहलोत) मुझे कैबिनेट से हटाएं या जेल भेजें, मैं जब तक जिंदा हूं, बोलना नहीं छोड़ सकता हूं. मीडिया के समक्ष उन्होंने एक बार फिर से दोहराया कि हमारे राज्य में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं. महिलाओं पर अत्याचार में राजस्थान नंबर एक है. राज्य सरकार महिलाओं को सुरक्षा देने में विफल रही है.

बीजेपी ने साधा निशाना

बीजेपी ने कहा है कि सच बोलने पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने मंत्री राजेंद्र गुढ़ा को बर्खास्त कर दिया जो दिखाता है कि कांग्रेस महिलाओं के खिलाफ अपराध के मुद्दे पर कितनी गंभीर है.

राजेंद्र गुढ़ा के बारे में जानें

राजेंद्र गुढ़ा उन छह विधायकों में से एक हैं जिन्होंने 2018 का विधानसभा चुनाव बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की टिकट पर लड़ा था और जीत दर्ज की, लेकिन बाद में वे कांग्रेस में शामिल हो गए. गुढ़ा झुंझुनूं जिले की उदयपुरवाटी विधानसभा सीट से विधायक हैं. गुढ़ा पहली बार 2008 में बसपा की टिकट से चुनाव लड़े थे. पिछले कुछ महीनों में गुढ़ा सचिन पायलट के पक्ष में बयान देते नजर आये थे. उनके ट्विटर वॉल पर भी सचिन पायलट की तस्वीरें देखने को मिलती है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.