Weather Updates: हिमाचल प्रदेश में बारिश से तबाही! 55 लोगों की मौत, उत्तराखंड में भी हाहाकार

10

Weather Updates: हिमाचल प्रदेश लगातार हो रही बारिश से आम जनजीवन बुरी तरह बाधित है. भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने तेज बारिश को लेकर हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के कई इलाकों के लिए रेड अलर्ट जारी किया है. मौसम विभाग का अनुमान है कि अगले 24 घंटों में दोनों प्रदेश के कई इलाकों में भारी से बहुत भारी बारिश होने की संभावना है. गौरतलब है कि बीते कुछ दिनों से हिमाचल और उत्तराखंड में लगातार बारिश हो रही है. हिन्दुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, हिमाचल प्रदेश के सीएम सुक्खू ने कहा है कि हिमाचल प्रदेश में भूस्खलन, बादल फटने और भारी बारिश के कारण मकान ढहने जैसी घटनाओं में जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 55 हो गयी है. वहीं, बताया जा रहा है कि मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है.

शिमला में भी बढ़ी मृतकों की संख्या
इधर, शिमला में शिव मंदिर से मंगलवार को एक और शव बरामद हुआ है. इसके बाद मरने वालों की संख्या बढ़कर 15 हो गई है. बता दें, समर हिल और फागली में भूस्खलन के बाद मिले शवों की संख्या बढ़कर 15 हुई है, वहीं 10 से अधिक लोगों के अब भी मलबे में दबे होने की आशंका जताई जा रही है. इधर, हादसे के बाद से ही राहत और बचाव कार्य जारी है. राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF), पुलिस और राज्य आपदा मोचन बल (SDRF) समेत सेना ने सुबह करीब छह बजे समरहिल में बचाव अभियान फिर से शुरू किया है. गौरतलब है कि शिव मंदिर में सुबह करीब सवा सात बजे जब भूस्खलन हुआ तो सावन महीने के कारण बड़ी संख्या में श्रद्धालु वहां मौजूद थे. यहां समर हिल के समीप भूस्खलन की चपेट में 50 मीटर लंबा पुल आ जाने के कारण, यूनेस्को विश्व धरोहर शिमला-कालका रेलवे लाइन क्षतिग्रस्त हो गयी.

बारिश और भूस्खलन से मची है हिमाचल प्रदेश में तबाही
बीते कई दिनों से हो रही मूसलाधार बारिश और जगह-जगह हो रहे भूस्खलन के कारण हिमाचल प्रदेश के कई इलाकों में तबाही मची है. इसी कड़ी में स्टेशन मास्टर जोगिंदर सिंह ने कहा कि शिमला से करीब छह किलोमीटर पहले समर हिल के पास कंक्रीट का पुल पूरी तरह नष्ट हो गया. इसके अलावा पांच से छह जगहों पर रेल मार्ग को काफी क्षति पहुंची है. सबसे ज्यादा नुकसान शिमला और शोगी के बीच हुआ है. इसके अलावा राज्य में 12 में से 11 जिलों में 857 सड़कों पर यातायात अवरुद्ध है और 4285 ट्रांसफार्मर और 889 जलापूर्ति योजनाएं बाधित हैं. राज्य आपात अभियान केंद्र के अनुसार, 22 जून से 14 अगस्त तक मानसून के दौरान हिमाचल प्रदेश को 7171 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है. राज्य में मानसून के दौरान बादल फटने तथा भूस्खलन की कुल 170 घटनाएं हुई हैं और करीब 9,600 मकान आंशिक रूप से या पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए हैं.

वहीं होगा सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन

हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश के कारण 15 अगस्त को भी विशेष कार्यक्रम का आयोजन नहीं किया गया. सीएम सुक्खू ने पूर्व संध्या पर ही कहा था कि राज्य में 15 अगस्त को सांस्कृतिक समारोह का आयोजन नहीं किया जाएगा. बारिश के कारण सादे समारोह का आयोजन किया गया. बीते दिनों से जारी बारिश के कारण कई इलाकों में तबाही का मंजर दिखाई दे रहा है. वहीं, भारी बारिश के कारण प्रदेश के सभी स्कूल और कॉलेज को भी बीते दिन सोमवार को बंद रखा गया था. राज्य के आपात अभियान केंद्र के अनुसार, आपदा के कारण राज्य में 752 सड़कें बंद कर दी गयी हैं. कई जगहों पर भूस्खलन की भी रिपोर्ट आयी है.

उत्तराखंड के इलाकों में बारिश का कहर देखने को मिल रहा है. मूसलाधार बारिश के कारण चारधाम यात्रा 15 अगस्त तक के लिए स्थगित कर दी गयी है. वहीं, बारिश और विभिन्न बारिश गतिविधियों के कारण पांच लोगों की मौत हो गई है. वहीं, नौ अन्य लोग लापता हो गए हैं. लगातार बारिश के कारण राष्ट्रीय राजमार्ग सहित कई सड़कें भूस्खलन के कारण अवरुद्ध हो गयी तथा गंगा सहित प्रदेश की छोटी-बड़ी नदियां उफान पर आ गई जिससे बने बाढ़ जैसे हालात के चलते नदियों के किनारे रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया. राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र से मिली जानकारी के अनुसार, मदमहेश्वर पैदल मार्ग पर राशि गौंडार पुल टूटने की सूचना है जिसके कारण वहां 100 से 150 यात्री फंस गए हैं.

भाषा इनपुट से साभार

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.