बांग्लादेश के तट से टकराने को तैयार चक्रवातीय तूफान ‘मिधिली’, इन राज्यों में होगी भारी बारिश

8

भुवनेश्वर/कोलकाता : बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना गहरे दबाव का क्षेत्र शुक्रवार को एक चक्रवाती तूफान में बदल गया और 80 किमी प्रति घंटे की अधिकतम रफ्तार के साथ इसके बांग्लादेश के तट पर पहुंचने से पहले सुंदरवन से गुजरने के आसार हैं. भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) की ओर से जारी बुलेटिन में कहा गया है कि चक्रवाती तूफान ‘मिधिली’ 17 नवंबर की रात या 18 नवंबर की सुबह बांग्लादेश तट को पार कर सकता है. मौसम विभाग ने शुक्रवार को चेतावनी जारी कर मछुआरों को 18 नवंबर तक उत्तरी बंगाल की खाड़ी और पश्चिम बंगाल के तटों के पास समुद्र में न जाने के लिए कहा है.

मिधिली तूफान में तब्दील हुआ गहरा दबाव का क्षेत्र

मौसम विभाग ने कहा कि उत्तरी बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना गहरे दबाव का क्षेत्र चक्रवाती तूफान मिधिली में तब्दील हो गया और यह उत्तर-उत्तर-पूर्व दिशा की ओर बढ़ रहा है, जो पश्चिम बंगाल के समुद्र तटीय दीघा से 200 किमी दक्षिण-दक्षिणपूर्व और बांग्लादेश में खेपुपाड़ा से 220 किमी दक्षिणपूर्व में है. विभाग ने कहा कि इसके उत्तर-उत्तरपूर्व की ओर बढ़ने का अनुमान है और यह 17 नवंबर की रात या 18 नवंबर की सुबह 60 से 80 किमी प्रति घंटे की रफ्तार वाली हवाओं के साथ खेपुपाड़ा के करीब बांग्लादेश तट को पार कर सकता है.

किसने रखा मिधिली नाम

मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार, इस तूफान को ‘मिधिली’ नाम मालदीव द्वारा दिया गया है. अरब सागर और बंगाल की खाड़ी के चक्रवातों से प्रभावित देश बारी-बारी से एक क्रम में चक्रवातों के नाम देते हैं. इस बीच, मौसम विभाग ने मछुआरों को शनिवार तक उत्तरी बंगाल की खाड़ी और पश्चिम बंगाल के तटों के आसपास समुद्र में न जाने की चेतावनी दी है.

ओडिशा सतर्कता बरतने का आदेश

आईएमडी का कहना है कि चक्रवात ‘मिधिली’ का ओडिशा पर कोई बड़ा प्रभाव पड़ने के आसार न के बराबर हैं, क्योंकि यह राज्य के तट से 150 किलोमीटर ऊपर से गुजरेगा. हालांकि, आईएमडी वैज्ञानिक उमाशंकर दास ने कहा कि केंद्रपाड़ा और जगतसिंहपुर जैसे कुछ जिलों में शुक्रवार को भारी बारिश होने का अनुमान है. इस बीच, ओडिशा के विशेष राहत आयुक्त (एसआरसी) ने चक्रवात के मद्देनजर सभी जिला अधिकारियों को सतर्कता बरतने को कहा है. एसआरसी सत्यव्रत साहू ने कहा कि हम किसी भी तरह की लापरवाही नहीं बरतना चाहते और सतर्कता बरती जा रही है.

इन राज्यों में बारिश

मौसम विभाग ने कहा कि चक्रवाती तूफान से पश्चिम बंगाल के तटीय जिलों और पूर्वोत्तर राज्यों में भारी बारिश होने का अनुमान है. मौसम कार्यालय ने कहा कि शुक्रवार को पश्चिम बंगाल के तटीय जिलों पूर्व मेदिनीपुर, दक्षिण 24 परगना और उत्तर 24 परगना में अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश होने की संभावना है. इसने कहा कि इस मौसमी गतिविधि के कारण शुक्रवार को पूर्वोत्तर राज्यों मिजोरम और त्रिपुरा, नगालैंड, मणिपुर, दक्षिण असम और पूर्वी मेघालय में शनिवार तक बहुत भारी बारिश होने का अनुमान है. इस मौसम के दौरान दूसरी बार गहरे दबाव का क्षेत्र बना है. मौसम पूर्वानुमानकर्ता स्काईमेट के अनुसार, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के कुछ तटीय स्थानों जैसे सातपाड़ा, पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, भद्रक, बालेश्वर, बारीपदा, दीघा, कोंटाई, डायमंड हार्बर, हल्दिया, नंदीग्राम और दक्षिण 24 परगना में तूफानी मौसम और भारी बारिश की आशंका है. मौसम विज्ञानी ने कहा कि मेदनीपुर, हावड़ा और कोलकाता डिप्रेशन के केंद्र से अपेक्षाकृत सुरक्षित दूरी बनाए रखेंगे. हालांकि, मध्यम या हल्की बारिश के साथ आसमान में बादल छाए रहने की संभावना है.

हवा की चेतावनी

मौसम विभाग ने गुरुवार को तमिलनाडु के साथ-साथ दक्षिण पश्चिम बंगाल की खाड़ी के ऊपर 35-45 किमी प्रति घंटे से लेकर 55 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने की संभावना जाहिर की है. इसने आंध्र, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटों पर 40-50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तूफानी हवा चलने और 60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार तक चलने का भी अनुमान लगाया है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.