Gyanvapi Masjid Case: 30 साल बाद खुला व्यास जी का तहखाना, सफाई के बाद हुई पूजा, देखें तस्वीरें

4
01021 pti02 01 2024 000321a
व्यास जी का तहखाना

वाराणसी जिला अदालत द्वारा हिंदुओं को ज्ञानवापी परिसर स्थित व्यास जी के तहखाने में पूजा का अधिकार दिये जाने के चंद घंटे बाद बुधवार देर रात तहखाने को खोलकर उसकी साफ सफाई की गई और फिर वहां पूजा की गई. गुरुवार को सुबह से ही लोग वहां पहुंचने लगे और पूजा दर्शन करने लगे.

व्यास जी में पूजा का अधिकार मिलने के बाद भक्तों में खुशी की लहर

काशी विश्वनाथ ट्रस्ट के कर्मचारियों ने तहखाने के अंदर सफाई और शुद्धिकरण किया

व्यास ने बताया कि काशी विश्वनाथ ट्रस्ट के कर्मचारियों ने सबसे पहले तहखाने के अंदर सफाई और शुद्धिकरण किया और फिर आचार्य गणेश्वर द्रविड़ ने कलश स्थापित किया. उन्होंने बताया कि इसके बाद मंत्रोच्चार कर गौरी-गणेश की आरती की गयी और सभी देवताओं का स्मरण कर पूजन किया गया, उन्हें नैवेद्य, फल अर्पित किए गए और भोग लगा कर आरती उतारी गई.

01021 pti02 01 2024 000154b
व्यास जी में पूजा का अधिकार मिलने के बाद सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी

काशी विश्वनाथ ट्रस्ट के अध्यक्ष प्रोफेसर नागेंद्र पांडेय ने बताया कि 31 साल बाद व्यास जी का तहखाना पूजा-पाठ के लिये, रात करीब साढ़े 10 बजे खोला गया और उसकी साफ-सफाई करायी गयी. पांडेय ने कहा, जैसा कि अदालत का आदेश था, उसका पालन करना भी जरूरी था तो जिला प्रशासन ने मुस्तैदी के साथ सारी व्यवस्था कर दी है. मुझे लगता है कि जो भी कमी रह गई है उसे धीरे-धीरे दूर कर लिया जाएगा. पांडेय ने बताया कि जिला अदालत के आदेश के बाद व्यास जी के तहखाने में पूर्व की तरह अब पूजा पाठ नियमित किया जाएगा.

व्यास जी में पूजा का अधिकार मिलने के बाद सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी

काशी विश्वनाथ के तर्ज पर होगी व्यास जी की पूजा

बाबा श्री काशी विश्वनाथ की पांच बार नियमित पूजा होती है, वैसे ही व्यास जी तहखानों में देवी देवताओं की राग भोग, आरती कराई जाएगी. पांडेय ने बताया कि पूजा पाठ के लिए वहां श्री काशी विश्वनाथ मंदिर न्यास के पुजारियों की टीम लगाई जाएगी, जिस पुजारी की जब ड्यूटी होगी वो वहां पूजा पाठ करेंगे.

01021 pti02 01 2024 000320b
व्यास जी में पूजा करते पुजारी

व्यास परिवार के सदस्यों ने अपनी सम्पूर्ण गद्दीदारी काशी विश्वनाथ मंदिर न्यास समर्पित कर दिया

न्यास अध्यक्ष ने बताया कि काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर जब बन रहा था तब व्यास परिवार के सदस्यों ने अपनी सम्पूर्ण गद्दीदारी काशी विश्वनाथ मंदिर न्यास को एक समझौते के तहत न्यास को समर्पित कर दिया था, इसलिए वहां पूजा पाठ कराने की जिम्मेदारी न्यास की ही है.

व्यास जी में पूजा का अधिकार मिलने के बाद ज्ञानवापी के बाहर भक्तों की भीड़

1993 के बाद से बंद थी व्यास जी की पूजा

तहखाने में वर्ष 1993 तक पूजा-अर्चना होती थी मगर उसी साल तत्कालीन मुलायम सिंह यादव सरकार ने इसे बंद करा दिया था.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.