उत्तराखंड: कब सिलक्यारा सुरंग से बाहर आएंगे मजदूर! जानें क्या है ताजा अपडेट

8

उत्तराखंड की निर्माणाधीन सिलक्यारा सुरंग ढहने के बाद से पूरे देश में मजदूरों के लिए दुआ मांगी जा रही है. इस सुरंग में 41 मजदूर फंसे हुए हैं. प्रधानमंत्री कार्यालय के पूर्व सलाहकार भास्कर खुल्बे ने गुरुवार को कहा कि उत्तराखंड सुरंग दुर्घटना बचाव अभियान 12-14 घंटों में पूरा होने की संभावना है. फंसे हुए 41 मजदूरों तक पहुंचने के बाद उन्हें एक-एक करके बाहर निकालने में तीन घंटे और लग सकते हैं. आपको बता दें कि यह पहली बार है जब बचाव अधिकारियों ने श्रमिकों के बचाव के लिए समय सीमा की घोषणा की है. वरिष्ठ अधिकारी ने घटना की जानकारी देते हुए बताया कि बचावकर्मियों ने लोहे की जाली हटा दी जो ड्रिलर्स का रास्ता रोकने का काम कर रही थी. लोहे की जाली के कारण बचाव अभियान में कई घंटों की देरी हुई. हमें इसे हटाने में छह घंटे लग गए, लेकिन अच्छी खबर यह है कि हम 45 मीटर तक की ड्रिलिंग के बाद आई बाधा को दूर करने में सफल रहे. उन्होंने कहा कि बचावकर्मी पाइपों की वेल्डिंग कर रहे हैं और जल्द ही ड्रिलिंग शुरू हो जाएगी.

यहां चर्चा कर दें कि दिवाली की सुबह यह हादसा हुआ जिसके बाद से राहत बचाव कार्य जारी है. सुरंग का एक हिस्सा 12 नवंबर को ढह गया था. पिछले 11 दिनों से 41 श्रमिक उसके अंदर फंसे हुए हैं जिन्हें निकालने के लिए युद्धस्तर पर बचाव अभियान जारी है. बचाव कार्य की निगरानी कर रहे प्रधानमंत्री कार्यालय के पूर्व सलाहकार भास्कर खुल्बे ने ताजा घटनाक्रम को लेकर मीडिया से बात की. उन्होंने कहा कि लोहे के सरिये के कारण उत्पन्न समस्या को दूर करने में सफलता मिली है. गैस कटर का इस्तेमाल कर सरिये को काट दिया गया है. आगे खुल्बे ने कहा कि बुधवार शाम मलबे के 45 मीटर अंदर तक ड्रिलिंग पूरी कर ली गयी थी लेकिन उसके बाद मलबे में लोहे का सरिया मिलने से पांच-छह घंटे काम रुक गया था.

अभियान के पूरा होने की समयसीमा का अनुमान लगाना उचित नहीं

राष्‍ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) की ओर से कहा गया है कि उत्तराखंड में सुरंग में फंसे लोगों को बचाने संबंधी अभियान के पूरा होने की समयसीमा का अनुमान लगाना उचित नहीं है. सुरंग से श्रमिकों को बचाने के लिए की जा रही ‘ड्रिलिंग’ में तीन-चार और बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है. सुरंग में फंसे 41 श्रमिकों को कुछ घंटों में या शुक्रवार सुबह तक बाहर निकाल लिए जाने की संभावना है. उत्तराखंड के सिलक्यारा में सुरंग स्थल पर 41 एम्बुलेंस तैनात हैं.

सुरंग के अंदर कैसे जीवित हैं मजदूर

इस बीच जो अच्छी खबर आई वह यह है कि मजदूरों को ऑक्सीजन, भोजन, पानी, दवाइयां तथा अन्य सामान पहुंचाया जा रहा है. सोमवार को डाली गयी पाइपलाइन के जरिए लगातार ये सामाग्री मजदूरों तक पहुंच रही है जिससे वे सुरंग के अंदर जीवित रहने में सक्षम हैं. सिलक्यारा में फंसे श्रमिकों के परिजनों ने उम्मीद जताई कि बचाव कार्य 23 नवंबर तक पूरा कर लिया जाएगा.

बचाव के बाद की योजना तैयार

उत्तरकाशी प्रशासन और अन्य एजेंसियों ने 12 दिनों से सुरंग के अंदर फंसे श्रमिकों को बचाने के बाद की योजना तैयार कर रखी है. उत्तरकाशी के एसपी अर्पण यदुवंशी ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए बताया कि हमारी बचाव कार्य योजना तैयार है. हमें उन्हें (बचाए गए श्रमिकों को) कहां ले जाना है, कैसे ले जाना है, इसको लेकर योजना तैयार है. प्रशासन ने 41 एम्बुलेंस की व्यवस्था की है जो सुरंग के बाहर इंतजार कर रही हैं.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.