त्र्यंबकेश्वर मंदिर की घटना पर धर्माचार्यों ने जताई चिंता, बोले-एकजुट होने का समय

12

मंदिरों और उनमें स्थापित मूर्तियों पर हमले की घटना पर महाराष्ट्र के नासिक जिले के श्री कालाराम मंदिर के आचार्य महामंडलेश्वर महंत सुधीरदासजी ने चिंता जताई है. हिंदू जनजागृति समिति के विशेष संवाद में उन्होंने देश में बीते दिनों हुई घटनाओं पर कहा कि हमें सतर्क रहने की जरूरत है. ये हमारे अस्तित्व से जुड़ा सवाल है. बता दें कि बीते हफ्ते नासिक के त्र्यंबकेश्वर मंदिर में दूसरे धर्म के लोगों ने जबरन घुसने की कोशिश की थी. इसके बाद धर्मगुरुओं ने मंदिरों की रक्षा के लिए एक कार्यक्रम का आयोजन किया.

मंदिर में चादर चढ़ाने की परंपरा कभी नहीं रही

इस अवसर पर श्री त्र्यंबकेश्वर पुरोहित संघ के अध्यक्ष मनोज थेटे ने कहा कि त्र्यंबकेश्वर में मुसलमानों के संदल की परंपरा वर्षों से है, लेकिन मंदिर के अंदर घुसकर धूप दिखाने और चादर चढ़ाने की प्रथा कभी भी नहीं थी. गौरतलब है कि 13 मई को कुछ लोगों ने इस शिव मंदिर में घुसने की कोशिश की थी और जबरदस्ती शिवलिंग पर चादर चढ़ाने का प्रयास किया था. हालांकि बाद में उन युवकों ने माफी मांग ली थी.

b8568ae4 e1e2 479c 9cd7 d4da86d86700
महंत श्री सुधीरदासजी महाराज

धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाना सही नहीं

इस संवाद कार्यक्रम में ‘हिंदू जनजागृति समिति’के समन्वयक आनंद जाखोटिया ने कहा कि त्र्यंबकेश्वर की घटना के बाद कुछ प्रसार माध्यम एक ‘नैरेटिव’ सेट कर रहे हैं कि हमने इस प्रथा-परंपरा का स्वागत किया है, जबकि कुछ कट्टर लोग इसका विरोध कर रहे हैं. हालांकि सच्चाई इससे अलग है. उन्होंने कहा कि भगवान शंकर में अगर किसी को आस्था है तो वे उसका प्रदर्शन नियमों के अनुसार ही करें, किसी की धार्मिक भावना को आघात पहुंचाने का हक किसी को भी नहीं है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.