कम नहीं हो रही कीमत! 2 लाख के टमाटर से भरी बोलेरो को चोरों ने किया हाइजैक, यहां तैनात किये गये थे बाउंसर

5

देश में टमाटर के दाम अभी भी आसमान छू रहे हैं. हालांकि सरकार ने विभिन्न जगहों पर सस्ते दर पर टमाटर की बिक्री शुरू की है, लेकिन इसके बाद भी लोग टमाटर की चोरी करने में जरा भी कुरेज नहीं कर रहे हैं. ताजा मामला कर्नाटक के बेंगलुरु का है, जहां टमाटर चोरी के आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. वहीं, तीन अन्य आरोपी अभी भी फरार है जिनकी पुलिस तलाश कर रही है. दरअसल, बेंगलुरु में बीते दिनों चोरों ने 2.5 टन टमाटर से लदे एक मिनी ट्रक को हाइजैक कर लिया था.

किसान के साथ की थी मारपीट

दरअसल, चित्रदुर्ग जिले के चिक्काजाला में हिरियुर के एक किसान को एक ही परिवार के कुछ लोगों ने सड़क पर रोककर यह दावा करते हुए उससे पैसे वसूली करने की कोशिश की कि उसके ट्रक ने उनकी कार में टक्कर मारी है. पुलिस ने इस मामले में बताया कि जब पीड़ित मल्लेश ने पैसे देने से इनकार कर दिया, तो दंपति ने उसके साथ पहले मारपीट की फिर उसे वाहन से बाहर निकाल दिया और 2.5 लाख रुपये से अधिक कीमत के 2.5 टन टमाटर लेकर फरार हो गए थे.

पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्तार
वहीं, घटना के बाद पीड़ित मल्लेश ने पुलिस में इसकी शिकायत दर्ज की, जिसके बाद पुलिस हरकत में आई और टमाटर की चोरी में शामिल एक दंपत्ति को गिरफ्तार कर लिया है. बताया जा रहा है कि दंपत्ति तमिलनाडु का रहने वाला है. पुलिस ने यह भी बताया कि वेल्लोर निवासी दंपति राजमार्गों पर लूटपाट करने वाले एक गिरोह के सदस्य हैं. पुलिस ने बताया कि किसान की शिकायत पर आरएमसी यार्ड पुलिस ने गिरोह का पता लगाया और आरोपी भास्कर और उसकी पत्नी सिंधुजा को गिरफ्तार कर लिया. वहीं इस मामले में अन्य तीन आरोपी अब भी फरार है. पुलिस फरार आरोपियों की गिरफ्तारी का प्रयास कर रही है.

महाराष्ट्र में भी किसान के पास से 400 किलो टमाटर चोरी
गौरतलब है कि टमाटर की चोरी की घटनाएं देश में काफी बढ़ गई है. इससे पहले महाराष्ट्र के पुणे में भी एक किसान के पास से चोरों ने 400 किलोग्राम टमाटर पर तथाकथित रूप से हाथ साफ कर लिया था.किसान ने पुलिस को बताया कि इस चोरी के कारण उसे करीब 20 हजार रुपये का नुकसान हुआ है. घटना पिछले रविवार का है. शिकायतकर्ता किसान अरुण धोमे ने पुलिस को बताया कि वह खेत से टमाटर तोड़ने के बाद मजदूरों की मदद से उसे शिरूर तहसील में अपने घर ले आया था. वो टमाटर को बाजार में बेचने की योजना बना रहा था. इसी दौरान रात में किसी ने तथाकथित रूप से उसके टमाटर की 20 पेटियां गायब कर दी .

टमाटर की सुरक्षा के लिए तैनात किये थे बाउंसर
टमाटर के भाव और बढ़ने और देश में हो रही टमाटर की चोरी और लूटपाट को देखते हुए एक शख्स ने टमाटर की निगरानी के लिए बाउंसर तैनात कर लिए थे. मामला यूपी का है, जहां समाजवादी पार्टी (सपा) के एक कार्यकर्ता ने सब्जी की अपनी दुकान पर टमाटर की निगरानी के लिए पहरेदारी के लिए कथित तौर पर बाउंसर तैनात किए थे. सपा कार्यकर्ता ने दो बाउंसर को तैनात किया था, ताकि खरीदारों को मोलभाव करते समय आक्रमक होने से रोका जा सके. बता दें, टमाटर की बढ़ती कीमतों के बीच सपा कार्यकर्ता ने अपनी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के जन्मदिन पर टमाटर की आकृति वाला का एक केक भी काटा था. फौजी ने बताया, टमाटर की ऊंची कीमतों के कारण, इसे खरीदते समय लोगों के बीच तीखी नोकझोंक होने की खबरें आ रही थीं. हमारी दुकान पर आने वाले लोगों ने भी ऐसा करने की कोशिश की. जब मैंने महसूस किया कि अब बहुत हो चुका, तब मैंने अपनी दुकान पर बाउंसर तैनात करने का फैसला किया.

सरकार बेच रही है सस्ता टमाटर
इधर, टमाटर की बढ़ती कीमतों के बीच सरकार की ओर से सस्ता टमाटर बेचा जा रहा है. सरकारी ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म ओएनडीसी की ओर से 22 जुलाई से ही राजधानी दिल्ली के लोगों के लिए सस्ती कीमतों पर टमाटर बेचा जा रहा है. इस पोर्टल पर केवल 70 रुपये किलो के हिसाब से टमाटर की बिक्री की जा रही है. इसके अलावा केंद्र सरकार 14 जुलाई से ही देश की अलग अलग जगहों पर मोबाइल वैन के जरिए सस्ते टमाटर की बिक्री कर रही है. भारतीय राष्ट्रीय उपभोक्ता सहकारी संघ लिमिटेड और भारतीय राष्ट्रीय कृषि सहकारी विपणन संघ लिमिटेड की ओर से मोबाइल वैन के जरिए सस्ते में टमाटर बेचा जा रहा है.

टमाटर की कीमतों में गिरावट की उम्मीद : सरकार
वहीं, सरकार ने उम्मीद जताई है कि आने वाले समय में टमाटर के दामों में गिरावट आ जाएगी. सरकार ने कहा कि महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश से नई फसल की अधिक आपूर्ति के साथ टमाटर की खुदरा कीमतों में गिरावट की उम्मीद है. मानसून की बारिश और अन्य कारणों से आपूर्ति श्रृंखला बाधित होने के कारण देश के कई हिस्सों में टमाटर की खुदरा कीमतें 200 से 250 रुपये प्रति किलोग्राम तक पहुंच गई हैं. बता दें, टमाटर की कीमतें कम करने के लिए सरकार ने टमाटर को किफायती दर पर बेच रही है.

बारिश के कारण बढ़ी टमाटर की कीमत
देश के विभिन्न क्षेत्रों में बीते कुछ दिनों में जो टमाटर की कीमत आसमान पर चढ़ी हुई है, उसका कारण बारिश है. दरअसल, कई इलाकों में लगातार बारिश होने से टमाटर की आपूर्ति पर प्रतिकूल असर पड़ा है. इस कारण सब्जियों की कीमतों में तेजी से इजाफा हुआ है. दिल्ली समेत देश के कुछ हिस्सों में टमाटर की खुदरा कीमतें 200 रुपये प्रति किलोग्राम तक पहुंच गई थी, कहीं-कहीं इसकी कीमत को साढ़े 3 सौ रुपये तक पहुंच गई थी. कारोबारियों ने कहा कि उत्पादक क्षेत्रों में भारी बारिश के कारण जलभराव हो जाने से टमाटर की फसल को काफी नुकसान पहुंचा है. जमीन के नीचे उगाई जाने वाली प्याज और अदरक जैसी सब्जियां भी खराब मौसम की चपेट में आ गई हैं.

मानसून के मौसम में बढ़ जाती हैं ज्यादातर सब्जियों की कीमतें
गौरतलब है कि मानसून में सब्जियों की कीमत में वैसे ही इजाफा हो जाता है. इस बार कई राज्यों में भारी बारिश के कारण टमाटर के भाव आसमान पर चढ़े हुए हैं. दिल्ली के आजादपुर सब्जी मंडी के सदस्य और आजादपुर टमाटर एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक कौशिक महंगे टमाटर को लेकर कहा था कि भारी बारिश के कारण दिल्ली में टमाटर की आपूर्ति बाधित हुई है, जिस कारण टमाटर के भाव बढ़े हुए हैं. उन्होंने कहा कि हर साल मानसून के मौसम में ज्यादातर सब्जियों की कीमतें बढ़ जाती हैं क्योंकि जलभराव के कारण कुछ फसलें खराब हो जाती हैं. साथ ही आवाजाही की भी समस्या रहती है.

टमाटर ने बनाया करोड़पति
टमाटर के बढ़े हुए भाव ने एक तरफ आम लोगों की थालियों से टमाटर गायब कर दिया है तो दूसरी ओर इसके विक्रेताओं के चेहरे लाल हो गये हैं. दिल्ली, बिहार, हिमाचल प्रदेश समेत कई राज्यों में टमाटर का भाव 250 रुपये पार कर गया था. टमाटर की कीमतों में इस उछाल से कई किसानों की लॉटरी लग गई है. हिमाचल के मंडी जिले के किसान को टमाटर की फसल ने करोड़पति बना दिया. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, मंडी के एक किसान जयराम ने टमाटर से 1 करोड़ 10 लाख रुपये हासिल किए हैं. उन्होंने बताया कि वो 50 सालों से अधिक समय से टमाटर की खेती कर रहे हैं.

पुणे के किसान ने कमाये 3 करोड़ रुपये
इधर महाराष्ट्र के पुणे के एक किसान के लिए टमाटर की खेती किसी बंपर लॉटरी से कम साबित नहीं हुई. गायकर नाम के किसान के लिए इस साल टमाटर की खेती बड़े लाभ का सौदा साबित हुआ है. पुणे के इस किसान ने तमाम चुनौतियों से पार कर पिछले एक माह में टमाटर की फसल बेचकर तीन करोड़ रुपये की कमाई की है. गायकर ने कहा कि उन्होंने जुन्नार तहसील के नारायणगांव में कृषि उपज मंडी समिति में तीन करोड़ रुपये में टमाटर के 18000 क्रेट बेचे हैं, जिससे उन्हें 3 करोड़ से ज्यादा की आमदनी हुई है.
भाषा इनपुट से साभार

विभिन्न शहरों में किस रेट से बिक रहा टमाटर

देश में बढ़ते टमाटर की कीमतों के बीच सरकार ने सब्सिडी के तहत 22 जुलाई से टमाटर 70 रुपये प्रति किलो के रेट से बेचने का एलान किया है. ओएनडीसी के मैनेजिंग डायरेक्टर टी कोशी ने यह जानकारी देते हुए कहा कि सरकार की ओर से यह बिक्री ओएनडीसी के जरिए देश की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में की जाएगी. गौरतलब है कि अभी भी कई शहरों में टमाटर के भाव आसमान छू रहे हैं. डिपार्टमेंट ऑफ कंज्यूमर अफेयर्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक पटना में टमाटर की कीमत 140 रुपये, जबकि नोएडा में 107 रुपये कीमत है. वहीं, कानपुर में टमाटर की कीमत 120 रुपय प्रति किलो है, जबकि वाराणसी में यह 145 प्रति किलों के भाव से बिक रहा है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.