टमाटर हुआ ‘ज्यादा लाल’, जानें कब कम होगी कीमत

47

इन दिनों सोशल मीडिया पर एक वर्ड जोरों से ट्रेंड कर रहा है जिसपर लोग लगातार प्रतिक्रिया दे रहे हैं. जी हां…हम बात कर रहे हैं सब्जियों में डाले जाने वाले सबसे अहम चीज की यानी टमाटर की, जिसकी कीमत आसमान छू रही है. देश की राजधानी दिल्ली सहित अन्य राज्यों में टमाटर की कीमत 100 रुपये के करीब हो गयी है. बेंगलुरु में टमाटर और अन्य सब्जियों की कीमतें काफी बढ़ गई हैं. एक विक्रेता ने बताया कि समय से बारिश ना होने के कारण ये दिक्कतें हो रही हैं. कीमतों में बढ़ोतरी का असर मिडिल क्लास और गरीब लोगों पर ज्यादा पड़ रहा है.

इधर गुजरात में लगातार बारिश होने के कारण नवसारी में टमाटर और सब्जियों की कीमतें आसमान छू रही हैं. एक थोक विक्रेता ने बताया कि अभी थोक में टमाटर की कीमत 60-70 रुपए किलो चल रहा है और अगले 15 दिनों में कीमत और बढ़ने के आसार हैं. ऐसा कम से कम 15 अगस्त तक चलेगा क्योंकि बारिश के कारण टमाटर की कमी है. 15 अगस्त के बाद जब नया माल आएगा तब कीमत कम होगी.

कब कम होगी टमाटर की कीमत

इधर सरकार को उत्पादक केंद्रों से आपूर्ति बढ़ने के साथ टमाटर की कीमतें अगले 15 दिनों में कम होने और एक महीने में सामान्य स्तर पर आ जाने की उम्मीद व्यक्त की है. हर घर में इस्तेमाल में आने वाली इस प्रमुख सब्जी की कई प्रमुख शहरों में कीमत 100 रुपये प्रति किलोग्राम से भी अधिक हो चुकी है. मामले पर उपभोक्ता मामलों के विभाग में सचिव रोहित कुमार सिंह ने जानकारी दी है. उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश के सोलन और सिरमौर जिलों से बेहतर आपूर्ति होने पर दिल्ली में टमाटर की खुदरा कीमतें तुरंत कम हो जाएंगी.

कहां कितनी है टमाटर की कीमत

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में टमाटर की खुदरा कीमत 80 रुपये प्रति किलोग्राम, मुंबई में 48 रुपये प्रति किलोग्राम, कोलकाता में 105 रुपये प्रति किलोग्राम जबकि चेन्नई में 88 रुपये प्रति किलोग्राम लोगों को मिल रहा है. इसके अलावा बेंगलुरु में टमाटर की कीमतें 54 रुपये प्रति किलोग्राम, भोपाल और लखनऊ में 100 रुपये प्रति किलोग्राम, शिमला में 80 रुपये प्रति किलोग्राम, भुवनेश्वर में 98 रुपये प्रति किलोग्राम और रायपुर में 99 रुपये प्रति किलोग्राम बाजार में उपलब्ध है.

टमाटर एक जल्द खराब होने वाला उत्पाद

बाजार के जानकारों की मानें तो टमाटर की कीमत में वृद्धि की घटना हर साल इसी समय देखने को मिलती है. हर देश में प्रत्येक कृषि वस्तु मूल्य चक्र में एक मौसमी स्थिति से गुजरती है. टमाटर एक जल्द खराब होने वाला उत्पाद है और मौसम एवं अन्य कारणों से टमाटर की आपूर्ति भी बाधित होने के कारण कीमत पर असर देखने को मिलता है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.