देश में कोरोना मरीजों के स्वस्थ होने की दर बढ़कर 77.32 फीसद पहुंची

0 99

देश के 35 जिलों में जांच बढ़ाने के निर्देश केंद्र सरकार ने पांच राज्यों और एक संघशासित प्रदेश के 35 जिलों में कोरोना की जांच में तेजी लाने के निर्देश दिए हैं।

नई दिल्ली। देश में शनिवार को रिकॉर्ड 73,642 कोरोना मरीज स्वस्थ होकर घर गए। अब तक करीब 32 लाख मरीज ठीक हो चुके हैं और स्वस्थ होने की दर बढ़कर 77.32 फीसद पर पहुंच गई। मृत्यु दर भी घटकर 1.72 फीसद पर आ गई, जो दुनिया में सबसे कम में से एक है।

सैंपलों की जांच के जरिये अधिक संख्या में मरीजों की पहचान

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने रविवार को बताया कि अब कुल संक्रमित मरीजों में से केवल 20.96 फीसद का ही अस्पतालों में इलाज चल रहा है। मंत्रालय ने कहा कि शनिवार को सतत दूसरे दिन 70 हजार से अधिक मरीज अस्पतालों से स्वस्थ होकर घर गए। मंत्रालय ने कहा कि केंद्र, राज्यों और संघशासित प्रदेशों की सरकारों के सतत प्रयासों और सैंपलों की जांच के जरिये अधिक से अधिक संख्या में मरीजों का जल्दी पता चल पा रहा है।

एम्स के सहयोग से पूरे देश में कोविड अस्पतालों में क्लीनिकल प्रबंधन क्षमता को बढ़ाया जा रहा

मंत्रालय ने कहा कि अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), नई दिल्ली के सहयोग से पूरे देश में कोविड अस्पतालों के आइसीयू में ड्यूटी दे रहे डॉक्टरों की क्लीनिकल प्रबंधन क्षमता को सतत बढ़ाया जा रहा है।

देश के 35 जिलों में जांच बढ़ाने के निर्देश

देश के 35 जिलों में जांच बढ़ाने के निर्देश केंद्र सरकार ने पांच राज्यों और एक संघशासित प्रदेश के 35 जिलों में कोरोना की जांच में तेजी लाने के निर्देश दिए हैं। इन 35 जिलों में महाराष्ट्र के 17, दिल्ली के सभी 11, बंगाल के चार, गुजरात का एक, पुडुचेरी का एक और झारखंड का एक जिला शामिल है।

कंटेनमेंट जोन में कोरोना के प्रसार को रोकने और जांच में तेजी लाने पर जोर

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कंटेनमेंट जोन में कोरोना के प्रसार को रोकने और जांच में तेजी लाने पर जोर दिया है, ताकि संक्रमण की दर को पांच फीसद से नीचे लाया जा सके। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने पांच राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के 35 जिलों में कोरोना संक्रमण को रोकने और उससे निपटने के उपायों की समीक्षा के दौरान ये बातें कही।

वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए हुई स्वास्थ्य सचिवों की समीक्षा बैठक

रविवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए हुई समीक्षा बैठक में बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, झारखंड, पुडुचेरी और दिल्ली के स्वास्थ्य सचिव भी मौजूद थे। इन 35 जिलों में बंगाल के कोलकाता, हावड़ा, उत्तरी 24 परगना, महाराष्ट्र के पुणे, नागपुर, अहमदनगर, जलगांव, सोलापुर, सतारा, औरंगाबाद, गुजरात का सूरत, झारखंड का पूर्वी सिंहभूम, पुडुचेरी और दिल्ली के सभी 11 जिले शामिल हैं। भूषण ने महामारी के प्रसार को रोकने के लिए जांच बढ़ाने और संक्रमितों के संपर्क में आए लोगों की पहचान करने पर जोर दिया। पहले से गंभीर रोगों से ग्रसित लोगों और बुजुर्गो पर अधिक ध्यान देने को भी कहा।