हंदवाड़ा में 48 घंटे में दूसरी बार आतंकी हमला, 3 जवान शहीद, 7 घायल.

0 133

श्रीनगर,  उत्तरी कश्मीर के हंदवाड़ा में आज शाम को कुछ आतंकवादियों ने हाइवे से गुजर रहे CRPF जवानों के एक गश्ती दल पर अचानक से हमला बोल दिया। इस हमले में तीन जवान शहीद व 7 जवान घायल हुए हैं। सभी घायलों को नजदीकी अस्पताल ले जाया गया है। शहीद जवानों की पहचान कांस्टेबल संतोष मिश्रा, कांस्टेबल चंद्र शेखर और कांस्टेबल अश्वनी कुमार यादव के रूप में हुई है। वहीं जवाबी कार्रवाई में एक आतंकवादी के मारे जाने की सूचना है। हालांकि अधिकारिक तौर पर इसकी पुष्टि होना बाकी है। हमले को अंजाम देकर आतंकी नजदीकी रिहायशी इलाके में छिप गए हैं। उनकी तलाश के लिए सर्च ऑपरेशन चलाया हुआ है।अंधेरे का फायदा उठाकर आतंकी वहां से बचकर न भाग जाएं इसके लिए सुरक्षाबलों ने वहां फल्ड लाइटें भी मंगवा ली हैं।

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने कहा है कि हंदवाड़ा में हुए आतंकवादी हमले में एक नागरिक भी मारा गया है। पहचाने जाने की पहचान करना। आतंकियों के भागने के रास्ते पर दूर एक शव मिला है।

हंदवाड़ा में पिछले 48 घंटों में आतंकवादियों का यह दूसरा हमला है। इससे पहले गत रविवार को हंदवाड़ा के छंजमुला इलाके में ही आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच हुई मुठभेड़ में सेना के कर्नल, मेजर, दो सिपाही और पुलिस का एसआई शहीद हो गए थे। हालांकि इस मुठभेड़ में सेना ने दो आतंकवादियों को भी मार गिराया था।

आज सीआरपीएफ के गश्ती पर आतंकवादियों ने यह हमला शाम करीब 5.38 बजे किया। कश्मीर में अपने पैर जमा रहे आतंकी संगठन द रजिस्टेंस फ्रंट  ने इसकी जिम्मेदारी ली है। उन्होंने कश्मीर की एक न्यूज एजेंसी में फोन कर इस बात की सूचना दी कि हंदवाड़ा में सीआरपीएफ गश्ती पर दल पर उनके संगठन के सदस्यों ने ही हमला किया है।

वहीं दूसरी ओर कश्मीर में ही जिला बडगाम के वगूरा नौगाम में भी आतंकवादियों द्वारा पावर ग्रिड स्टेशन में किए गए ग्रेनेड हमले में एक CISF जवान गंभीर रूप से घायल हो गया है। ग्रेनेड फेंक संदिग्ध आतंकी वहां से भागने में सफल रहा। ग्रिड की सुरक्षा में तैनात सीआइएसएफ के घायल जवान को तुरंत अस्पताल ले जाया गया जहां उसका इलाज चल रहा है। हालांकि सुरक्षाबलों ने नौगाम के वगूरा इलाके की घेराबंदी कर वहां भी तलाशी अभियान चलाया हुआ है। फिलहाल किसी आतंकी मुठभेड़ की सूचना नहीं है।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार सीआरपीएफ की 92 बटालियन का एक गश्ती दल जब हंदवाड़ा से गुजर रहा था तभी वंगाम करालगुंड इलाके में छिपे कुछ आतंकवादियों ने जवानों पर हमला बोल दिया। अचानक से किए गए इस हमले में दो जवान मौके पर ही शहीद हो गए जबकि आठ अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। दूसरे जवानों ने तुरंत घायलों को वहां से निकालते हुए नजदीकी अस्पताल पहुंचाया, जहां एक अन्य जवान जख्मों का ताव न सहते हुए शहीद हो गया जबकि सात अन्य का इलाज अस्पताल में चल रहा है। जवाबी कार्रवाई में एक आतंकवादी के मारे जाने की सूचना है। हालांकि सूत्रों का कहना है कि मारे गए संदिग्ध आतंकवादी के पास से कोई हथियार नहीं मिला है। मुठभेड़ समाप्त होने के बाद पुलिस यह जांच करेगी कि मारे जाने वाला व्यक्ति आतंकी था या फिर स्थानीय नागरिक। हमले के तुरंत बाद वहां से फरार हुए आतंकी वंगाम इलाके में छिप गए। कुछ ही देर बाद पुलिस की एसओजी, सेना और सीआरपीएफ जवानों का संयुक्त दल वहां पहुंच गया और उन्होंने वंगाम इलाके की घेराबंदी कर ली।

सेना के अनुसार वंगाम में आने व जाने वाले सभी मार्गों को सील कर दिया गया है जबकि आतंकवादियों की तलाश के लिए इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया हुआ है। अंधेरा होते देख सुरक्षाबलों ने वहां अतिरिक्त रोशनी का बंदोबस्त भी कर लिया है ताकि आतंकी अंधेरे का फायदा उठाकर वहां से निकलने में कामयाब न हो पाएं। सेना के एक अधिकारी ने बताया कि आतंकवादी किसी घर में छिपे हो सकते हैं, इसीलिए अब घर-घर की भी तलाशी ली जा रही है।