Tamil Nadu: सीएम स्टालिन ने की राज्यपाल आर एन रवि को हटाए जाने की मांग, राष्ट्रपति मुर्मू को लिखा पत्र

4

Tamil Nadu: तमिलनाडु के सीएम एम.के. स्टालिन ने राज्यपाल आर एन रवि के आचरण के खिलाफ राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को एक पत्र लिखा है. सीएम ने शिकायत करते हुए इस पत्र में लिखा कि, राज्यपाल सांप्रदायिक नफरत को भड़काते हैं और वह तमिलनाडु की शांति के लिए खतरा हैं. राज्य सरकार ने आज इस बात की जानकारी दी. सरकार की ओर से यहां जारी एक ऑफिशियल रिलीज़ के अनुसार, राष्ट्रपति मुर्मू को लिखे पत्र में स्टालिन ने आरोप लगाया कि रवि ने संविधान के आर्टिकल 159 के तहत ली गई पद की शपथ का उल्लंघन किया है.

राजनीतिक पक्षपात को करता है इंडीकेट

सीएम एम. के. स्टालिन ने 8 जुलाई को लिखे अपने पत्र में कहा, राज्यपाल आर एन रवि सांप्रदायिक नफरत को भड़का रहे हैं और वह तमिलनाडु की शांति के लिए खतरा हैं. सीएम ने पत्र में यह भी दावा किया कि हाल में राज्यपाल द्वारा मंत्री वी. सेंथिल बालाजी को मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने संबंधी कदम से उनके राजनीतिक झुकाव का पता चलता है. राज्यपाल ने बाद में सेंथिल बालाजी को बर्खास्त करने संबंधी अपने फैसले को वापस ले लिया था. अपने पत्र में स्टालिन ने कहा कि एक ओर रवि ने पूर्ववर्ती ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कषगम (अन्नद्रमुक) सरकार के पूर्व मंत्रियों के खिलाफ अभियोग चलाने की मंजूरी देने में देरी की वहीं, दूसरी तरफ सेंथिल बालाजी के मामले में शीघ्र कार्रवाई की जबकि उनके खिलाफ केवल जांच शुरू हुई थी, यह उनके राजनीतिक पक्षपात को इंडीकेट करता है.

राज्यपाल के पद पर रहने के लायक नहीं आर एन रवि

सीएम स्टालिन ने पत्र में जोर देकर कहा, राज्यपाल के व्यवहार और कदम ने साबित किया है कि वह पक्षपात करने वाले हैं और राज्यपाल के पद पर रहने के लायक नहीं है. रवि शीर्ष पद से हटाए जाने योग्य हैं. स्टालिन ने राष्ट्रपति से कहा कि वह उन पर छोड़ते हैं कि रवि को पद से हटाया जाए या नहीं. स्टालिन ने कहा कि राष्ट्रपति फैसला करें कि भारत के संविधान निर्माताओं की भावना और गरिमा पर विचार करने के बाद तमिलनाडु के राज्यपाल को पद पर बनाए रखना क्या वांछित और उचित होगा.

के अन्नामलाई ने इसे भ्रष्ट स्टालिन का रोना बताया

राज्य में चल रही सीएम बनाम राज्यपाल की लड़ाई को हाई लेवल पर ले जाने के लिए राज्यपाल को उनके राजनीतिक झुकाव के लिए बर्खास्त करने की मांग को लेकर तमिलनाडु बीजेपी प्रमुख के अन्नामलाई ने इस पत्र को भ्रष्ट स्टालिन का रोना बताया और बिंदुवार खंडन दिया. (भाषा इनपुट के साथ)

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.