Sushant Death Case: सुब्रमण्यम स्वामी का आरोप- सुशांत को दिया गया जहर, पोस्टमॉर्टम पर भी सवाल

0 103

नई दिल्ली अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले (Sushant Death Case) में भाजपा नेता व राज्यसभा सदस्य सुब्रमण्यम स्वामी (Subramanian Swamy) ने सनसनीखेज आरोप लगाए। उन्होंने ट्वीट किया कि मौत से पहले सुशांत को जहर दिया गया तथा पोस्टमॉर्टम में जानबूझकर इसलिए देरी की गई ताकि उनके पेट का जहर घुल जाए। वहीं, सुशांत परिवार के वकील विकास सिंह ने भी पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट पर सवाल उठाते हुए कहा है कि इसमें सुशांत के पेट में कुछ नहीं पाए जाने की बात हैरान करने वाली है।

स्वामी ने ट्वीट में कहा है, हत्यारे की शैतानी मानसिकता तथा उनकी पहुंच की बात अब धीरे-धीरे सामने आ रही है। सुशांत के पोस्टमॉर्टम में जानबूझकर देरी इसलिए की गई ताकि उनके पेट का जहर घुल जाए और उसकी पहचान नहीं हो पाए। समय आ गया है कि इसके लिए जिम्मेदार लोगों को पकड़ा जाए। इसके पहले स्वामी ने यह भी कहा था कि सीबीआइ सुशांत की महिला मित्र रिया चक्रवर्ती को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ करे।

सुशांत परिवार के वकील विकास सिंह का भी कहना है कि कोरोना काल में पोस्टमॉर्टम में देरी हो सकती है। लेकिन उनका मानना है कि यदि आप कुछ खाने के बाद कई घंटे तक जीवित रहते हैं तभी यह खून में घुल-मिल जाता है। परंतु इस मामले में मौत कुछेक घंटे में हो गई तो आपने जो खाया वह रक्त में नहीं जा सकता। ऐसे में पोस्टमॉर्टम में देरी का बहुत ज्यादा प्रभाव नहीं होता। फिर भी पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में यह कहा जाना कि सुशांत के पेट में कुछ नहीं पाया गया बहुत ही हैरान करने वाला है। इस कारण वह इस पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से बिल्कुल ही संतुष्ट नहीं हैं।

सुशांत के दोस्त और घरेलू सहायकों से फिर पूछताछ

दूसरी ओर, सीबीआइ ने सुशांत के दोस्त और फ्लैट में साथ रहने वाले सिद्धार्थ पिठानी, रसोइया नीरज सिंह तथा घरेलू सहायक दीपेश सावंत को मंगलवार को पूछताछ के लिए फिर बुलाया। तीनों ही सुबह मुंबई के सांताक्रूज क्षेत्र में डीआरडीओ के गेस्ट हाउस पहुंच गए थे। सीबीआइ के अधिकारी यहीं ठहरे हुए हैं।