खाड़ी देशों में NEET के परीक्षा केंद्र बनाए जाने पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, निर्देश को पास करने से किया इनकार

0 132

नई दिल्ली, सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र के उस निर्देश को पास करने से इनकार कर दिया है जिसमें खाड़ी देशों में NEET परीक्षा का केंद्र बनाने की बात कही गई थी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वंदे भारत मिशन के तहत छात्रों को भारत लाने पर विचार किया जाए।

 

NEET 2020 की परीक्षा के लिए विदेशों में परीक्षा केंद्र बनाने की मांग करते हुए दायर की गई याचिका को खारिज करने की मांग करते हुए मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया ने दलील दी थी कि छात्रों के पास ‘वंदे भारत मिशन’ के तहत भारत आने का विकल्प है। यह भी दलील दी गई थी कि अब परीक्षा को और स्थगित करने से शैक्षणिक समय-सारणी में बड़ा अंतर हो जाएगा, जो छात्रों के बाद के शैक्षणिक वर्षों को प्रभावित कर सकता है।

वहीं, दूसरी ओर NEET अंडरग्रेजुएट 2020 प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन करने वाले और दोहा, कतर में रहने वाले छात्रों के माता-पिता की तरफ से इस मामले में याचिका दायर की गई थी। इस मामले में केरल हाईकोर्ट के फैसले को भी चुनौती दी गई। केरल हाईकोर्ट ने खाड़ी देशों में नीट के लिए परीक्षा केंद्र बनाने की मांग वाली उनकी याचिका को खारिज कर दिया था।

बता दें कि नीट यूजी परीक्षा  को लेकर एनटीए यानी कि नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने साफ कर दिया है कि यह परीक्षाएं अपने शेड्यूल के मुताबिक ही होंगी। नीट यूजी की परीक्षा 13 सितंबर को आयोजित की जाएगी। अब इसके बाद एनटीए ने परीक्षाओं को लेकर सेफ्टी प्लान जारी कर दिया है। NTA ने देश भर में फैली महामारी कोविड- 19 संक्रमण को देखते हुए परीक्षा के लिए एडवाइजरी जारी की है।

गौरतलब है कि कोरोना महामारी के दौरान नीट और जेईई की परीक्षा कराए जाने पर कई पार्टी के नेताओं समेत छात्रों के संगठन भी परीक्षा के विरोध में उतर आए हैं। परीक्षा को अभी टालने की मांग की जा रही है।