Stock Market: लगातार दूसरे दिन सुस्त हुआ बाजार, बीएसई सेंसेक्स 299.48 अंक टूटा, LT-NTPC टॉप गेनर्स

6

Stock Market: भारतीय शेयर बाजारों में सोमवार को लगातार दूसरे कारोबारी सत्र में गिरावट रही और BSE सेंसेक्स करीब 300 अंक टूट गया. मुख्य रूप से प्रमुख शेयरों में भारी बिकवाली से बाजार में गिरावट रही. कारोबारियों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशकों की पूंजी निकासी तथा कच्चे तेल के दाम में तेजी से भी शेयर बाजार पर असर पड़ा. इसके अलावा निवेशकों को अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व की इस सप्ताह घोषित होने वाली मौद्रिक नीति समीक्षा का भी इंतजार है. तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 299.48 अंक यानी 0.45 प्रतिशत की गिरावट के साथ 66,384.78 अंक पर बंद हुआ. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 72.65 अंक यानी 0.37 प्रतिशत की गिरावट के साथ 19,672.35 अंक पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान यह 19,782.75 से 19,658.30 अंक के दायरे में रहा.

सेंसेक्स के 30 में 18 शेयर ने दिखाया हरा निशान

BSE सेंसेक्स के 30 में 18 शेयर लाभ में जबकि निफ्टी के 50 शेयरों में से 25 फायदे में रहे. सेंसेक्स के शेयरों में इंडसइंड बैंक, महिंद्रा एंड महिंद्रा, पावर ग्रिड और बजाज फिनसर्व 2.01 प्रतिशत तक मजबूत हुए. दूसरी तरफ नुकसान में रहने वाले शेयरों में आईटीसी, कोटक महिंद्रा बैंक, टेक महिंद्रा और रिलायंस इंडस्ट्रीज शामिल हैं. बाजार में LT-NTPC टॉप गेनर्स में शामिल हुए. एशिया के अन्य बाजारों में मिला-जुला रुख रहा. जापान का निक्की लाभ में जबकि हांगंकांग का हैंगसेंग और चीन का शंघाई कम्पोजिट नुकसान में रहे. यूरोप के प्रमुख बाजारों में शुरुआती कारोबार में मिला-जुला रुख रहा. अमेरिकी बाजार शुक्रवार को लाभ में रहे थे.

कच्चे तेल में दिखी तेजी

वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड 0.73 प्रतिशत की बढ़त के साथ 81.66 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया. शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशकों ने शुक्रवार को 1,988.77 करोड़ रुपये के शेयर बेचे थे. शुक्रवार को बाजार में छह दिन से जारी तेजी पर विराम लगा था और दोनों मानक सूचकांक एक प्रतिशत से अधिक नीचे आए थे. सेंसेक्स 887.64 अंक यानी 1.31 प्रतिशत की गिरावट के साथ 66,684.26 अंक पर बंद हुआ था. निफ्टी भी 234.15 अंक यानी 1.17 प्रतिशत लुढ़क कर 19,745 अंक पर बंद हुआ था.

रुपया 15 पैसे की बढ़त के साथ 81.83 प्रति डॉलर पर

भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में तेज उछाल से निवेशकों की धारणा मजबूत होने का असर रुपये पर देखने को मिला और भारतीय मुद्रा सोमवार को डॉलर के मुकाबले 15 पैसे बढ़कर 81.83 (अस्थायी) पर बंद हुई. अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 82 पर खुला और दिन के कारोबार में इसने 81.82 का निचला तथा 82.04 का ऊपरी स्तर देखा. रुपया शुक्रवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 81.98 पर बंद हुआ था. शेयरखान बीएनपी पारिबा के शोध विश्लेषक अनुज चौधरी ने कहा कि कच्चे तेल की कीमतों में नरमी और भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में तेज उछाल से रुपये को मजबूती मिली. भारतीय रिजर्व बैंक ने शुक्रवार को कहा कि 14 जुलाई को समाप्त सप्ताह में भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 12.74 अरब अमेरिकी डॉलर बढ़कर 609.02 अरब डॉलर पर पहुंच गया है. हालांकि, घरेलू शेयर बाजारों में कमजोर रुख और मजबूत अमेरिकी डॉलर ने रुपये की बढ़त को सीमित किया.

यूरोप और ब्रिटेन के निराशाजनक पीएमआई के बीच अमेरिकी डॉलर हुई तेज

अनुज चौधरी ने कहा कि यूरोप और ब्रिटेन के निराशाजनक पीएमआई आंकड़ों के बीच अमेरिकी डॉलर में तेजी आई, जिससे रुपये पर दबाव बना. इस बीच, छह प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले अमेरिकी डॉलर की स्थिति को दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक 0.19 प्रतिशत बढ़कर 101.26 पर पहुंच गया. वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड वायदा 0.74 प्रतिशत बढ़कर 81.67 डॉलर प्रति बैरल के भाव पर था. वैश्विक बाजारों में जोखिम से बचने की प्रवृत्ति और वैश्विक आर्थिक मंदी को लेकर बढ़ती चिंताओं से रुपये पर असर पड़ सकता है. उन्होंने उम्मीद जताई कि निकट अवधि में रुपया डॉलर के मुकाबले 81.50 से 82.40 के बीच कारोबार करेगा. घरेलू शेयर बाजारों की बात करें तो 30 शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स 299.48 अंक या 0.45 प्रतिशत गिरकर 66,384.78 अंक पर बंद हुआ. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 72.65 अंक या 0.37 प्रतिशत गिरकर 19,672.35 अंक पर आ गया. शेयर बाजार के अस्थायी आंकड़ों के मुताबिक, विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) ने शुक्रवार को शुद्ध रूप से 1,998.77 करोड़ रुपये के शेयर बेचे.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.