डैमेज कंट्रोल में जुटीं सोनिया गांधी, ‘नाराज’ आजाद को CWC बैठक के बाद किया फोन

0 145

नई दिल्ली, कांग्रेस कार्यसमिति (CWC) की बैठक में हंगामे के बाद कांग्रेस पार्टी डैमेज कंट्रोल की कवायद में लग गई हैं। नेतृत्व परिवर्तन को लेकर चिठ्ठी लिखने वाले नेताओं के अगुआ गुलाम नबी आजाद को मनाने के खुद पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी आगे आई हैं। समाचार एजेंसी एएनआइ ने सूत्रों के हवाले से जनाकारी दी है कि बैठक के तुरंत बाद उन्होंने आजाद से बात की और उन्हें आश्वासन दिया कि उनकी शिकायतों को सुना जाएगा।पार्टी की बैठक के बाद, कपिल सिब्बल, मनीष तिवारी, मुकुल वासनिक, आनंद शर्मा और शशि थरूर सहित कुछ कांग्रेसी नेता बैठक के लिए आजाद के आवास पर पहुंचे थे।

बता दें की आजाद समेत 23 वरिष्ठ नेताओं की ओर से बदलाव की मांग के साथ लिखे पत्र के कारण बने माहौल में सोमवार को हुई बैठक में खासी गहमागहमी देखने को मिली थी। बैठक में हालात तब बेकाबू होने लगे थे, जब राहुल ने पत्र लिखने वाले वरिष्ठ नेताओं पर भाजपा से साठगांठ का आरोप लगा दिया। प्रतिक्रिया में राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद और कपिल सिब्बल जैसे नेताओं ने आरोप साबित होने पर इस्तीफे तक की पेशकश कर दी। हालांकि, बाद में राहुल के सफाई दी और सार्वजनिक रूप से कांग्रेस ने इस बात का खंडन किया कि उन्होंने ऐसी कोई बात की थी। इसके बाद सिब्बल ने अपना ट्वीट वापस ले लिया और आजाद ने भी स्पष्टीकरण दिया।

मैराथन बैठक के बाद हुआ फैसला सोनिया गांधी ही संभालेंगी कमान

सीडब्ल्यूसी की मैराथन बैठक के बाद, यह निर्णय लिया गया कि सोनिया गांधी तब तक पार्टी के अंतरिम अध्यक्ष बनी रहेंगी जब तक एआइसीसी यानी अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की बैठक में नए अध्यक्ष का चुनाव नहीं हो जाता है। माना जा रहा है कि जनवरी में एआइसीसी की बैठक हो सकती है और उसमें नए अध्यक्ष का चुनाव होगा। प्रस्ताव में इसका भी जिक्र हुआ कि पार्टी फोरम से परे बात करना अनुशासनहीनता होगी और यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।