डॉलर की मजबूती एशिया की करेंसी के लिए बड़ी खतरे की घंटी, रसातल में पहुंचा येन, जानें रूपये की स्थिति

3

डॉलर (US Dollar) अपनी मजबूती से एक बार फिर से पूरी दुनिया के करेंसी पर हावी होने की तरफ बढ़ चली है. इसी के साथ एशियाई देशों के लिए खतरे की घंटी बज गयी है. दरअसल, निवेशकों को उम्मीद है कि फेडरल बैंक (Federal Bank) अमेरिका में ब्याज दरों को ऊंचा रखा जा सकता है. डॉलर की वैल्यू में लगातार सात हफ्तों से तेजी जारी है. ये 2018 के बाद से अभी तक की सबसे लंबी छलांग है. मगर, परेशानी ये है कि डॉलर की मजबूती से एशियाई देशों की करेंसी के पांव बाजार से उखड़ने लगे हैं. भारत समेत अन्य सभी देशों के लिए बड़ी चिंता का विषय बनी हुई है. अब बताया जा रहा है कि मंगलवार को जापान की करेंसी येन एक नये रिकार्ड नीचले स्तर को छू गयी है. यूरो डॉलर के मुकाबले जनवरी के सर्वकालिक निचले स्तर 1.0482 से नीचे गिर गया, क्योंकि सोमवार को जारी यूरोप और अमेरिका दोनों के विनिर्माण सर्वेक्षणों ने दोनों क्षेत्रों में विपरीत आर्थिक स्थितियों को उजागर किया. डॉलर इंडेक्स (Dollar Index) लगभग 0.5% बढ़कर 107.06 पर पहुंच गया, जो संक्षेप में 107.12 पर पहुंच गया, जो नवंबर 2022 के बाद इसका उच्चतम स्तर है.

खतरें को भाप रही जापानी सरकार

सोमवार को प्रकाशित एक सर्वेक्षण से संकेत मिलता है कि अमेरिकी विनिर्माण क्षेत्र उत्पादन और रोजगार में वृद्धि के साथ सितंबर में सुधार के करीब पहुंच गया है. सर्वेक्षण में फ़ैक्टरी इनपुट कीमतों में गिरावट का भी पता चला. अनुकूल आर्थिक आंकड़ों ने फेड के रुख का समर्थन किया कि ब्याज दरें लंबी अवधि तक ऊंची रहनी चाहिए, हालांकि, सरकारी शटडाउन को रोकने के लिए आखिरी मिनट में हुए समझौते ने अमेरिकी ऋण की मांग को कम कर दिया. इसके अतिरिक्त, अमेरिकी ट्रेजरी की पैदावार बढ़ने से डॉलर को फायदा हुआ. हाल के सप्ताहों में मजबूत अमेरिकी आर्थिक संकेतकों ने यह विश्वास बढ़ाया है कि फेड अपनी वर्तमान दर नीति को विस्तारित अवधि के लिए बनाए रखेगा. हालांकि, कई नीति निर्माताओं ने आगाह किया है कि यदि मुद्रास्फीति अनुमान के मुताबिक कम नहीं हो पाती है तो और सख्ती करना आवश्यक हो सकता है. डॉलर के हाल ही में मजबूत होने और मनोवैज्ञानिक रूप से महत्वपूर्ण 150 के स्तर के करीब पहुंचने के कारण येन को बढ़े हुए दबाव का सामना करना पड़ा है. इस स्तर को बाजारों द्वारा जापानी सरकार के लिए खतरे की रेखा के रूप में देखा जाता है और इससे हस्तक्षेप हो सकता है, जैसा कि पिछले साल हुआ था.

जापान के शीर्ष आर्थिक अधिकारियों ने एक और चेतावनी जारी की, जिसमें येन के कमजोर होने पर ‘तत्कालता की प्रबल भावना’ व्यक्त की गई. डॉलर के संदर्भ में, येन पिछली बार 149.80 पर कारोबार कर रहा था, जो रात के निचले स्तर 149.88 से थोड़ा ऊपर था. यूरो जोन पीएमआई सर्वेक्षण ने संकेत दिया कि 1997 में डेटा संग्रह शुरू होने के बाद से मांग में कमी देखी गई है. नतीजतन, एशियाई व्यापार के दौरान यूरो 1.0462 डॉलर तक गिर गया, जो पिछले साल दिसंबर के बाद से इसका सबसे निचला स्तर है. आखिरी बार पाउंड का मूल्य 16 मार्च को 1.20790 डॉलर था.ऑस्ट्रेलियाई डॉलर अपेक्षाकृत अपरिवर्तित रहा क्योंकि रिजर्व बैंक ऑफ ऑस्ट्रेलिया द्वारा दिन में बाद में अपने ब्याज दर निर्णय की घोषणा करने की उम्मीद थी. विश्लेषकों के रॉयटर्स सर्वेक्षण के अनुसार, ऑस्ट्रेलिया का केंद्रीय बैंक अपनी बेंचमार्क ब्याज दर 4.10% पर बनाए रख सकता है. हालांकि, अगली तिमाही में दरों में एक और बढ़ोतरी की उम्मीद है, जब तक कि मुद्रास्फीति लक्ष्य से ऊपर बनी रहती है, अधिकतम नकदी दर 4.35% होगी.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.