सीधी पेशाब कांड: पीड़ित दशमत को दी गयी आर्थिक मदद, कल सीएम शिवराज ने धोए थे पैर

1

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पेशाब घटना के पीड़ित युवक के पैर धोए और घटना पर दुख व्यक्त करते हुए उससे माफी मांगी. इसके एक दिन बाद यानी शुक्रवार को युवक को सहायता राशि प्रदान की गयी. इसकी जानकारी सीधी जिले के कलेक्टर ने सोशल मीडिया पर दी. अपने ट्विटर वॉल पर उन्होंने लिखा कि माननीय मुख्यमंत्री जी के निर्देशानुसार श्री दशमत रावत जी को 5 लाख रुपये की सहायता राशि तथा आवास निर्माण के लिए एक लाख 50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गयी है.

इससे पहले गुरुवार को सीएम शिवराज सिंह चौहान ने पीड़ित युवक के पैर धोए जिसका वीडियो भी सामने आया. मुख्यमंत्री ने यह भी आश्वासन दिया है कि अन्यायपूर्ण कृत्य करने वालों और गरीबों के खिलाफ गलत काम करने वालों को कड़ी सजा देने का काम प्रदेश की सरकार करेगी. पीड़ित दशमत रावत मुख्यमंत्री के आमंत्रण पर भोपाल स्थित मुख्यमंत्री के सरकारी आवास पर पहुंचे थे, जहां सीएम चौहान ने नीचे बैठकर दशमत को कुर्सी पर बिठाकर उसके पैर धोए.

पुलिस ने कुछ जानकारी ट्विटर से मांगी

इधर मध्य प्रदेश पुलिस ने ट्विटर को ईमेल किया है और उस व्यक्ति की जानकारी मांगी है जिसने सीधी जिले में एक आदिवासी पर पेशाब किये जाने की घटना के चित्र में कथित रूप से छेड़छाड़ करके इसे तिरंगे का अपमान करने वाला दर्शाया है. आपको बता दें कि पिछले दिनों एक वीडियो सामने आया था, जिसमें प्रवेश शुक्ला नामक व्यक्ति एक आदिवासी युवक पर पेशाब करता नजर आ रहा है. यह सोशल मीडिया पर वायरल हो गया और पूरे देश में इस घटना पर आक्रोश उत्पन्न हुआ. शुक्ला को गिरफ्तार कर लिया गया और उसके खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) लागू किया गया है.

मामले पर कांग्रेस है हमलावर

सीधी मामले को लेकर कांग्रेस प्रदेश की भाजपा सरकार पर हमलावर है. मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का पेशाब कांड के पीड़ित आदिवासी युवक के पैर धोना कैमरों के सामने किया. यह घटनाक्रम महज एक नाटक है और इससे उनके कार्यकाल के दौरान किये गये ‘‘पाप’’ नहीं धुलेंगे. आदिवासी युवक के साथ अमानवीय व्यवहार के लिए यह समुदाय चौहान को कभी माफ नहीं करेगा.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.