मंदिरों व पंडालों में कलश स्थापना के साथ शारदीय नवरात्र शुरू

0 75

नए दिल्ली (दिल्ली न्यूज़24) वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच शनिवार को मंदिरों, पंडालों में कलश स्थापना के साथ शारदीय नवरात्र शुरू हो गया। कलश स्थापना के पूर्व सुबह में विभिन्न जगहों पर गाजे-बाजे के साथ मंदिर प्रबंधकों व आयोजकों की ओर से कलश यात्रा निकाली गई। जिसमें भाग लेने वाली महिलाओं ने सिर पर जल भरे कलश को उठाकर इलाके का भ्रमण किया। इलाके के मंदिरों में देवी की स्तुति करते हुए भक्तों ने नवरात्र के पहले दिन देवी गौरी के शैलपुत्री स्वरूप की पूजा-अर्चना की। मंदिर के पुजारी के अनुसार श्वेत और दिव्य रुप की इस देवी के स्वरुप की पूजा करने से मन में विनम्रता और सौम्यता का विकास होता है और जीवन के कठिन संघर्षो से लड़ने की प्रेरणा मिलती है। यही वजह है कि व्रती पूरे भक्ति भाव के साथ पूजा-अनुष्ठान में लीन हो गए हैं।

उत्तरी बाहरी दिल्ली में नवरात्र के पहले दिन सुबह से देवी के दर्शन के लिए मंदिरों में श्रद्धालुओं के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया। इस अवसर पर मंदिरों के बाहर पूजा की थाल लिए व्रती श्रद्धालुओं की लंबी कतारें लगी रही। अहम बात यह रही कि कोरोना के संक्रमण को देखते हुए मंदिरों व पंडालों में तमाम एहतियात बरते गए और शारीरिक दूरी आदि का पालन करते देखा गया। देवी के दर्शन के लिए पहुंचे लोग मास्क लगाए हुए नजर आए।

लोगों ने की सुख-समृद्धि की कामना

नवरात्र की पूजा के महत्व को जानते हुए श्रद्धालुओं ने जीवन में सुख-समृद्धि और मनोकामना के साथ मंदिरों में आयोजित होने वाले पूजा-अनुष्ठानों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। इस खास अवसर पर रोहिणी, प्रशांत विहार, प्रहलादपुर, शालीमार बाग, आदर्श नगर, केशवपुरम, मॉडल टाउन, मुखर्जी नगर, महेंद्रा पार्क, मंगोलपुरी, सुल्तानपुरी, किराड़ी सहित कंझावला, बवाना व नरेला के ग्रामीण इलाकों में सभी छोटे-बड़े मंदिरों को खूबसूरती से सजाया गया है।