भारत-पाकिस्तान सीमा पर अब और ज्यादा कड़ी होगी सुरक्षा, किए जा रहे ये बदलाव

0 93

नई दिल्ली। केंद्र सरकार जल्द ही भारत-पाकिस्तान समेत बांग्लादेश सीमाओं पर मौजूद बाड़ (फेंसिंग) को बदलने जा रही है। इसके बदले अब ज्यादा प्रभावी एंटी-कट फेंसिंग का प्रोयग किया जाएगा। बीएसएफ (Border Security Force- BSF) सूत्रों ने बताया कि कई खंड़ों (Patches) को बदला जा चुका है और अब सिर्फ एंटी-कट फेंसिंग ही यहां लगाई जाएंगी।

सूत्रों के मुताबिक 7.18 किलोमीटर की फेंसिंग लगा दी गई है, जिसकी कीमत 14,30,44,000 है। इसका मतलब एक किलोमीटर फेंसिंग की कीमत लगभग 1.99 करोड़ है। बीएसएफ के मुताबिक सरकार पाकिस्तान और बांग्लादेश सीमाओं पर मौजूद फेंसिंग को ज्यादा प्रभावशाली फेंसिंग में तब्दील करने का काम कर रही है। अब यहां सिर्फ एंटी-कट फेंसिंग का उपयोग किया जाएगा।

पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर सिलचार सेक्टर के लाठीटीला में नई फेंसिंग लगाई गई हैं जबकि कुछ खंड़ों में इसका काम अभी चल रहा है। सूत्रों का दावा है कि सीमाओं पर मौजूद कुछ खंड़ों में जो फेंसिंग लगी हैं वो इतनी पुरानी हैं कि उनके जरिए भारतीय सीमा में घुसना बहुत आसान है।

वर्तमान में जहां पर कमजोर फेंसिंग लगी हैं वहीं अहतियात के तौर पर अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती की गई है। पिछले साल केंद्र सरकार ने दो पायलट प्रोजेक्ट के अंतर्गत करीब 71 किलोमीटर की दूरी कवर की है, जिसमें 10 किलोमीटर क्षेत्र भारत-पाकिस्तान सीमा और 61 किलोमीटर क्षेत्र भारत-बांग्लादेश सीमा का कवर किया गया है।

अब सरकार स्टेज-2 और स्टेज-3 के अंतर्गत कुल 1955 किलोमीटर की दूरी एंटी-कट फेंसिंग के जरिए कवर करने की तैयारी में है। व्यापक एकीकृत सीमा प्रबंधन प्रणाली (Comprehensive Integrated Border Management System- CIBMS) परियोजना में सीमा पार अपराधों का पता लगाने और नियंत्रित करने, अवैध घुसपैठ, तस्करी के सामानों की तस्करी, मानव तस्करी और सीमा पार आतंकवाद जैसे बीएसएफ की क्षमता में काफी सुधार होगा।