Baap Of Chart पर SEBI की दबिश, नसीरुद्दीन अंसारी पर बैन, लगाया 17.20 करोड़ रुपये का जुर्माना

8

SEBI : भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने ‘बाप ऑफ चार्ट’ के नाम से अनधिकृत निवेश सलाहकार सेवाएं देने वालीं तीन इकाइयों को बुधवार को शेयर बाजार से प्रतिबंधित कर दिया. साथ ही बाजार नियामक ने इन इकाइयों से 17 करोड़ रुपये से ज्यादा की अवैध कमाई को जब्त करने का आदेश भी दिया है.

सेबी ने एक बयान में कहा कि खुद को निवेश सलाहकार बताने वाले मोहम्मद नसीरुद्दीन अंसारी सोशल मीडिया मंच एक्स और मैसेजिंग मंच टेलीग्राम के माध्यम से ‘बाप ऑफ चार्ट’ के नाम से शेयर बाजार में निवेश करने की सलाह देता था. ये सिफारिशें प्रतिभूति बाजार से संबंधित शैक्षिक प्रशिक्षण प्रदान करने की आड़ में दी गई थीं.

मोहम्मद नसीरुद्दीन अंसारी के अलावा पदमती और गोल्डन सिंडिकेट वेंचर्स को भी अगला आदेश आने तक शेयर बाजार से प्रतिबंधित कर दिया गया है. सेबी ने उन्हें निर्देश दिया कि वे निवेश सलाहकार के रूप में कार्य करना बंद करें. अपने 45 पन्नों के अंतरिम आदेश-सह-कारण बताओ नोटिस में सेबी ने पाया कि निवेश सलाहकार गतिविधियों को करने से सिर्फ दो साल की अवधि के दौरान 17.21 करोड़ रुपये जमा हुए हैं. ये गतिविधियां गैर-पंजीकृत और धोखाधड़ी दोनों श्रेणियों में आती हैं.

सेबी ने पाया कि प्रथम दृष्टया सीधे उनके बैंक खातों में ‘शैक्षणिक पाठ्यक्रमों’ के लिए शुल्क की प्राप्ति के मद्देनजर नासिर, पदमती और गोल्डन सिंडिकेट वेंचर्स अंतरिम उपाय के रूप में कथित गैरकानूनी लाभ के लिए संयुक्त रूप से और अलग-अलग उत्तरदायी हैं.

सेबी की कार्रवाई का महत्व

सेबी की यह कार्रवाई निवेशकों के लिए एक महत्वपूर्ण चेतावनी है. निवेशकों को किसी भी अनधिकृत निवेश सलाहकार से सलाह लेने से बचना चाहिए. सेबी द्वारा पंजीकृत निवेश सलाहकारों से ही सलाह लेने की सलाह दी जाती है.

निवेशकों को सलाह

निवेशकों को निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए-

किसी भी अनधिकृत निवेश सलाहकार से सलाह लेने से बचें.

केवल सेबी द्वारा पंजीकृत निवेश सलाहकारों से सलाह लें.

किसी भी निवेश सलाहकार को पैसे देने से पहले उसकी योग्यता और अनुभव की जांच कर लें.

किसी भी निवेश सलाह को लेने से पहले अपने वित्तीय सलाहकार से सलाह लें.

सोर्स : भाषा इनपुट

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.