चंद्रयान-3 को चांद तक पहुंचाने में इन 6 वैज्ञानिकों की है अहम भूमिका

11

Chandrayaan-3 Landing : भारत के लिए आज का दिन काफी अहम रहा. बता दें कि चंद्रमा पर भारत का चंद्रयान-3 लैन्डिंग की. दुनियाभर की नजर सोमवार को भारत के मिशन मून पर था. शाम करीब 6.04 बजे चंद्रयान-3 लैंडर विक्रम चंद्रमा के दक्षिणी चेहरे को छुआ. ऐसा कर पाने में कई लोगों ने मेहनत की है. ऐसे में इसरो और इस मिशन मून में दिन-रात एक कर लगे वैज्ञानिकों के बारे में जानना भी बहुत ज्यादा जरूरी हो जाता है, जिसकी वजह से यह यात्रा संभव हो पाई है.

1) पी वीरमुथुवेल, प्रोजेक्ट डायरेक्टर

इसरो के सैकड़ों वैज्ञानिकों ने चंद्रमा पर लैंडिंग को संभव बनाने के लिए पर्दे के पीछे से काम किया है. जिसमें सबसे प्रमुख नाम है इस प्रोजेक्ट के डायरेक्टर पी वीरमुथुवेल का. तमिलनाडु के विल्लुपुरम क्षेत्र के मूल निवासी, वीरमुथुवेल 2014 में इसरो में शामिल हुए. बता दें कि पी वीरमुथुवेल एक पूर्व रेलवे कर्मचारी के बेटे है. इन्होंने कई इसरो सेंटर के साथ समन्वय बैठाया है और चंद्रयान -3 को एक साथ लाने के पूरे मिशन के प्रभारी रहे हैं. बता दें कि 14 जुलाई को एलवीएम 3 रॉकेट द्वारा चंद्रयान -3 के लॉन्चिंग के बाद से वीरमुथुवेल और उनके चंद्रमा की 3,84,000 किलोमीटर की यात्रा पर अंतरिक्ष यान के स्वास्थ्य और संचालन की लगातार निगरानी करने के लिए वैज्ञानिकों की टीम इसरो टेलीमेट्री, ट्रैकिंग और कमांड नेटवर्क सेंटर (ISTRAC) के मिशन नियंत्रण कक्ष में मौजूद है. वीरमुथुवेल और उनकी टीम ने चंद्रयान 3 अंतरिक्ष यान की कई कक्षाओं को ऊपर उठाने और कम करने की प्रक्रिया का निरीक्षण किया है, जो इसे 23 अगस्त को 5.47 बजे सतह पर आखिरी लैंडिंग से पहले चंद्रमा की कक्षा में ले गया है. चंद्रयान के उतरने के अंतिम 17 मिनट में, वीरमुथुवेल की टीम केवल कार्यवाही देख पाएगी क्योंकि अंतरिक्ष यान उतरने के लिए स्वायत्त रूप से कार्य करेगा. बता दें कि वीरमुथुवेल ने 14 जुलाई को श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से चंद्रयान -3 के सफल लॉन्चिंग के बाद कहा था कि सबसे प्रतीक्षित सॉफ्ट लैंडिंग के लिए चंद्रमा पर हमारी यात्रा अब शुरू हो गई है. हम ISTRAC बेंगलुरु से अंतरिक्ष यान की बारीकी से निगरानी और नियंत्रण करेंगे.

2) बी एन रामकृष्ण : निदेशक, इस्ट्रैक

रामकृष्ण बेंगलुरु में इसरो की सुविधा ISTRAC के सातवें निदेशक हैं, जो गहरे अंतरिक्ष नेटवर्क स्टेशनों से डेटा इकट्ठा करके गहरे अंतरिक्ष मिशनों के लिए मिशन नियंत्रण केंद्र के रूप में कार्य करता है. चंद्रयान-3 मिशन के लिए, ISTRAC बेंगलुरु के बाहर बयालू में स्थित इसरो गहरे अंतरिक्ष नेटवर्क स्टेशन और अमेरिका के जेट प्रोपल्शन प्रयोगशाला और यूरोप के ईएसए जैसे विदेशी गहरे अंतरिक्ष निगरानी पृथ्वी स्टेशनों से जुड़ा हुआ है. रामकृष्ण के पास बेंगलुरु से विज्ञान में मास्टर डिग्री है और उन्हें उपग्रहों का उपयोग करके नेविगेशन और अंतरिक्ष यान की कक्षा निर्धारण के क्षेत्र में विशेषज्ञ माना जाता है.

3) एम शंकरन : निदेशक, यू आर राव अंतरिक्ष केंद्र

शंकरन उस चीज के निदेशक हैं जिसे पहले इसरो सैटेलाइट सेंटर के नाम से जाना जाता था – वह एजेंसी जो एजेंसी के अंतरिक्ष अभियानों के लिए अंतरिक्ष यान बनाती है. चंद्रयान-3 अंतरिक्ष यान यूआरएससी में बनाया गया था. शंकरन जून 2021 से यूआरएससी के निदेशक हैं. वह पहले यूआरएससी में संचार और पावर सिस्टम यूनिट के उप निदेशक थे और उन्होंने इसरो के चंद्रयान 1 और 2 के लिए सौर सरणी, बिजली प्रणालियों और संचार प्रणालियों के विकास में भूमिका निभाई है. उनके पास भारतीदासन विश्वविद्यालय, तिरुचिरापल्ली से भौतिकी में मास्टर डिग्री है.

4) एस मोहना कुमार : चंद्रयान 3 के प्रक्षेपण के लिए मिशन निदेशक

एलएमवी3 रॉकेट पर चंद्रयान-3 के 14 जुलाई के प्रक्षेपण के लिए इसरो के मिशन निदेशक मोहना कुमार ने ही 14 जुलाई को श्रीहरिकोटा में प्रक्षेपण की सफलता की पहली औपचारिक घोषणा की थी. उन्होंने कहा, “मुझे यह कहते हुए बहुत खुशी हो रही है कि एलवीएम 3 रॉकेट ने चंद्रयान 3 उपग्रह को एक सटीक कक्षा में स्थापित कर दिया है और एक बार फिर यह वाहन इसरो के सबसे विश्वसनीय भारी-लिफ्ट रॉकेटों में से एक साबित हुआ है.” इसरो के अनुभवी इस साल मार्च में वन वेब इंडिया 2 सेवा के लिए उपग्रहों के एलवीएम3 लॉन्च के मिशन निदेशक थे. मोहना कुमार तिरुवनंतपुरम में इसरो के विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र में एक वरिष्ठ वैज्ञानिक हैं, जो वास्तव में एजेंसी के लिए रॉकेट क्षमताओं के निर्माण का केंद्र है. वह 30 साल से अधिक समय से इसरो के साथ हैं.

5) वी नारायणन: निदेशक, तरल प्रणोदन प्रणाली केंद्र

लॉन्चिंग सिस्टम विश्लेषण, क्रायोजेनिक इंजन डिजाइन और बड़ी परियोजनाओं के प्रबंधन के विशेषज्ञ, नारायणन ने चंद्रयान -3 पर प्रणोदन प्रणाली को डिजाइन करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में पीएचडी करने वाले डॉ नारायणन ने पिछले महीने चंद्रयान -3 के लॉन्च पर कहा था, पूरे अंतरिक्ष समुदाय ने पिछले चार वर्षों में जबरदस्त प्रयास किया है और हमें एक अद्भुत, महान वैज्ञानिक उपग्रह का एहसास हुआ है. चंद्रयान 3 लॉन्च करने वाले LVM3 रॉकेट के क्रायोजेनिक इंजन LPSC में बनाए गए थे.

6) एस उन्नीकृष्णन नायर : निदेशक, विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र

मानव अंतरिक्ष उड़ान प्रणालियों के विशेषज्ञ, नायर तिरुवनंतपुरम में इसरो की मुख्य रॉकेट-निर्माण सुविधा के निदेशक हैं. वह 1985 में इसरो में शामिल हुए और पीएसएलवी, जीएसएलवी और एलवीएम3 रॉकेट के लिए विभिन्न एयरोस्पेस प्रणालियों और तंत्रों के विकास में शामिल रहे. नायर 2004 में अपने अध्ययन चरण से भारतीय मानव अंतरिक्ष उड़ान कार्यक्रम से जुड़े थे और इसरो के नए मानव अंतरिक्ष उड़ान केंद्र के संस्थापक निदेशक थे. केरल विश्वविद्यालय से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में बीटेक, उन्होंने आईआईएससी, बैंगलोर से एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में मास्टर और आईआईटी मद्रास से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में पीएचडी की है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.