MP Election 2023 : गणेश सिंह के लिए कांग्रेस को सतना विधानसभा से हराना कितना मुश्किल ? जानें सीट का समीकरण

37

MP Election 2023 : मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव की तारीख के ऐलान से पहले बीजेपी ने उम्मीदवारों की तीन सूची जारी की है. दूसरी सूची जारी होने के बाद से प्रदेश की राजनीति गरम है. दरअसल, दूसरी लिस्ट में 7 सांसदों को विधानसभा का टिकट बीजेपी की ओर से दिया गया है, उन सांसदों में से एक नाम गणेश सिंह का भी है. गणेश सिंह को पार्टी ने रीवा संभाग में आने वाले सतना विधानसभा सीट से चुनावी रण में उतारा है. आपको बता दें कि यह सीट वर्तमान में कांग्रेस के कब्जे है. यहां से कांग्रेस के सिद्धार्थ कुशवाहा विधायक हैं. पिछले विधानसभा चुनाव यानी साल 2018 में सिद्धार्थ कुशवाहा ने 3 बार के विधायक बीजेपी के शंकरलाल तिवारी को 12,558 वोटों से पराजित किया था. पिछली बार सतना में कुल 37 प्रतिशत वोटिंग हुई थी. सिद्धार्थ कुशवाहा को कुल 60,105 वोट मिले थे, वहीं शंकर लाल तिवारी को 47,547 वोट प्राप्त हुए थे. 2018 के चुनाव में यहां तीसरे नंबर पर बीएसपी का उम्मीदवार रहा था.

2023 विधानसभा चुनाव को लिए फिलहाल कांग्रेस ने अपना प्रत्याशी नहीं उतारा, लेकिन अब देखना यह है कि कांग्रेस सिद्धार्थ कुशवाहा पर फिर से दांव लगाती है या किसी तगड़े उम्मीदवार को चुनावी मैदान में उतारती है. गौर हो कि सिद्धार्थ कुशवाहा को मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम और कांग्रेस के कद्दावर नेता कमलनाथ का करीबी भी माना जाता है. साल 2020 में जब मध्य प्रदेश में सत्ता परिवर्तन देखने को मिला था, तो उस वक्त भी कई बार सिद्धार्थ कुशवाहा का नाम चर्चा में आया था. सिद्धार्थ कुशवाहा के भी पाला बदलने की अटकलें तेज थी. हालांकि उन्होंने कमलनाथ का साथ नहीं छोड़ा और कांग्रेस के साथ इस संकट की घड़ी में नजर आए.

सिद्धार्थ कुशवाहा की बात करें तो उनके पिता सुखलाल कुशवाहा ने लोकसभा चुनाव में पूर्व सीएम अर्जुन सिंह को पराजित किया था. आइए एक नजर डालते हैं सतना विधानसभा सीट पर

कितने हैं मतदाता और क्या है सतना विधानसभा सीट का जातिगत समीकरण

चुनाव आयोग की ओर से 2018 में जारी किए आंकड़ों की बात करें तो, सतना विधानसभा में कुल 2.30 लाख से ज्यादा मतदाता थे. इसमें 1.22 लाख से ज्यादा पुरुष मतदाता जबकि 1.08 लाख से ज्यादा महिला मतदाता हैं. सतना जिले में क्षत्रिय, पटेल, वैश्य, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जन जाति और ब्राह्मण मतदाता निर्णायक स्थिति में नजर आते हैं.

सतना विधानसभा सीट का इतिहास जानें

-साल 2013, 2008 और 2003 में सतना विधानसभा सीट से बीजेपी के शंकरलाल तिवारी ने जीत दर्ज की थी.

-1998 में कांग्रेस के सईद अहमद में सतना विधानसभा सीट से जीत दर्ज की थी.

-1993 और 1990 में बीजेपी के बृंजेन्द्र पाठक ने सतना विधानसभा सीट से चुनाव जीता.

-इससे पहले 1985 और 1980 में सतना से कांग्रेस के लालता प्रसाद खरे चुनाव जीते थे जबकि 1977 में कांग्रेस के अरुण सिंह ने यहां से जीत दर्ज की थी.

-1972 में कांग्रेस के कांता चुनाव जीते थे.

गणेश सिंह के सियासी सफर पर एक नजर

सांसद गणेश सिंह को बीजेपी ने इस बार सतना विधानसभा सीट से उतारा है. गणेश सिंह की बात करें तो वो सतना लोकसभा सीट से चार बार के सांसद हैं. गणेश विंध्य क्षेत्र में बीजेपी का बड़ा चेहरा बताये जाते हैं. गणेश सिंह 2004 में पहली बार बीजेपी के टिकट पर लोकसभा सदस्य चुने गए थे. जिस वक्त बीजेपी ने उन्हें लोकसभा का टिकट दिया था, वे सतना जिला पंचायत के अध्यक्ष के पद पर थे. इसके बाद गणेश सिंह ने लगातार 4 लोकसभा चुनाव जीते. गणेश सिंह इस बार पहली बार विधानसभा चुनाव लड़ने जा रहे हैं.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.