Circus फिल्म मेरी गलती थी… जानिए ऐसा क्यों कहा निर्माता निर्देशक रोहित शेट्टी ने

48

खतरों के खिलाडी 13 आगामी 15 जुलाई से कलर्स चैनल पर दस्तक देने जा रहा है. एक बार फिर इस रियलिटी शो के होस्ट के तौर पर निर्माता निर्देशक रोहित शेट्टी नजर आने वाले हैं. रोहित इस नए सीजन को लेकर बेहद उत्साहित हैं. उन्हें उम्मीद है कि यह सीजन भी दर्शकों को बहुत पसंद है.

सफलता असफलता पर रोहित शेट्टी ने क्या कहा

सफलता असफलता के बारे में बात करते हुए रोहित अपनी पिछली फिल्म सर्कस की असफलता की जिम्मेदारी लेते हुए कहते हैं कि वो हमारी गलती थी. हमारे जो दर्शक रहे हैं, असल में दर्शक तो वही थे, जिन्होंने हमें हमेशा इतना प्यार दिया है, लेकिन इस बार उन्होंने हमें नकार दिया, क्योंकि कहीं ना कहीं उस फिल्म के साथ हम गलत गए थे. हमने वो पेंडमिक में छोटे क्रू के साथ फिल्म बनायीं थी क्यूंकि सूर्यवंशी रिलीज नहीं हुई थी. वो सूर्यवंशी के पहले की फिल्म है, हम गलत हो गए थे. सर्कस में डल मोमेंट था. उसमें गाड़ियां नहीं उड़ रही थी, जो कि हमारी फिल्मों से दर्शकों को उम्मीद होती है. हमारा प्रोडक्शन हाउस उन में से नहीं है, जो साल में एक फिल्म बनाते हैं. हर साल हम कुछ ना कुछ बनाते हैं. कभी हम सही होते हैं, तो कभी गलत भी होते हैं. गलती की है, तो इसे स्वीकारने में कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए कि हम गलत थे. हमने उस तरह की फिल्म नहीं बनायीं थी, जैसी दर्शक हमसे उम्मीद करते हैं।इस गलती से सीख लेते हुए इस बात का आगे ध्यान रखेंगे.

सर्कस को लेकर क्या बोले रोहित शेट्टी

अपनी गलतियों से मैंने हमेशा सीखा है. असफलता मेरे लिए नयी नहीं है. मैंने संडे नाम की फिल्म बनायीं थी. शायद ही किसी को ये पता हो. मेरी पहली फिल्म जमीन भी ज़्यादा पसंद नहीं की गयी थी. चेन्नई एक्सप्रेस जैसी ब्लॉकबस्टर फिल्म देने के बाद दिलवाले दर्शकों को पसंद नहीं आयी थी. मैंने उस असफलता को भी स्वीकारा था. कोरोना के बाद फ़िल्में ज़्यादा टिकट खिड़की पर चल नहीं रही है. मैं मानता हूं कि दर्शकों की पसंद में बदलाव आया है, लेकिन अपनी फिल्म सर्कस की असफलता के लिए मैं कोरोना को दोष नहीं दूंगा. मेरी फिल्म सूर्यवंशी कोरोना में ही दो सौ करोड़ रुपए की कमाई की थी.

एक दूसरे के अच्छे दोस्त हैं अनुपम खेर और रोहित शेट्टी

बॉलीवुड में हिट मशीन के नाम से मशहूर रोहित यह भी बोलते हैं कि सर्कस की असफलता का मतलब डायरेक्टर के तौर पर मेरी असफलता नहीं है. यहां पर मैं अनुपम खेर की एक बात का जिक्र करना चाहूंगा. अनुपम खेर मेरे अच्छे दोस्तों में से हैं. एक बार उनके पिता ने उनसे कहा था कि सफल होने के बाद जब आप आपको असफलता मिलती हैं, तो एक्टर या डायरेक्टर नहीं बल्कि प्रोजेक्ट होता है.

अंगूर की रिमेक थी फिल्म सर्कस

सर्कस क्लासिक फिल्म अंगूर की रिमेक थी, क्या रिमेक को टच नहीं करना चाहिए। इस पर रोहित शेट्टी दो टूक जवाब देते हुए कहते हैं कि मुग़ल ए आज़म नहीं थी, अंगूर ही थी. मैं असफल रहा क्योंकि दर्शक जिस तरह की फ़िल्में मुझसे चाहते हैं. वो वैसी फिल्म नहीं थी। अगली बार मैं कोई एक्सपेरिमेंट नहीं करूंगा. दर्शक जिस तरह की फ़िल्में मुझसे चाहते हैं।मैं वैसी ही फ़िल्में बनाऊंगा.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.