RBI Repo Rate: रिजर्व बैंक ने रेपो रेट को पांचवीं बार 6.5% पर रखा स्थिर, जानें आपके ऋण EMI पर पड़ेगा क्या असर

3

क्या होता है रेपो रेट

रेपो रेट (Repo Rate) एक आर्थिक शब्द है. सीधे रुप में यह वह ब्याज दर है जिस पर किसी देश का केंद्रीय बैंक वाणिज्यिक बैंकों को पैसा उधार देता है. रेपो रेट एक बैंक और RBI के बीच का कर होता है, जिसे बैंक अपने लेन-देन की शीघ्र स्थिति सुधारने के लिए रेपो या रिपर्चेस ओफ पुर्चेस (Repurchase Agreement) के रूप में जानते हैं. इस प्रक्रिया में, बैंक RBI से सुरक्षित वित्त प्राप्त करने के लिए अपनी सुरक्षित सुधारित सुधार बाजार में रेपो करते हैं और उसके लिए वे एक निर्दिष्ट दर पर ब्याज चुक्ता करते हैं. इस प्रकार, रेपो रेट वित्तीय बाजार में ब्याज दर का प्रतिनिधित्व करता है. रेपो रेट की बदलती दरें बैंकों को उचित रूप से पैसे उधार लेने और उधार देने के लिए प्रेरित करने में मदद करती हैं और यह एक मुद्रास्फीति नीति का हिस्सा भी हो सकता है. इसके माध्यम से RBI बैंकों के बीच मौद्रिक स्थिरता बनाए रखने का प्रयास कर सकती है और आर्थिक स्थिति को नियंत्रित रखने का प्रयास कर सकती है. रेपो रेट का उदाहरण, यदि रेपो रेट 5% है, तो एक बैंक जो 100 करोड़ रुपये की सुरक्षित सुधारित सुधार चाहता है, वह RBI को 100 करोड़ रुपये के लिए 5% की दर पर ऋण लेगा और उसे एक निश्चित समय बाद वही रकम वापस करनी होती है, जिसमें ब्याज शामिल होता है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.