Rapid Rail: दिल्‍ली से मेरठ के बीच दौड़ेगी रैपिडएक्स! रेल मंत्रालय ने दी मंजूरी, जानिये क्या है आगे की योजना

22

Rapid Rail: मेट्रो रेल सुरक्षा आयुक्त (CMRS, सीएमआरएस) ने दिल्ली-मेरठ रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) गलियारे के प्राथमिकता खंड पर ‘रैपिडएक्स’ सेवा के परिचालन को मंजूरी दे दी है. इस मंजूरी के बाद देश की पहली रीजनल रेल रैपिडएक्‍स के परिचालन का रास्‍ता साफ हो गया है. प्राथमिक खंड के तहत रैपिडएक्‍स साहिबाबाद से दुहाई डिपो तक चलेगी. बता दें, इस परियोजना की शुरुआत साल 2019 में की गई थी. राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र परिवहन निगम के अधिकारियों ने यह जानकारी देते हुए कहा कि चार साल के अंदर रैपिडएक्स सेवाओं का कमर्शियल ऑपरेशन शुरू किया जा सकता है.

क्या है रैपिडएक्स

गौरतलब है कि दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस गलियारे का 17 किलोमीटर लंबा प्राथमिकता खंड साहिबाबाद और दुहाई डिपो के बीच है. अधिकारियों ने बताया कि इससे पहले, रेल मंत्रालय ने आरआरटीएस ट्रेन सेट को मंजूरी दी थी. इसे 180 किलोमीटर प्रति घंटे की गति के लिए डिजाइन किया गया है और इसकी परिचालन गति 160 किमी प्रति घंटा है. एनसीआरटीसी की सेमी-हाई स्पीड क्षेत्रीय रेल सेवा ‘रैपिडएक्स’ दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान और उत्तर प्रदेश सरकारों के साथ केंद्र की एक संयुक्त उद्यम कंपनी है.

यह है भविष्य की योजना

एनसीआरटीसी अधिकारियों का कहना है कि पिछले एक साल में ट्रांजिट बुनियादी ढांचा परियोजना के क्रियान्वयन के लिए एनसीआरटीसी की ओर से अपनाई गई प्रक्रियाओं की एक से अधिक सुरक्षा मूल्यांकनकर्ता ने गहन जांच की है. इस तरह, इसके बाद ही इसे रेल मंत्रालय और सीएमआरएस की अनुमति मिली है. एनसीआरटीसी का लक्ष्य 2025 तक दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ के पूरे 82 किमी लंबे खंड को लोगों के लिए शुरू करने का है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.