राजस्थान विधानसभा चुनाव : वसुंधरा राजे का गढ़ है झालरापाटन, चुनाव जीतीं तो सीएम पद पर ठोकेंगी मजबूत दावेदारी

7
Vasundhara Raje 1
Vasundhara Raje

राजस्थान विधानसभा चुनाव : लोकसभा चुनाव 2024 से पहले देश में पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव हो रहे हैं. 25 नवंबर को राजस्थान में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होना है. राजस्थान में कुल 200 विधानसभा सीटें हैं, लेकिन मतदान 199 सीट पर ही होगा क्योंकि श्रीकरणपुर विधानसभा सीट पर कांग्रस के उम्मीदवार के निधन के बाद वहां चुनाव स्थगित कर दिया गया है. राजस्थान चुनाव में जिन विधानसभा क्षेत्रों पर लोगों की खास नजर रहेगी उनमें से एक है झालरापाटन विधानसभा सीट, जहां से बीजेपी की कद्दावर नेता वसुंधरा राजे चुनाव लड़ रही हैं.

Vasundhara Raje

वसुंधरा राजे झालरापाटन सीट से पांचवीं बार चुनावी मैदान में हैं. यह सीट वसुंधरा राजे का गढ़ माना जाता है. वे लगातार चार बार यहां से चुनाव जीत चुकी हैं. इस बार के चुनाव में वे नाराज चल रही थीं, यही वजह है कि बीजेपी ने जब उम्मीदवारों की सूची जारी की तो पहली सूची में उनका नाम सामने नहीं आया, हालांकि दूसरी सूची में वसुंधरा राजे का नाम था और वे अपनी परंपरागत सीट से ही पांचवीं बार चुनावी मैदान में हैं. वसुंधरा राजे को सीएम फेस घोषित तो नहीं किया गया है, लेकिन अगर बीजेपी यहां चुनाव जीतती है तो वसुंधरा की मजबूत दावेदारी सीएम पद को लेकर रहेगी.

Vasundhara Raje 3
Vasundhara Raje

झालरापाटन सीट से इस बार वसुंधरा राजे के सामने कांग्रेस ने फिर नया उम्मीदवार दिया है. कांग्रेस ने रामलाल चौहान को यहां से वसुंधरा राजे के खिलाफ मैदान में उतारा है. झालरापाटन सीट राजस्थान के झालावाड़ जिले के अंतर्गत आता है. इस सीट पर 2003 से ही वसुंधरा राजे का दबदबा रहा है. वसुंधरा राजे प्रदेश की पहली महिला मुख्यमंत्री भी रही हैं. झालरापाटन सीट से वसुंधरा राजे ने 2018 के चुनाव में कांग्रेस के मानवेंद्र सिंह को 34,980 वोटों से हराया था.

Vasundhara Raje

गौरतलब है कि झालावाड़ वसुंधरा राजे का गृहक्षेत्र हैं और उनके परिवार का यहां दबदबा है. उनके बेटे दुष्यंत कुमार इस सीट से सांसद हैं. वसुंधरा राजे के परिवार का यहां इतना प्रभाव है कि कोई जातिगत समीकरण और मुद्दे यहां बहुत प्रभाव नहीं डालते हैं.

Vasundhara Raje 5
Vasundhara Raje

हालांकि अगर आंकड़ों पर गौर करें तो वसुंधरा राजे को पिछली दफा कांग्रेस के उम्मीदवार मानवेंद्र सिंह ने कड़ी टक्कर दी थी. चार बार वसुंधरा राजे यहां से चुनाव जीती हैं, लेकिन उनकी जीत में वोटों की गिनती लगातार कम हुई है. इस बार के चुनाव में कांग्रेस के रामलाल चौहान उन्हें कितनी टक्कर देंगे, यह तो आने वाला वक्त ही बता पाएगा.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.