Amritpal Singh: पकड़ा गया अमृतपाल सिंह, 36 दिनों बाद मोगा पुलिस के सामने किया सरेंडर

59

कट्टरपंथी उपदेशक अमृतपाल सिंह ने 36 दिनों के बाद पंजाब के मोगा पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है. टीवी रिपोर्ट के अनुसार उसने शनिवार देर रात सरेंडर किया. मालूम हो वह 18 मार्च से फरार चल रहा था. उसे पकड़ने के लिए पंजाब पुलिस लगातार सर्च अभियान चला रही है, लेकिन वह पकड़ में नहीं आ रहा था.

36 दिनों बाद पंजाब पुलिस के गिरफ्त में आया अमृतपाल सिंह

खालिस्तानी समर्थक अमृतपाल सिंह 36 दिनों बाद पंजाब पुलिस के गिरफ्त में आया है. पंजाब पुलिस ने 18 मार्च को अमृतपाल सिंह और उसके संगठन ‘वारिस पंजाब दे’ के खिलाफ कार्रवाई शुरू की थी. और उसी समय से वह फरार हुआ था.

एक महीने तक पंजाब पुलिस को चकमा दे रहा था अमृतपाल

कट्टरपंथी उपदेशक अमृतपाल सिंह अपने एक गिरफ्तार सहयोगी की रिहाई के लिए अजनाला पुलिस थाने पर उसके समर्थकों द्वारा धावा बोलने के बाद पंजाब पुलिस की तरफ से की गई कार्रवाई के बाद वह फरार हुआ था. महीने भर से पुलिस उसे गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी कर रही थी, लेकिन कामयाबी नहीं मिली थी. वह लगातार वेश बदलकर अपना स्थान बदलता रहा. पुलिस के हाथ केवल सीसीटीवी फुटेज ही लग रहे थे.

दो बार पुलिस के शिकंजे से बच निकला था अमृतपाल

अमृतपाल सिंह दो बार पुलिस के शिकंजे से बच गया था. पहली बार 18 मार्च को जालंधर जिले में वाहनों को बदलकर और फिर 28 मार्च को होशियारपुर में जब वह अपने प्रमुख सहयोगी पपलप्रीत सिंह के साथ पंजाब लौटा.

अमृतपाल ने वीडियो जारी कर कहा था वह भगोड़ा नहीं है

पटियाला, कुरुक्षेत्र और दिल्ली सहित कई जगहों पर कई सीसीटीवी फुटेज में बदले हुए रूप में अमृतपाल सिंह नजर आया था. फरार रहने के दौरान अमृतपाल के दो वीडियो और एक ऑडियो क्लिप सोशल मीडिया पर आए थ. 30 मार्च को सामने आए अपने दो वीडियो में से एक में अमृतपाल ने जोर देकर कहा था कि वह भगोड़ा नहीं है और जल्द ही पेश होगा. खालिस्तान समर्थक उपदेशक ने दावा किया था कि वह उन लोगों की तरह नहीं है जो देश छोड़कर भाग जाएंगे.

अमृतपाल के सलाहकार को पंजाब पुलिस ने पहले ही किया गिरप्तार

अमृतपाल के सलाहकार माने जाने वाले और कथित तौर पर पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के संपर्क में रहे पपलप्रीत को गिरफ्तार कर लिया गया है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.