Poonch Attack: ड्रोन, खोजी कुत्तों और हेलीकॉप्टर की मदद से आतंकवादियों की तलाश जारी, 12 हिरासत में

42

जम्मू-कश्मीर के पुंछ में 21 अप्रैल को हुए आतंकवादी हमले में पांच जवानों के शहीद होने के बाद बाटा-डोरिया क्षेत्र के घने जंगल में सुरक्षा बलों ने बड़ा तलाश अभियान शुरू किया. इस अभियान में ड्रोन और खोजी कुत्तों का इस्तेमाल किया गया, वहीं एक एमआई हेलिकॉप्टर ने घने वन क्षेत्र की टोह ली. मालूम हो हमले में शहीद हुए जवान राष्ट्रीय राइफल्स इकाई के थे और उन्हें इलाके में आतंकवाद रोधी अभियानों के लिए तैनात किया गया था.

पुंछ हमले मामले में 12 लोगों को हिरासत में लिया गया

पुंछ हमले के सिलसिले में 12 लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया. हिरासत में लिए गए लोगों से आतंकवादी समूह की पहचान का पता लगाने के लिए विभिन्न स्तरों पर पूछताछ की जा रही है. माना जाता है कि आतंकवादी समूह एक साल से अधिक समय से क्षेत्र में सक्रिय था.

एनआईए ने घटनास्थल का किया दौरा

राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) की एक टीम ने घटनास्थल का दौरा किया और इलाके और उस वाहन का निरीक्षण किया, जिस पर हमला किया गया था. पूरे इलाके को घेर लिया गया है और आतंकवादियों को खोजने के लिए ड्रोन एवं खोजी कुत्तों का इस्तेमाल किया जा रहा है.

पुंछ हमले को तीन से चार आतंकवादियों ने दिया अंजाम

बताया जा रहा है कि तीन से चार आतंकवादियों के एक समूह ने पुंछ हमले को अंजाम दिया और उन्होंने किसी विस्फोटक, बम या ग्रेनेड का इस्तेमाल किया, जिससे वाहन में आग लग गई. बताया जा रहा है कि हमले को अंजाम देने वाले एक साल से अधिक समय से राजौरी और पुंछ में मौजूद थे और उन्हें इस दुर्गम इलाके के बारे में पूरी जानकारी थी. यह इलाका जम्मू-कश्मीर गजनवी फोर्स (जेकेजीएफ) का गढ़ है और इसका ‘कमांडर’ रफीक अहमद उर्फ रफीक नाई इसी इलाके का रहने वाला है.

नियंत्रण रेखा के पास अलर्ट

नियंत्रण रेखा के पास कड़ी सतर्कता बरती जा रही है और भीम्बर गली-पुंछ मार्ग पर यातायात रोक दिया गया है और लोगों को मेंढर के रास्ते पुंछ जाने की सलाह दी गई है.

पुंछ आतंकी हमले में ये जवान हुए शहीद

शहीद हुए जवानों की पहचान हवलदार मंदीप सिंह, लांस नायक देबाशीश बस्वाल, लांसनायक कुलवंत सिंह, सिपाही हरकृष्ण सिंह और सिपाही सेवक सिंह के रूप में की गई है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.