PayTM FAQs: पेटीएम ऐप को लेकर आपके भी मन में है कोई सवाल, तो यहां है जवाब

14

PayTM FAQs: पेटीएम पेमेंट्स बैंक पर आरबीआइ के एक्शन के बाद पेटीएम यूजर्स कंफ्यूजन में हैं. यूजर्स ये जानना चाह रहे हैं कि हमारा पैसा सुरक्षित है या नहीं? क्या अब वे आगे भी पेटीएम यूपीआई का उपयोग कर सकते है? पेटीएम वॉलेट या फास्टटैग का क्या होगा? इसके अलावा यूजर्स के मन में कई तरह के सवाल आ रहे हैं और इस बारे में जानना जरूरी भी है. पेटीएम पेमेंट्स बैंक पर 29 फरवरी से डिपाॅजिट लेने पर रोक लग गयी है. रिजर्व बैंक के इस कदम से पेटीएम यूजर काफी उलझन में हैं.

लाॅकडाउन के दौरान अधिकतर व्यापारी लेन-देन की सुविधा के लिए पेटीएम के ग्राहक बन गये और उसका उपयोग भी कर रहे थे, लेकिन रिजर्व बैंक के इस प्रतिबंध के बाद व्यापारी व आम लोग अब काफी पशोपेश में हैं. उन्हें समझ नहीं आ रहा है कि क्या करें. हालांकि व्यापारियों के संगठन कैट ने इस संबंध में दिशानिर्देश जारी कर व्यपारियों की समस्याओं का समाधान करने की कोशिश जरूर की है. उनका कहना है कि दुकानदारों व यूजर्स को घबराने की कोई जरूरत नहीं है, क्योंकि आपका पैसा पूरी तरह से सुरक्षित है. यूजर्स की इन्हीं परेशानियों पर रिपोर्ट.

पेटीएम पर क्यों लगा प्रतिबंध?

भारतीय रिजर्व बैंक ने एक टेक्निकल ऑडिट में पाया था कि पेटीएम पेमेंट्स बैंक के मनी और डाटा ट्रैफिक फ्लो में कुछ समस्या आ रही है. एक ही पैन नंबर पर सैकड़ों खाते खोले गये थे. उनसे लेन देन हो रही थी. बिना सही पहचान यानी केवाईसी के खाते में लेनेदेन हो रहा था. पेटीएम बैंकिंग नियामक काफी समय से आरबीआइ के निशाने पर था. इस बारे में पेटीएम को वर्ष 2018, 2022 और 2023 में भी चेतावनी दी गई थी. बावजूद पेटीएम ने उसे गंभीरता से नहीं लिया. उन्होंने बताया कि रिजर्व बैंक ने पेटीएम को समय दिया है. अगर उस समय अवधि के दौरान वह ठीक कर लेता है, तो प्रतिबंध हट भी सकता है.

क्या पेटीएम ऐप 29 के बाद बंद हो जाएगा?

नहीं, पेटीएम ऐप पहले की तरह ही चालू रहेगा. आरबीआइ ने पेटीएम के डिजिटल पेमेंट बैंक पर पाबंदी लगायी, न कि पेटीएम ऐप पर. कंपनी ने एक बयान में साफ-साफ कहा है कि पेटीएम और उसकी सेवाएं 29 फरवरी के बाद भी चालू रहेंगी. क्योंकि पेटीएम की ओर से दी जाने वाली ज्यादातर सेवाएं सिर्फ एसोसिएट बैंक (पेटीएम पेमेंट्स बैंक) के साथ नहीं बल्कि दूसरे बैंकों के साथ भी भागीदारी में हैं.

आपके पैसे का क्या होगा?

पेटीएम वॉलेट के कस्टमर तबतक इसका उपयोग कर सकते हैं, जब तक कि उनकी शेष राशि खत्म न हो जाये. वे 29 फरवरी के बाद इसमें राशि ऐड नहीं कर सकेंगे. यदि आरबीआई नरम नहीं पड़ा, तो पेटीएम वॉलेट के लिए टॉप-अप बंद हो जाएगा और इसके माध्यम से लेनदेन नहीं किया जा सकेगा. इसका मतलब ये है कि पेटीएम वॉलेट यूजर्स 29 फरवरी तक लेनदेन जारी रख सकते हैं. हालांकि, 29 फरवरी के बाद वे अपनी मौजूदा शेष राशि का इस्तेमाल तब तक कर सकेंगे, जब तक कि यह खत्म न हो जाये. कस्टमर 29 फरवरी के बाद वॉलेट में कोई पैसा नहीं जोड़ पायेंगे.

यूजर्स के लिए दूसरा ऑप्शन क्या ?

इस समय 20 से अधिक बैंक और नॉन-बैंकिंग इंस्टीट्यूशन वॉलेट सर्विस देती हैं. इनमें मोबिक्विक, फोनपे, एसबीआइ, आइसीआइसीआइ बैंक, एचडीएफसी, अमेजन पे प्रमुख हैं. इसी तरह एसबीआइ, एचडीएफसी, आइसीआइसीआइ, आइडीएफसी, एयरटेल पेमेंट्स बैंक जैसे 37 बैंक फास्टैग सर्विस देते हैं. यूजर्स अपने बैंक के मोबाइल बैंकिंग, इंटरनेट बैंकिंग या गूगल पे और फोनपे जैसे थर्ड पार्टी ऐप से फास्टैग को रिचार्ज कर सकते हैं.

आम बैंक से कैसे अलग है पेटीएम का डिजिटल बैंक ?

पेटीएम पेमेंट्स बैंक दूसरे बैंकों से काफी अलग है. पेटीएम पेमेंट बैंक में सिर्फ पैसे जमा किये जा सकते हैं. उनको कर्ज देने का अधिकार नहीं है. ये एक ऐसा बैंक अकाउंट है जिसमें पैसे रखे जा सकते हैं, मगर एटीएम से कैश नहीं निकाल सकते. वन97 कम्युनिकेशंस के पास प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट का लाइसेंस है, जिसे पेटीएम पेमेंट्स बैंक शुरू करने के लिए इस्तेमाल किया गया. आम तौर पर दुकानदारों को जो भुगतान किया जाता है वो उनके पेटीएम पेमेंट अकाउंट में जाता है. फिर वहां से उसे दूसरे बैंक में ट्रांसफर किया जा सकता है. इसके लिए पेटीएम अपने मर्चेंट्स को क्रेडिट प्वाइंट देता है.

वॉलेट और फास्ट टैग में पड़े पैसे का क्या करें ?

रिजर्व बैंक ने पेटीएम पेमेंट बैंक पर अनियमितताओं के कारण प्रतिबंध लगाया है. पेटीएम को कई बार चेतावनी के बावजूद प्रबंधन इस पर ध्यान नहीं दिया. ऐसे में फिलहाल पेटीएम के खाता धारक, वॉलेट और फास्ट टैग का उपयोग ना करें और अपना पैसा निकाल लें.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.