MP Election 2023 : ‘ओपिनियन पोल’ पर भिड़ी बीजेपी और कांग्रेस! सीएम शिवराज ने लगाया दिग्विजय सिंह पर बड़ा आरोप

13

MP Election 2023 : मध्य प्रदेश में इस साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं इससे पहले प्रदेश की राजनीति गरम हो गई है. इस बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह पर छेड़छाड़ किए गए एक वीडियो के माध्यम से झूठ फैलाने का आरोप लगा दिया है. आपको बता दें कि सिंह के एक पोस्ट का स्क्रीनशॉट साझा करते हुए सीएम चौहान ने ‘एक्स’ पर लिखा कि कांग्रेस को झूठ का सहारा है, लेकिन इस बार झूठे और फर्जी सहारे काम नहीं आयेंगे. इसलिए कांग्रेस को ‘जन आक्रोश’ झेलना पड़ता है.

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने इस पोस्ट में लिखा था कि एक समाचार चैनल का यह पहला ‘ओपिनियन पोल’ है और जनता मध्य प्रदेश की सत्तारूढ बीजेपी को इस साल नवंबर में होने वाले विधानसभा चुनाव में हराने का मन बना चुकी है. मुख्यमंत्री ने समाचार चैनल के अधिकारियों के ट्वीट के स्क्रीनशॉट भी पोस्ट किए, जिसमें सिंह और अन्य कांग्रेस नेताओं द्वारा साझा किए गए ‘ओपिनियन पोल’ को पुराना बताया गया है और कहा गया है कि यह पुराने ओपिनियन पोल के साथ छेड़छाड़ कर बनाया गया ग्राफिक्स है. सीएम चौहान के अनुसार चैनल के अधिकारियों का कहना है कि ऐसा कोई सर्वे/ओपिनियन पोल चैनल ने नहीं करवाया है.

सोशल मीडिया का दुरुपयोग कर फर्जी सर्वे

मामले पर मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी प्रतिक्रिया दी. उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि दिग्विजय सिंह हार की हताशा से बचने के लिए और कार्यकर्ताओं का मनोबल बनाए रखने के लिए सोशल मीडिया का दुरुपयोग कर फर्जी सर्वे चला रहे हैं. अगर चैनल के अधिकारी इस संबंध में शिकायत दर्ज कराते हैं तो कानूनी कदम उठाए जाएंगे. उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर राजनीति को विकृत रूप दे रहे हैं. उन्होंने एक टीवी चैनल के हवाले से एक फर्जी चुनाव सर्वेक्षण चलाया, जबकि समाचार चैनल के मैनेजिंग एडिटर ने इसे फर्जी करार दिया. यह पहली बार नहीं है जब उन्होंने ऐसा किया है.

मध्य प्रदेश में हो सकती है नूंह जैसी हिंसा

गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा की मानें तो, दिग्विजय सिंह ने पहले कहा था कि मध्य प्रदेश में नूंह जैसी हिंसा हो सकती है और उन्होंने ‘एक मस्जिद पर भगवा झंडा’ की तस्वीर साझा करते हुए दावा किया था कि यह खरगोन का है. हरियाणा के नूंह में हाल ही में सांप्रदायिक हिंसा हुई थी. इधर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वी डी शर्मा ने मुरैना में मीडिया से कहा कि कांग्रेस ने मध्य प्रदेश में हार के डर से बौखलाकर एक राष्ट्रीय न्यूज चैनल की बाईट को जिस प्रकार से एडिट करके झूठ परोसने का काम किया है और जिस तरह से प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मिस्टर बंटाधार (दिग्विजय सिंह) के द्वारा ट्वीट किया गया है, उससे स्पष्ट है कि कांग्रेस हार के डर से बौखला गई है.

उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी का एक-एक कार्यकर्ता इनके झूठ का जवाब देने के लिए प्रत्येक बूथ पर सजग प्रहरी बनकर खड़ा है और कमलनाथ तथा दिग्विजय सिंह का झूठ मध्य प्रदेश में नहीं चलेगा क्योंकि भाजपा इसका कड़ा जवाब देगी.

मिश्रा ने क्लिप साझा किया

इस बीच प्रदेश कांग्रेस के मीडिया विभाग के अध्यक्ष के के मिश्रा ने कहा कि ‘ओपिनियन पोल’ से संबंधित वीडियो पिछले दो दिनों से सोशल मीडिया पर चल रहा था. मिश्रा ने शनिवार सुबह कथित तौर पर क्लिप साझा किया और बाद में इसे हटा दिया था. उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेताओं को दोष देने के बजाय उन्हें ऐसे लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करना चाहिए जो पिछले दो दिनों से क्लिप प्रसारित कर रहे हैं.

पिछले विधानसभा चुनाव पर एक नजर

पिछले विधानसभा चुनाव से पहले जहां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ऐसे कार्यक्रमों में सबसे आगे थे, वहीं बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व ने इस बार इन यात्राओं के लिए केंद्रीय मंत्री अमित शाह, राजनाथ सिंह और नितिन गडकरी को शामिल करने का फैसला किया है. नवंबर 2018 के मध्य प्रदेश के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस ने 230 में से 114 सीटें जीतीं, जबकि भाजपा 109 सीटों के साथ दूसरे स्थान पर रही. कांग्रेस ने निर्दलीय, बसपा और सपा के समर्थन से कमलनाथ के नेतृत्व में गठबंधन सरकार बनाई. हालांकि, यह 15 महीनों के बाद यह सरकार गिर गई जब वर्तमान केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के नेतृत्व में कांग्रेस विधायकों का एक समूह बीजेपी में शामिल हो गया. फलस्वरूप बीजेपी की सरकार बनी और चौहान की मुख्यमंत्री के रूप में वापसी हुई.

भाषा इनपुट के साथ

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.