बिहार: प्याज की कीमत में बढ़ोतरी से लोग परेशान, 70 रुपए किलो तक पहुंची कीमत, जानिए कब रेट में आएगी कमी

8

Bihar News: बिहार में प्याज की कीमत में लगातार बढ़ोतरी देखने को मिल रही है. 15 दिनों में ही इसकी कीमत में दो गुणा का इजाफा हुआ है और इसकी कीमत 70 रुपए किलोग्राम तक पहुंच चुकी है. थोक मंडी में प्याज 50- 52 रुपये और खुदरा में 60- 70 रुपये प्रति किलो बिक रहा है. प्याज के थोक कारोबारियों का कहना है कि सूबे में महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, दक्षिण भारत और राजस्थान से प्याज आता है, लेकिन पर्याप्त वर्षा नहीं होने से फसल देर से मंडी में पहुंचेगी. नयी फसल छठ के बाद ही आयेगी. मिली जानकारी के अनुसार अनुसार नवरात्र से प्याज की कीमत बढ़नी शुरू हुई थी. उससे पहले थोक मंडी में प्याज की कीमत 28 से 30 रुपये, जबकि खुदरा बाजार में 35 से 40 रुपये प्रति किलो थी. लेकिन, नवरात्र समाप्त होने ही थोक मंडी में प्याज की कीमत 50- 52 रुपये व खुदरा बाजार में 60 से 70 रुपये तक पहुंच गयी. थोक कारोबारी प्रवेश कुमार ने बताया कि फिलहाल थोक मंडी में अब प्याज की कीमत में अधिक उछाल होने की संभावना नहीं है. कीमत में कमी भी नहीं आयेगी.

बाजार में नया प्याज आने के बाद कीमत होगी कम

बिहार ओनियन एसोसिएशन के अध्यक्ष आनंद रंजन रिंकु ने भी बताया कि छठ के बाद बाजार में नया प्याज आते ही कीमत में तेजी से कमी आयेगी. नासिक मंडी में ही आवक कम है. नया आवक राजस्थान से आने की उम्मीद है. इसके बाद कीमतें गिरेंगी. 180 जगहों पर बिस्कोमान सस्ता प्याज उपलब्ध करा रहा है. वहीं, छठ के बाद बाजार में नया प्याज आते ही कीमत में कमी आने की बात कही जा रही है.

लोगों को उपलब्ध कराया जा रहा सस्ता प्याज

बिस्कोमान राज्य में 180 जगहों पर 25 रुपये किलो प्याज उपलब्ध करा रहा है. वहीं, पटना और आसपास के 20 इलाकों में 25 रुपये की दर से प्याज की बिक्री की जा रही है. बिस्कोमान के अध्यक्ष सुनील सिंह ने कहा कि पटना के लोगों को अगले 10 दिनों तक प्याज की किल्लत नहीं होने दी जायेगी. सोमवार को 17 ट्रक का ऑर्डर भेजा गया है. सुबह इको पार्क और पटना जू के पास व शाम को सचिवालय व अन्य बाजारों के पास सस्ता प्याज बेचा जा रहा है. भारतीय राष्ट्रीय उपभोक्ता सहकारी संघ (एनसीसीएफ) की ओर से सोमवार को सात जगहों पर 25 रुपये प्रति किलो प्याज की बिक्री गयी. एनसीसीएफ के शाखा प्रबंधक राजेश कुमार ने बताया कि नासरीगंज, किदवईपुरी, पटेल नगर, सगुना मोड पर रेडिएंट स्कूल के पास, न्यू मार्केट स्टेट बैंक के पास, बिड़ला कॉलोनी व मीठापुर मंडी के पास प्याज बेचा गया है. सभी सेंटरों से लगभग 10 से 12 कुंतल तक लोगों ने प्याज की खरीद की है.

प्याज की बढ़ती कीमतों से लोगों की बढ़ी परेशानी

वहीं, बता दें कि घरेलू बाजार में प्याज की बढ़ती कीमतों पर लगाम लगाने के लिए केंद्र सरकार ने तैयारी शुरू कर दी है. एक ओर जहां सरकार ने घरेलू उपलब्धता बनाये रखने के लिए प्याज निर्यात पर 800 अमेरिकी डॉलर प्रति टन का न्यूनतम निर्यात मूल्य अधिसूचित किया है, वहीं दूसरी ओर सरकार ने बफर के लिए अतिरिक्त दो लाख टन प्याज खरीदने का फैसला किया है. यह पहले से खरीदे जा चुके 5.07 लाख टन से अतिरिक्त होगा. उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय ने जानकारी दी थी कि न्यूनतम निर्यात मूल्य 29 अक्तूबर से प्रभावी होगा और 31 दिसंबर तक लागू रहेगा. प्याज के लिए 800 डॉलर प्रति टन एमइपी लगभग 67 रुपये प्रति किलोग्राम के बराबर है. अधिकारियों ने बताया कि सरकार ने चालू वर्ष के लिए बफर प्याज स्टॉक को दोगुना कर दिया है. इससे घरेलू दिनों में कीमतों पर अंकुश लगेगा. वहीं, फिलहाल राज्य में लोगों को प्याज की बढ़ती कीमतों ने परेशान कर दिया है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.