पंजाब में जहरीली शराब से मरने वालों की संख्‍या 90 हुई, आज 41 और की मौत, 25 गिरफ्तार

0 123

पंजाब में जहरीली शराब से मरने वालों की संख्‍या 90 हुई, आज 41 और की मौत, 25 गिरफ्तार
पंजाब में जहरीली शराब से मरने वालों की संख्‍या 90 लोगाें की मौत हो गई। शनिवार को 41 और लोगों ने दम तोड़ दिया। इससे पहले दो दिन में 49 लोगों की मौत हो गई थी।

चंडीगढ़/तरनतारन/अमृतसर, प्रदेश में जहरीली शराब पीने से मरने वालों की संख्या 90 हो गई है। शनिवार को 41 और लोगों की मौत हो गई। इनमें से 37 तरनतारन, एक अमृतसर और तीन बटाला के रहने वाले थे। इस मामले में पंजाब पुलिस ने शनिवार को प्रदेश में करीब 100 जगह छापामारी कर जहरीली शराब के लिए अल्कोहल सप्लाई वाले नेटवर्क को ब्रेक कर दिया है।

तरनतारन में 67, अमृतसर में 12 और बटाला में 11 की मौत

शराब बनाने के लिए अल्कोहल जिला पटियाला के ढाबों से तरनतारन पहुंचाया जाता था। तीन ढाबों को सील कर दिया गया है। सारा दिन चली पुलिस छापामारी की कार्रवाई के बाद पटियाला, अमृतसर, गुरदासपुर व तरनतारन से 17 आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है। शुक्रवार को भी आठ आरोपित पकड़े गए थे।

पुलिस ने 100 जगह की छापामारी, 17 लोगों को किया गिरफ्तार, अब तक कुल 25 गिरफ्तार

डीजीपी दिनकर गुप्ता ने बताया कि गिरफ्तार प्रमुख आरोपितों में बटाला की महिला किंगपिन दर्शन रानी ऊर्फ फौजण और जंडियाला का रहने वाले मास्टरमाइंड गोविंदरबीर सिंह ऊर्फ गोबिंदा शामिल हैं। गोबिंदा तरनतारन से अमृतसर ग्रामीण क्षेत्र में शराब सप्लाई कर रहा था। तरनतारन पुलिस को वांछित आजाद ट्रांसपोर्ट के मालिक प्रेम सिंह और भिंदा को भी राजपुरा पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

डीजीपी दिनकर गुप्ता ने बताया कि नकली शराब बनाने के लिए शराब फैक्टियों को जाने वाले अल्कोहल और स्प्रिट को जिला पटियाला के ढाबों पर उतारा जाता था। इसके बाद अमृतसर और तरनतारन में इसकी सप्लाई दी जाती थी। बनूड़ के पास पिछले दिनों पकड़ी गई अवैध शराब फैक्ट्री के मामले में आरोपित भिंदा और बनूड़ के पास स्थित गांव थूहा के रहने वाले बिट्टू इस काम में शामिल थे। वह ही अल्कोहल तरनतारन और आसपास के क्षेत्रों में देते थे।

झिलमिल ढाबे सहित तीन ढाबे किए गए सील

शंभू के झिलमिल ढाबा, बनूड़ के ग्रीन ढाबा और राजपुरा के छिंदा ढाबा को सील कर दिया गया है। झिलमिल ढाबा में 200 लीटर लाहन बरामद कर ढाबा प्रबंधक नङ्क्षरदर सिंह को गिरफ्तार और ढाबा मालिक हरजीत सिंह को नामजद किया गया है। राजपुरा-चंडीगढ़ मार्ग पर स्थित बनूड़ में ग्रीन ढाबा से 200 लीटर डीजल जैसे तरल पदार्थ बरामद कर ढाबा मालिक गुरजंट सिंह, एक अन्य मुलतानी ढाबे के मालिक नरेंद्र सिंह को भी गिरफ्तार किया गया है। तरनतारन के गांव ढोटियां के रहने वाले गुरपाल सिंह को प्रोडक्शन वारंट पर लिया जाएगा। उसे विगत नौ जुलाई को फिल्लौर में 4000 लीटर केमिकल और स्प्रिट के साथ गिरफ्तार किया गया था।

तरनतारन पुलिस को वांछित आजाद ट्रांसपोर्ट के मालिक प्रेम सिंह और भिंदा को भी राजपुरा पुलिस ने गिरफ्तार किया है। दो अन्य आरोपितों परमिंदर सिंह से 150 लीटर और बलजीत सिंह से 200 लीटर लाहन बरामद किया गया है।

तीन ईटीओ और दो डीएसपी समेत 13 अधिकारी निलंबित

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह शनिवार को ‘आस्क कैप्टन’ कार्यक्रम में लोगों से रुबरु होते हुए कहा लापरवाही बरतने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। यह शर्मनाक है कि पुलिस और आबकारी विभाग नकली शराब बनाने वालों को नहीं पकड़ पाए। इस मामले में लापरवाही बरतने पर 13 अधिकारियों को निलंबित कर उनके खिलाफ जांच के आदेश दिए गए हैैं।

निलंबित किए गए आबकारी एवं कराधान विभाग के अधिकारियों में गुरदासपुर के इटीओ लवजिंदर सिंह बराड़, अमृतसर के इटीओ बीएस चाहल, तरनतारन के इटीओ मधुर भाटिया और इंस्पेक्टर रवि कुमार (गुरदासपुर), गुरदीप सिंह (अमृतसर), पुखराज (फतेहाबाद) और हितेश प्रभाकर (तरनतारन) के नाम शामिल हैैं।

इसके अलावा अमृतसर के जंडियाला के डीएसपी मनजीत सिंह, तरनतारन के डीएसपी सुच्चा सिंह बल, तरनतारन थाना सिटी के एसएचओ अमृतपाल सिंह व थाना सदर की एसएचओ बलजीत कौर, तरसिक्का थाने के एसएचओ बिक्रम सिंह और बटाला सिविल लाइन थाने के एसएचओ मुख्यतयार सिंह को भी निलंबित किया गया है।

पीडि़त परिवारों को दो दो लाख रुपये की मदद

शनिवार रात तक कुल 90 लोगों की मौत हो चुकी है। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पीडि़त परिवारों को दो – दो लाख रुपये एक्स-ग्रेशिया ग्रांट देने का एलान किया है।