वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की निवेशकों को सलाह- आतंकवाद से उत्पन्न चुनौतियों को ध्यान में रख करें निवेश

1

डिजिटल भुगतान से मौद्रिक नीति का असर हुआ तेजी और प्रभावी

रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि हमने नीतिगत दर पर रोक बरकरार रखी है. अब तक 2.50 प्रतिशत की वृद्धि वित्तीय प्रणाली के जरिए अब भी काम कर रही है. उन्होंने कहा कि डिजिटल भुगतान से मौद्रिक नीति का असर तेजी से और प्रभावी रूप से दिखने लगा है. शक्तिकांत दास ने इस बात पर भी जोर दिया कि मौद्रिक नीति हमेशा चुनौतीपूर्ण रहती है और इसमें आत्मसंतुष्ट होने की कोई बात नहीं है. गवर्नर ने कहा कि वैश्विक अर्थव्यवस्था अब तीन चुनौतियों मुद्रास्फीति, धीमी वृद्धि और वित्तीय स्थिरता के लिए जोखिम का सामना कर रही है. घरेलू वित्तीय क्षेत्र के संबंध में उन्होंने कहा कि भारतीय बैंक तनाव की स्थिति के दौरान भी न्यूनतम पूंजी आवश्यकताओं को बनाए रखने में सक्षम होंगे. उन्होंने कहा कि भारत वैश्विक वृद्धि का नया इंजन बनने के लिए तैयार है और मार्च 2024 में समाप्त होने वाले चालू वित्त वर्ष में देश की जीडीपी वृद्धि दर 6.5 प्रतिशत रहने की उम्मीद है.

(इनपुट-भाषा)

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.