मुस्लिम युवक के साथ होनी थी हिंदू भाजपा नेता की बेटी की शादी, मचा बवाल, अंत में हुआ ये फैसला

7

उत्तराखंड से एक ऐसी खबर सामने आ रही है जो चर्चा का विषय बन चुकी है. दरअसल, भाजपा के नेता व पौड़ी के नगर पालिका अध्यक्ष यशपाल बेनाम की पुत्री का 28 मई को एक मुसलमान युवक के साथ तय विवाह का कार्यक्रम रद्द हो गया है. इस संबंध में पूर्व विधायक बेनाम ने मीडिया से बात की और कहा कि बेटी की खुशी के लिए वह मुसलमान युवक के साथ उसका विवाह कराने को राजी हो गये थे, लेकिन सोशल मीडिया तथा स्थानीय स्तर पर इसे लेकर हुई प्रतिक्रिया के मद्देनजर फिलहाल तय विवाह कार्यक्रम रद्द कर दिया गया है.

भाजपा के नेता व पौड़ी के नगर पालिका अध्यक्ष यशपाल बेनाम ने कहा कि जैसा माहौल बनाया गया है, उसे देखते हुए वधू और वर पक्ष के परिवारों ने साथ बैठकर यह फैसला लिया है कि जनप्रतिनिधि होने के नाते उन्हें पुलिस के साये में विवाह कार्यक्रम संपन्न करवाना शोभा नहीं देता. माहौल अनुकूल नहीं होने के कारण और जनता का ध्यान रखते हुए दोनों परिवारों ने तय किया है कि आगामी 26, 27 और 28 को होने वाले विवाह कार्यक्रम न किए जाएं.

कार्ड सोशल मीडिया पर वायरल

यहां चर्चा कर दें कि पिछले दिनों बेनाम की पुत्री मोनिका तथा उत्तर प्रदेश के अमेठी निवासी मोहम्मद मोनिस की शादी का कार्ड सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था. वहीं, विवाह कार्यक्रम रद्द होने का कोई कारण बताए बगैर मोनिस के पिता रईस ने कहा कि भाजपा नेता बेनाम की पुत्री के साथ 28 मई को होने वाला उनके पुत्र का विवाह कार्यक्रम रद्द हो गया है. शुक्रवार को हिंदुवादी संगठनों विश्व हिंदू परिषद, भैरव सेना तथा बजरंग दल ने कोटद्ववार तथा पौड़ी में शादी के विरोध में प्रदर्शन किया था और बेनाम का पुतला भी फूंका था.

28 मई को तय यह विवाह कार्यक्रम रद्द

विहिप (विश्व हिंदू परिषद) के पौड़ी के कार्यकारी जिलाध्यक्ष दीपक गौड़ ने ऐसे विवाह को गलत बताते हुए कहा कि बेनाम की पुत्री को या तो इस्लाम धर्म कबूल कर लेना चाहिए या उनके होने वाले दामाद को हिंदू धर्म अपनाना चाहिए. पहले बेनाम यह अन्तरधार्मिक विवाह कार्यक्रम पौड़ी के प्रसिद्ध कंडोलिया मैदान में आयोजित करना चाहते थे, स्थानीय व्यापार मंडल के सदस्यों सहित अन्य लोगों ने इसका विरोध किया. बाद में बेनाम ने शहर से लगभग छह किलोमीटर दूर घुड़दौड़ी इंजीनियरिंग कॉलेज के निकट स्थित एक वेडिंग प्वाइंट में विवाह का आयोजन रखा और इसके लिए हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार शादी का कार्ड भी छपवाया. हालांकि 28 मई को तय यह विवाह कार्यक्रम रद्द हो गया है.

भाषा इनपुट के साथ

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.