भारत का पहला मानवयुक्त ‘गगनयान’ मिशन अगस्त में होगा शुरू, श्रीहरिकोटा से उड़ने को तैयार है नया रॉकेट

4

अहमदाबाद : भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष एस सोमनाथ ने गुरुवार को कहा कि भारत की पहली मानवयुक्त अंतरिक्ष उड़ान ‘गगनयान’ के लिए पहले निरस्त मिशन को इस साल अगस्त के अंत में आयोजित किया जाएगा, जबकि कक्षा में मानव रहित मिशन अगले साल भेजा जाएगा. अहमदाबाद स्थित भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला (पीआरएल) में एक कार्यक्रम के मौके पर उन्होंने कहा कि परीक्षण वाहन श्रीहरिकोटा में तैयार है और चालक दल (क्रू) मॉड्यूल और क्रू ‘एस्केप सिस्टम’ के संयोजन का कार्य भी शुरू हो गया है.

श्रीहरिकोटा से उड़ने को तैयार है नया रॉकेट

गगनयान के बारे में नवीनतम जानकारी के बारे में पूछे जाने पर एस सोमनाथ ने बताया कि गगनयान के लिए पहली और सर्वप्रमुख चीज यह है कि निरस्त किए गए मिशन को अंजाम तक पहुंचाया जाए. उसके लिए हमने परीक्षण वाहन नाम से एक नया रॉकेट बनवाया है, जो श्रीहरिकोटा में तैयार है. क्रू मॉड्यूल और क्रू एस्केप सिस्टम के संयोजन की अभी तैयार हो रही हैं.

अगस्त के अंत तक हो जाएगा प्रक्षेपण

एस सोमनाथ ने कहा कि इसलिए मुझे सूचित किया गया है कि इस महीने के अंत में यह पूरी तरह कार्यात्मक परीक्षण, कंपन परीक्षण आदि के लिए तैयार होगा. इसलिए हम उम्मीद कर रहे हैं कि अगस्त के अंत में हम चालक दल के इस निरस्त मिशन के प्रक्षेपण में सक्षम होंगे. इसके बाद (मिशन को) निरस्त करने की विभिन्न स्थितियों के साथ मिशन को दोहराया जाएगा. इस वर्ष के लिए यह योजना बनाई गई . उन्होंने कहा कि परियोजना के हिस्से के रूप में कक्षा में मानव रहित मिशन अगले साल की शुरुआत में होगा.

2024 में मानवरहित मिशन होगा शुरू

सोमनाथ ने कहा कि अगले वर्ष की शुरुआत में हमारे पास कक्षा में मानवरहित मिशन होगा और वहां से इसे सुरक्षित वापस लाया जाना है, जो तीसरा मिशन होगा. फिलहाल, हमने ये तीन मिशन निर्धारित किए हैं. सोमनाथ अंतरिक्ष विभाग के सचिव के तौर पर भी सेवाएं दे रहे हैं. इस मिशन की प्रमुख चुनौतियों के बारे में पूछे जाने पर इसरो प्रमुख ने कहा कि गगनयान परियोजना में चालक दल के सदस्यों की सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण पहलू है.

चालक दल की सुरक्षा सर्वोपरि

उन्होंने कहा कि चूंकि मानव मिशन का हिस्सा होंगे, इसलिए चालक दल की सुरक्षा सर्वोपरि हो जाती है. इसके लिए हम दो और अतिरिक्त चीजें कर रहे हैं. एक को क्रू एस्केप सिस्टम कहा जाता है. इसका मतलब है कि यदि रॉकेट में कोई आकस्मिक स्थिति उत्पन्न होती है, तो सिस्टम सक्रिय हो जाना चाहिए. दूसरा है एकीकृत वाहन स्वास्थ्य प्रबंधन प्रणाली. उन्होंने कहा कि ‘क्रू एस्केप’ एक पारंपरिक इंजीनियरिंग समाधान है, जिसमें कंप्यूटर (गड़बड़ी का) पता लगाता है और प्रणोदन प्रणाली को प्रक्षेपण के लिए कहता है, ताकि आप (चालक दल) दूर चले जाएं. उन्होंने कहा कि दूसरी प्रणाली अधिक बुद्धिमान है जो बिना किसी मानवीय हस्तक्षेप के सूविज्ञ निर्णय लेती है.

मिशन के लिए हम कितने हैं तैयार

उन्होंने कहा कि आपको ऐसी प्रणालियों को विकसित करने के साथ-साथ परीक्षण करने की भी आवश्यकता है, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वे बिना किसी संदेह के काम करेंगी. इसलिए गगनयान कार्यक्रम में हम यह जाने बिना अंतिम मिशन में नहीं जाएंगे कि हम इसके लिए कितने तैयार हैं. भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी के अध्यक्ष सोमनाथ परम विक्रम-1000, एक उच्च प्रदर्शन कंप्यूटिंग (एचपीसी) सुविधा या एक सुपर कंप्यूटर का उद्घाटन करने के लिए पीआरएल में थे.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.