Chandrayaan-3 Live: ब्रिक्स में बोले पीएम मोदी- चंद्रयान-3 की सफलता पर पूरे विश्व से मिल रही बधाईयां

9

रोवर ‘प्रज्ञान’ लैंडर ‘विक्रम’ से बाहर निकला, चंद्रमा की सतह पर चक्कर लगाएगा

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) से जुड़े सूत्रों ने गुरुवार को बताया कि रोवर ‘प्रज्ञान’ लैंडर ‘विक्रम’ से बाहर निकल आया है और यह अब यह चंद्रमा की सतह पर घूमेगा. राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने ‘विक्रम’ लैंडर से रोवर ‘प्रज्ञान’ के सफलता पूर्वक बाहर आने पर इसरो की टीम को बधाई दी.

ब्रिक्स में बोले पीएम मोदी- चंद्रयान-3 की सफलता पर सभी देशों से मिल रही बधाई

ब्रिक्स सम्मेलन में शामिल हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, चंद्रयान-3 की सफलता पर पूरे विश्व से भारत को बधाई मिल रही है.

इसरो प्रमुख ने बताया, दक्षिणी ध्रुव को ही क्यों चुना

इसरो द्वारा चंद्रयान-3 की लैंडिंग के लिए चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव को चुनने पर इसरो प्रमुख एस सोमनाथ ने कहा, हम दक्षिणी ध्रुव के करीब चले गए जो लगभग 70 डिग्री है. दक्षिणी ध्रुव में सूर्य की किरणें कम पड़ती हैं. उन्होंने कहा, चंद्रमा पर काम कर रहे वैज्ञानिकों ने दक्षिणी ध्रुव में बहुत रुचि दिखाई क्योंकि अंततः मनुष्य वहां जाकर उपनिवेश बनाना चाहते हैं और फिर उससे आगे की यात्रा करना चाहते हैं. इसलिए हम सबसे अच्छी जगह की तलाश कर रहे हैं और दक्षिणी ध्रुव में वह क्षमता है.

इसरो प्रमुख एस सोमनाथ ने बताया, रोवर प्रज्ञान के पास हैं दो उपकरण

इसरो प्रमुख एस सोमनाथ ने बताया, प्रज्ञान रोवर के पास दो उपकरण हैं, दोनों चंद्रमा पर मौलिक संरचना के निष्कर्षों के साथ-साथ रसायनिक संरचनाओं से संबंधित हैं…इसके अलावा, यह सतह पर चक्कर लगाएगा. हम एक रोबोटिक पथ नियोजन अभ्यास भी करेंगे जो हमारे लिए भविष्य के अन्वेषणों के लिए महत्वपूर्ण है.

इसरो प्रमुख एस सोमनाथ ने प्रज्ञान रोवर के बारे में दी जानकारी

चंद्रयान-3 की चंद्रमा पर सफल लैंडिंग के एक दिन बाद इसरो प्रमुख एस सोमनाथ ने प्रज्ञान रोवर के बारे में पूरी जानकारी दी. उन्होंने यह भी बताया कि यह चंद्रमा पर कैसे काम करेगा.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.