National Milk Day: दूध पीने के हैं ढेर सारे फायदे, पीना पसंद नहीं तो ऐसे करें सेवन

4

National Milk Day: भारत में श्वेत क्रांति के जनक रहे डॉ वर्गीज कुरियन की याद में हर वर्ष 26 नवंबर को राष्ट्रीय दुग्ध दिवस मनाया जाता है. उनका जन्म 26 नवंबर, 1921 को केरल के कोझीकोड में हुआ था. डॉ कुरियन डेयरी क्रांति ‘ऑपरेशन फ्लड’ के लिए काफी प्रसिद्ध हैं, जिसे दुनिया के सबसे बड़े कृषि कार्यक्रम के रूप में जाना जाता है. डॉ कुरियन ने अमूल ब्रांड की स्थापना और सफलता में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभायी. इनके प्रयासों के परिणामस्वरूप वर्ष 1998 में अपना देश अमेरिका को पीछे छोड़ते हुए दूध का सबसे बड़ा उत्पादक बन गया था. डॉ कुरियन के प्रयासों के लिए उन्हें सरकार द्वारा पद्मश्री (1965), पद्मभूषण (1966) और पद्मविभूषण (1999) से भी सम्मानित किया गया.

दुनिया का सबसे बड़ा दूध उत्पादक

जिस समय देश को आजादी मिली उस समय खाद्यान्न की किल्लत तो थी ही साथ ही दूध उत्पादन की स्थिति भी बहुत खराब थी, लेकिन आज भारत दुनिया का सबसे बड़ा दूध उत्पादक देश है. वर्ष 2021 में अपने देश 199 मिलियन टन से अधिक दूध का उत्पादन हुआ था. दुग्ध उत्पादन में भारत की सफलता की कहानी डॉ वर्गीज कुरियन द्वारा लिखी गयी थी. यही वजह है कि उनको भारत में श्वेत क्रांति के जनक के रूप में जाना जाता है. उन्हें भारत को दूध की कमी वाले देश से आज दुनिया में दूध का सबसे बड़ा उत्पादक देश बनाने के अपने जबरदस्त प्रयासों के लिए जाना जाता है.

हर उम्र में दूध फायदेमंद

हम सभी का पहला आहार मां का दूध होता है. इसके बाद गाय के दूध को हम मनुष्यों के लिए सर्वाधिक सुपाच्य माना गया है. दूध में 85 प्रतिशत जल और बाकी 15 प्रतिशत में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन व मिनरल्स होते हैं. दूध में कैल्शियम, फास्फोरस जैसे पोषक तत्व होते हैं, जो हमारे सेहत के लिए बेहद जरूरी होते हैं. मिल्क हमारी हड्डियों, दातों और दिमाग के लिए बेहद जरूरी होता है. गाय के दूध के सेवन के सकारात्मक प्रभाव मांसपेशियों के फंक्शन को बेहतर करने और रिपयेर करने में भी पाये गये हैं.

दूध न हो पसंद तो दूध से बनी चीजें खाओ

दूध पीना न भाता हो तो तुम दूध की जगह दूध से बने प्रोडक्ट भी खा सकते हो. इसमें दही, छाछ, पनीर, खोया आदि शामिल हैं. तुम मम्मा से बोलकर ये चीजें घर में बनवा सकते हो.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.