गिरिराज सिंह ने गोडसे को बताया भारत का ‘सपूत’, असदुद्दीन ओवैसी पर साधा निशाना, देखें वीडियो

58

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने महात्मा गांधी की हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे को लेकर एक ऐसी बात कह दी है जिसपर बवाल मच सकता है. जी हां…छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा शहर में मीडिया से बातचीत के क्रम में उन्होंने गोडसे को भारत का ‘सपूत’ बताया और कहा कि वह मुगल शासक बाबर और औरंगजेब की तरह आक्रमणकारी नहीं था क्योंकि वह भारत में पैदा हुआ था. केंद्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री ने आगे कहा कि जो लोग खुद को बाबर और औरंगजेब की संतान कहलाने में खुशी महसूस करते हैं, वे भारत माता के सच्चे सपूत नहीं हो सकते.

औरंगजेब को लेकर महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी के गोडसे से संबंधित एक बयान के बारे में पूछे जाने पर केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि अगर गांधी जी के हत्यारे हैं तो गोडसे भारत के सपूत भी हैं, वे भारत में ही जन्मे हैं, औरंगजेब और बाबर की तरह अक्रांता नहीं हैं और जिसको बाबर की औलाद कहलाने में खुशी महसूस होती है, वह कम से कम भारत माता का सच्चा सपूत नहीं हो सकता.

धर्म परिवर्तन को बढ़ावा दे रहे हैं भूपेश बघेल

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने छत्तीसगढ़ में भूपेश बघेल के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार पर धर्म परिवर्तन को बढ़ावा देने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि राज्य में जनजातियों और गैर-जनजातियों को एक साजिश के तहत धर्मांतरित किया जा रहा है. जब भाजपा राज्य में सत्ता में आएगी तो धर्मांतरण के खिलाफ कड़ा कानून बनाया जाएगा. केंद्रीय मंत्री ने कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा) के तहत छत्तीसगढ़ को दिये गये धन के गबन का दावा किया.

गिरिराज सिंह ने आबकारी मंत्री कवासी लखमा पर निशाना साधा

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि जो भी मनरेगा फंड की हेराफेरी कर रहा है, उसे जांच का सामना करना पड़ेगा और उन्हें दंडित किया जाएगा, चाहे वह मुख्यमंत्री हों या कोई और…सिंह ने भाजपा के खिलाफ कथित अपशब्दों के इस्तेमाल को लेकर आबकारी मंत्री कवासी लखमा पर भी निशाना साधा और कहा कि उनकी टिप्पणी कांग्रेस सरकार के चरित्र को दर्शाती है और बघेल जी को यह देखना होगा. यहां चर्चा कर दें कि लखमा ने गुरुवार को कांकेर जिले में मीडिया से बात करते हुए कथित तौर पर स्थानीय बोली हल्बी में एक अपमानजनक शब्द का इस्तेमाल किया था.

भाषा इनपुट के साथ

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.