दिवाली पर बोनस नहीं देने पर कर दी हत्या, ढाबा मालिक को मौत के घाट उतारकर फरार हुए कर्मचारी

27

पूरे देश में दिवाली का त्योहार मनाया जा रहा है. इस बीच आपको कई तरह की खबरें सुनने को मिल रही होगी. लेकिन महाराष्ट्र के नागपुर से जो खबर आ रही है वो दिल दहलाने वाली है. दरअसल, यहां शनिवार को दिवाली का बोनस देने से इनकार करने पर एक ढाबा मालिक को उसके दो कर्मचारियों ने कथित रूप से पीटा और उसकी जान ले ली. इस खबर को अंग्रेजी वेबसाइट टाइम्स ऑफ इंडिया ने प्रकाशित की है. खबर में बताया गया है कि पीड़ित राजू ढेंगरे ने कर्मचारियों की दिवाली बोनस की मांग को पूरा करने से इनकार कर दिया था, जिसके कारण उसकी हत्या कर दी गई. हत्या करने के बाद दोनों फरार हो गये. ढेंगरे कुही तालुका के सुरगांव गांव के पूर्व सरपंच (ग्राम प्रधान) थे और उन्होंने हाल ही में ग्राम पंचायत चुनाव जीता था. मामले को लेकर एसपी हर्ष ए पोद्दार ने कहा कि प्रथम दृष्टया में हत्या की वजह पैसों का लेन-देन ही लग रहा है लेकिन हम दूसरे एंगल से भी मामले की जांच करेंगे. उन्होंने कहा कि मामले की राजनीतिक एंगल से भी जांच की जाएगी.

बीजेपी के समर्थक थे ढेंगरे

हमलावरों की पहचान छोटू और आदि के रूप में हुई है, जो मध्य प्रदेश के मंडला के रहने वाले बताए जा रहे हैं. पुलिस ने जो जानकारी दी है उसके अनुसार, ढेंगरे ने लगभग एक महीने पहले शहर में मध्य प्रदेश राज्य बस स्टॉप के पास एक श्रमिक ठेकेदार के माध्यम से दोनों को काम पर रखा था. सूत्रों के हवाले से खबर दी गई है कि ढेंगरे की इलाके में अच्छी पकड़ थी. वह किसी बड़े विवाद में नहीं फंसते थे. उनके परिवार की गांव में अच्छी छवि थी. राजनीतिक रूप से जुड़े ढेंगरे बीजेपी के समर्थक थे. हालांकि वह जीत गए थे, लेकिन उनके राजनीतिक दबदबे को झटका लगा था क्योंकि उनके प्रतिद्वंद्वी खेमे ने हाल के ग्राम पंचायत चुनाव में अच्छा प्रदर्शन किया था.

सीसीटीवी फुटेज आया सामने

बताया जा रहा है कि हत्या के बाद छोटू और आदि ढेंगरे की कार लेकर भाग गए थे, लेकिन विहिरगांव के पास नागपुर-उमरेड रोड पर डिवाइडर से टकरा गए जिससे दोनों को चोट लगी. यह दुर्घटना सीसीटीवी फुटेज में कैद हो गई जिसमें दोनों हमलावर कार से बाहर आते हैं और दिघोरी नाका की ओर भागते हुए नजर आ रहे हैं. उन्होंने दिघोरी से एक ई-रिक्शा लिया लेकिन उसके बाद उनकी गतिविधियों का पता नहीं चल सका. पुलिस ने बताया कि एक साथ खाना खाने के दौरान ढेंगरे का आदि और छोटू से विवाद हो गया था. दोनों दिवाली के लिए पैसे और बोनस की मांग कर रहे थे. ढेंग्रे ने उन्हें पैसे देने की बात कही लेकिन कुछ दिनों के बाद…

पहले रस्सी से घोंटा गला

बाद में ढेंगरे एक खाट पर जाकर सो गये. आदि और छोटू ने इसी वक्त रस्सी निकाली और उनका गला घोंटा. इसके बाद सिर पर किसी कठोर वस्तु से वार किया और चेहरे पर धारदार हथियार से हमला कर दिया. दोनों ने ढेंगरे को खाट पर निढाल छोड़ दिया और शरीर को रजाई से ढक दिया. इसके बाद वे ढेंगरे की कार लेकर फरार हो गये. एक अन्य कर्मचारी जो सबकुछ देख रहा था, वह अपनी जान के डर से रसोई में भाग गया. बताया जा रहा है कि ढेंगरे की बेटी ने बार-बार फोन किया लेकिन जब कोई जवाब नहीं मिला तो उसने ढाबे के पास एक पान की दुकान वाले को फोन किया. पान की दुकान का मालिक ढाबे पर गया जहां उसने खाट पर राजू ढेंग्रे का शव देखा और शोर मचाया.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.