दिल्ली मेट्रो के लाखों यात्रियों को जल्द मिलेगा तोहफा, मेट्रो के स्मार्ट कार्ड से बस में खरीद सकेंगे टिकट

0 105

 

नई दिल्ली, Delhi Metro Card: दिल्ली मेट्रो रेल निगम (Delhi Metro Rail Corporation) द्वारा संचालित ट्रेनों में सफर करने वाले लाखों यात्रियों को एक और तोहफा मिलने जा रहा है। इससे उनका बस का सफर भी आसान होगा। दरअसल, दिल्ली मेट्रो का स्मार्ट कार्ड रखने वाले यात्री अब स्वाइप कर इससे बस में भी सफर कर सकेंगे। दिल्ली परिवहन निगम (Delhi Transport Corporation) अपनी बसों में ऑटोमेटेड फेयर कलेक्शन प्रणाली (Automated Fair Collection System) के तहत जल्द ही इलेक्ट्रॉनिक टिकटिंग मशीनें बदलने जा रहा है। इसमें बदलाव होते ही दिल्ली मेट्रो द्वारा स्मार्ड से यात्री बसों में स्वाइप करके किराये का भुगतान कर सकेंगे। यानी आपको बसों में टिकट नहीं लेनी होगी, बल्कि इसी से आपका काम चल जाएगा। इसके लिए डीटीसी ने टेंडर जारी कर दिया है। माना जा रहा है कि अगले साल से बसों में यह सुविधा मिलनी शुरू हो जाएगी।

लगाई जाएंगी अत्याधुनिक मशीनें

अधिकारियों की मानें तो दिल्ली परिवहन निगम द्वारा लगाई जाने वाली मशीनें अत्याधुनिक होगी। इन मशीनों में मेट्रो कार्ड, क्यूआर कोड, डेबिट व क्रेडिट कार्ड से टिकट लेने की सुविधा होगी।

4000 मशीनें खरीदेगा डीटीसी

मिली जानकारी के मुताबिक, फिलहाल डीटीसी के पास 3800 बसें हैं। इनमें ऑटोमेटेड फेयर कलेक्शन प्रणाली के तहत सभी बसों के लिए 4000 मशीनें खरीदी जाएंगीं।

गौरतलब है कि राजधानी दिल्ली में मेट्रो कार्ड को डीटीसी बसों में इस्तेमाल करने की प्रक्रिया पर काफी समय से विचार किया जा रहा था। दिल्ली मेट्रो कार्ड को मेट्रो स्टेशन के अलावा ऑनलाइन भी रिचार्ज करवाया जा सकता है। दिल्ली में बसों का न्यूनतम किराया 5 रुपए और अधिकतम किराया 25 रुपये है।

डेबिट कार्ड की तरह काम करेगा कार्ड

मेट्रो कार्ड अब तक डेबिट कार्ड की तरह मेट्रो में काम करता है। ऐसे में अब इसका दायरा बढ़कर बसों तक पहुंच जाएगा। यात्रियों को बस के कंडक्टर को अपना स्मार्ड कार्ड देना होगा और फिर वह अपनी मशीन से स्वाइप करके टिकट के पैसे काट लेगा।

कोरोना काल को छोड़ दें तो दिल्ली में बड़ी संख्या से देश और विदेश पर्यटक घूमने आते हैं। ऐसे में आने वाले समय में दिल्ली में पर्यटकों को अब मेट्रो और बस के लिए अलग-अलग तरीके से भुगतान करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। साथ ही अब पर्यटकों को अपनी जेब में ज्यादा कैश रखकर चलने की भी जरूरत नहीं होगी।