मिलिंद देवड़ा के 55 साल पुराना रिश्ता तोड़ने से कांग्रेस को होगा ज्यादा नुकसान! जानें ऐसा क्यों

7

लोकसभा चुनाव से पहले महाराष्ट्र में कांग्रेस को जोरदार झटका लगा है. ये झटका राहुल गांधी के भारत जोड़ो न्याय यात्रा शुरू होने से ठीक पहले लगा है. दरअसल, मिलिंद देवड़ा ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफे की घोषणा कर दी है. इससे पार्टी के साथ उनके परिवार का 55 साल पुराना रिश्ता खत्म हो गया. कांग्रेस के दिग्गज नेता मुरली देवड़ा के बेटे मिलिंद देवड़ा ने सोशल मीडिया एक्स पर उक्त जानकारी दी. उन्होंने लिखा कि आज मेरी राजनीतिक यात्रा में एक महत्वपूर्ण अध्याय का समापन हो चुका है. मैंने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से अपना इस्तीफा दे दिया है, जिससे पार्टी के साथ मेरे परिवार का 55 साल पुराना रिश्ता खत्म हो गया है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार मिलिंद देवड़ा शिवसेना शिंदे गुट में शामिल हो सकते हैं.

अटकलों को ‘अफवाह’ कहकर खारिज किया मिलिंद देवड़ा ने

मिलिंद देवड़ा का इस्तीफा उन अटकलों के बीच आया है कि वे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली शिवसेना में शामिल होंगे. हालांकि, देवड़ा ने शनिवार को इन अटकलों को ‘अफवाह’ कहकर खारिज कर दिया था. देवड़ा की बात करें तो ये वही नेता हैं जिन्होंने हाल ही में मुंबई दक्षिण लोकसभा क्षेत्र पर शिवसेना (यूबीटी) द्वारा दावा करने पर अपनी नाराजगी सार्वजनिक की थी. जब उनसे पूछा गया कि क्या वह अपने समर्थकों के साथ किसी प्लान पर काम कर रहे हैं, तो उन्होंने कहा कि मैं अपने समर्थकों की बात सुन रहा हूं…अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया है.

किस दिग्गज के बेटे हैं मिलिंद देवड़ा ?

मिलिंद देवड़ा कांग्रेस के दिग्गज नेता मुरली देवड़ा के बेटे हैं. इन्होंने लोकसभा चुनाव 2004 और 2009 में मुंबई दक्षिण सीट पर जीत दर्ज की थी. बाद के 2014 और 2019 चुनावों में शिवसेना (अविभाजित) नेता अरविंद सावंत के खिलाफ उन्हें हार का सामना करना पड़ा था. देवड़ा ने कहा था कि उनके परिवार ने 50 वर्षों तक इस सीट का प्रतिनिधित्व किया है. वह किसी भी लहर के बाद नहीं चुने गये. मीडिया में चल रही खबरों पर एक सवाल का जवाब देते हुए देवड़ा ने कहा कि ये अफवाहें हैं, जिसमें कहा गया है कि वह शिंदे के नेतृत्व वाली शिवसेना में शामिल होने के लिए कांग्रेस छोड़ रहे हैं.

देवड़ा ने क्यों छोड़ी कांग्रेस

आपको बता दें कि उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाले गुट ने आगामी लोकसभा चुनाव में मुंबई दक्षिण निर्वाचन क्षेत्र से लड़ने का दावा किया था, जिसका प्रतिनिधित्व 2014 से पहले देवड़ा करते थे, जो कांग्रेस नेता को रास नहीं आया. पिछले दिनों जारी एक वीडियो बयान में, देवड़ा ने कहा कि यदि “alliance partner” के द्वारा इस तरह के बयान बंद नहीं हुए, तो उनकी पार्टी भी सीटों के लिए उम्मीदवारों की घोषणा कर सकती है. गौर हो कि शिवसेना (यूबीटी) महाराष्ट्र में महा विकास अघाड़ी में कांग्रेस और एनसीपी (शरद पवार गुट) की गठबंधन सहयोगी है.

कांग्रेस को होगा नुकसान

जानकारों की मानें तो यदि मिलिंद देवड़ा के शिंदे गुट में जानें की अटकलें सही साबित होती हैं तो कांग्रेस को इससे ज्यादा नुकसान हो सकता है. ऐसा इसलिए क्योंकि मुंबई दक्षिण में देवड़ा का गढ़ रहा है.

राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा कहां से होगी शुरू

जानने के लिए यहां क्लिक करें

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.