मणिपुर हिंसा: सत्ता पक्ष और विपक्ष की अहम बैठक, मणिपुर मुद्दे पर बनाएंगे रणनीति, सदन में आज भी हंगामे के आसार

31

मणिपुर हिंसा, मानसून सत्रः संसद में मानसून सत्र का तीसरा दिन भी मणिपुर मुद्दे की भेंट चढ़ गया. मणिपुर हिंसा मामले को लेकर सदन में जमकर हंगामा हुआ. विपक्ष मणिपुर मुद्दे पर चर्चा चाहता है. वहीं, सत्ता पक्ष का कहना है कि वो भी चर्चा के लिए तैयार हैं. इसके बाद भी मुद्दे पर चर्चा नहीं, सिर्फ हंगामा हो रहा है. बड़ा सवाल है कि आखिर ऐसा क्यों है, जब दोनों पक्ष चर्चा के लिए राजी हैं फिर भी चर्चा नहीं हो पा रही है. दरअसल, विपक्ष विपक्षी दल सदन में मणिपुर मामले को लेकर पीएम मोदी के वक्तव्य और चर्चा की मांग पर अड़े हैं. इसको लेकर सदन में भारी हंगामा हो रहा है. हंगामे और नारेबाजी के कारण दोनों सदनों की कार्यवाही तीन-तीन बार स्थगित करनी पड़ी. इसके बाद भी हंगामा नहीं थमा को कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित कर दी गई.

गृह मंत्री अमित शाह ने की चर्चा की अपील
इधर, लोकसभा में विपक्षी सदस्यों की नारेबाजी के बीच केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि सरकार मणिपुर हिंसा बेहद संवेदनशील मुद्दा है. सरकार इसपर चर्चा के लिए तैयार है. उन्होंने कहा कि विपक्ष से आग्रह है कि वह चर्चा होने दें और सच्चाई देश के सामने आने दें . शाह ने हैरत जताते हुए कहा कि उन्हें नहीं मालूम कि विपक्ष संसद में चर्चा क्यों नहीं होने दे रहा है? उनके इस वक्तव्य के बाद भी विपक्षी सदस्यों का हंगामा जारी रहा. इससे पहले लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने जैसे ही प्रश्नकाल शुरू करने को कहा, वैसे ही कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों के सदस्य मणिपुर मुद्दे को उठाने लगे. राज्यसभा में भी मणिपुर मुद्दे पर विपक्ष का हंगामा व नारेबाजी जारी रही. राज्यसभा में शून्यकाल में सभापति जगदीप धनखड़ ने जैसे ही कहा कि उन्हें नियम 176 के तहत अल्पकालिक चर्चा के लिए 11 नोटिस मिले हैं.

डेरेक से बोले सभापति आसन को आप दे रहे चुनौती
राज्यसभा में सभापति जगदीप धनखड़ ने बताया कि उन्हें नियम 267 के तहत कार्यस्थगन प्रस्ताव के जरिये चर्चा कराने के लिए 27 नोटिस मिले हैं. उन्होंने जैसे ही उल्लेख करना शुरू किया कि मल्लिकार्जुन खरगे , जॉन ब्रिटास, एडी सिंह की ओर से नोटिस मिले हैं. सदन में तृणमूल कांग्रेस के नेता डेरेक ओ’ब्रायन ने आपत्ति जतायी और सभापति से पूछा कि ये सदस्य किस दल के हैं, इसका भी जिक्र हो. धनखड़ ने डेरेक से सीट पर बैठ जाने को कहा, पर वह अपनी बात कहते रहे. डेरेक ने कहा आपने जैसे भाजपा के सदस्यों का नाम लिया, वैसे ही अन्य नोटिस देने वालों के दल का भी जिक्र कीजिए. इस पर सभापति ने कहा, श्रीमान डेरेक, आप आसन को चुनौती दे रहे हैं.

AAP सांसद संजय सिंह निलंबित, विपक्ष का संसद परिसर में धरना
इधर, राज्यसभा में अशोभनीय आचरण को लेकर ‘आप’ के सदस्य संजय सिंह को वर्तमान सत्र के शेष हिस्से के लिए निलंबित कर दिया गया है. इसके विरोध में विपक्षी गठबंधन इंडियन नेशनल डेवलपमेंटल इन्क्लूसिव अलायंस (I-N-D-I-A) के घटक दलों के नेता सोमवार को संसद परिसर में धरने पर बैठ गये. वहीं, संजय सिंह को निलंबित किये जाने के कुछ घंटे बाद राज्यसभा के सभापति जगदीप धनखड़ ने कहा कि शिष्टाचार और अनुशासन को लागू करने के लिए कभी-कभी कड़े कदम उठाना जरूरी हो जाता है. विपक्षी दलों ने संजय सिंह के खिलाफ कार्रवाई की निंदा की और सरकार पर उनकी आवाज दबाने का प्रयास करने का आरोप लगाया.

विपक्षी दलों का संसद परिसर में प्रदर्शन
विपक्षी गठबंधन ‘इंडिया’ (I-N-D-I-A) के घटक दलों ने सोमवार को मणिपुर के मुद्दे पर प्रधानमंत्री से संसद के दोनों सदनों में बयान देने और चर्चा की मांग को लेकर संसद भवन परिसर में प्रदर्शन किया. इसमें कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे भी शामिल हुए. इसके अलावा उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति जगदीप धनखड़ ने संसद में अपने कक्ष में राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खरगे से बातचीत की. राज्यसभा के सभापति धनखड़ ने राज्यसभा के अन्य विपक्षी नेताओं के साथ भी बैठक की. बैठक में कांग्रेस नेता जयराम रमेश, बीआरएस के के. केशव राव, बीजेडी के सस्मित पात्रा और आम आदमी पार्टी के नेता के राघव चड्ढा भी शामिल हैं. हालांकि इस बैठक का कोई नतीजा नहीं निकला, क्योंकि विपत्र अपनी मांग पर अड़े रहे.

मंगलवार को सरकार और विपक्ष ने बुलाई बैठक
मणिपुर मामले को लेकर गरमाये सत्र के बीच सत्ता पक्ष और विपक्ष की ओर से मंगलवार को बैठक बुलाई गई है. आज यानी मंगलवार को लोकसभा के मानसून सत्र की रणनीति बनाने के लिए सुबह साढ़े 9 बजे बीजेपी संसदीय दल की बैठक होगी. वहीं, मानसून सत्र के लिए अपनी रणनीति तैयार करने के लिए इंडिया (I-N-D-I-A) गठबंधन के नेता भी बैठक करने वाले हैं. विपक्ष की बैठक संसद में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खरगे के कार्यालय में होगी, जिसमें आगे की रणनीति पर चर्चा होगी.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.