मणिपुर के मोरेह में भड़की हिंसा, उग्रवादी हमले में जवान शहीद, बीरेन सिंह सरकार ने केंद्र से मांगा हेलीकॉप्टर

8

मणिपुर से एक बार फिर से हिंसा की खबर आ रही है. बताया जा रहा है तेंगनोउपल जिले के सीमावर्ती शहर मोरेह में कुकी उग्रवादियों ने सुरक्षा बलों के एक वाहन पर बुधवार को हमला कर दिया. जिसमें एक जवान शहीद हो गए. जबकी हिंसा में कुछ लोगों के घायल होने की खबर मिल रही है. घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इधर हिंसा की खबरों के बीच राज्य की एन बीरेन सिंह सरकार ने केंद्र सरकार से हेलीकॉप्टर की मांग की है. गौरतलब है कि दो दिन पहले राहुल गांधी की अगुआई में कांग्रेस की भारत जोड़ो न्याय यात्रा को मणिुपर से ही हरी झंडी दिखाई गई थी.

कुकी उग्रवादियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हुए आईआरबी के जवान

पुलिस ने बताया कि शहीद जवान की पहचान वांगखेम सोमोरजीत के रूप में की गई है. सोमोरजीत मणिपुर के मोरेह में राज्य पुलिस कमांडो के रूप में तैनात भारतीय रिजर्व बटालियन (आईआरबी) के जवान थे. बताया जा रहा है कि सुरक्षा बलों की बुधवार सुबह मोरेह शहर में तीन अलग-अलग स्थानों पर संदिग्ध कुकी उग्रवादियों के साथ मुठभेड़ हुई.

उग्रवादियों ने सुरक्षा बलों की चौकी पर बम फेंके और गोलीबारी की

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि उग्रवादियों ने एसबीआई मोरेह के पास सुरक्षा बलों की एक चौकी पर बम फेंके और गोलीबारी की जिसके बाद सुरक्षा बलों ने जवाबी कार्रवाई की. उग्रवादियों ने अस्थायी कमांडो चौकी पर आरपीजी गोले भी दागे, जिससे आसपास खड़े कई वाहन क्षतिग्रस्त हो गए.

दो संदिग्धों की गिरफ्तारी के विरोध में कुकी उग्रवादियों ने घटना को दिया अंजाम

पुलिस ने बताया कि एक पुलिस अधिकारी की हत्या के मामले में सीमावर्ती शहर में राज्य बलों द्वारा दो संदिग्धों को गिरफ्तार किए जाने के 48 घंटे बाद संदिग्ध कुकी उग्रवादियों ने सुरक्षा बलों की चौकी पर गोलीबारी की. इससे पहले, मणिपुर सरकार ने तेंगनोउपल में 16 जनवरी को देर रात 12 बजे से पूर्ण कर्फ्यू लगा दिया था.

एन बीरेन सिंह सरकार ने केंद्र की मोदी सरकार से मांगा हेलीकॉप्टर

मणिपुर के गृह आयुक्त टी रणजीत सिंह ने गृह मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव को लिखे एक पत्र में कहा, सीमावर्ती शहर मोरेह में कानून-व्यवस्था की स्थिति चिंता का विषय बनी हुई है. मोरेह में उत्पन्न स्थिति को देखते हुए, कभी भी चिकित्सीय आपातकाल के हालात बन सकते हैं. मणिपुर सरकार ने गृह मंत्रालय से कम से कम सात दिनों के लिए हेलीकॉप्टर मांगे हैं. मोरेह, राज्य की राजधानी इंफाल से 105 किमी दूर है. पत्र में यह भी लिखा गया कि गृह मंत्रालय ने चार जनवरी को यह बताने के लिए कहा था कि कितनी अवधि और संख्या में गृह मंत्रालय के हेलीकॉप्टर की जरूरत है, क्योंकि उत्तर पूर्व क्षेत्र में सीमित संसाधनों के कारण गृह मंत्रालय के हेलीकॉप्टर को एक ही स्थान पर लंबे समय तक उपलब्ध कराना संभव नहीं हो सकता है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.