पटना में विपक्ष का महाजुटान: ममता-महबूबा ने कहा, बिहार से बनने जा रहा है इतिहास, जम्मू-कश्मीर से हुई थी शुरुआत

6

पटना : बिहार की राजधानी पटना में शुक्रवार को भाजपा के खिलाफ आयोजित विपक्ष के महाजुटान में देश के 17 सियासी दलों के प्रमुख और नेताओं ने शिरकत की. बैठक समाप्त होने के बाद विपक्षी दलों के नेताओं ने मीडिया को संबोधित किया. इस दौरान पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि बिहार जनांदोलनों की भूमि रही है और यहां से देश में एक इतिहास बनने जा रहा है. वहीं, जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा कि देश में बिहार की जमीन से जो इतिहास को बनने जा रहा है, उसकी जम्मू-कश्मीर से हो चुकी है.

हम एकजुट होकर लड़ेंगे चुनाव : ममता बनर्जी

संयुक्त विपक्ष की बैठक के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि बिहार जन आंदोलनों की भूमि रही है और एक बार फिर इस बिहार से इतिहास बनाने की शुरुआत हुई है. उन्होंने कहा कि हम एकजुट हैं, हम एकजुट होकर लड़ेंगे. इतिहास यहीं से शुरू हुआ है.

भाजपा चाहती है, इतिहास बदला जाए

भाजपा चाहती है कि इतिहास बदला जाए और हम भी चाहते हैं कि इतिहास को बिहार से बचाया जाए. उन्होंने कहा कि कुछ लोग कहते हैं कि अगर 2024 के लोकसभा चुनाव में ‘तानाशाही’ सरकार फिर से चुनकर आ जाएगी, तो देश में अगला चुनाव नहीं होगा, लेकिन हम यह कहना चाहते हैं कि हम यहां इस फासीवादी सरकार के खिलाफ एकजुट होने के लिए यहां बैठे हुए हैं.

अगली बैठक शिमला में होगी

ममता बनर्जी ने आगे कहा कि पटना में जो बैठक हुई है, वह अच्छी हुई है. हमने तीन चीज पर जोर दिया है. वह यह कि हम लोग एक है, हम लोग एक साथ लड़ेंगे, अगली बैठक शिमला में होगी. उन्होंने कहा कि भाजपा चाहती है कि इतिहास बदला जाए और हम चाहते हैं कि बिहार से इतिहास बचाया जाए.

गोडसे का मुल्क नहीं बनेगा गांधी का देश

वहीं, जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा कि बिहार की जमीन से जो इतिहास बनने जा रहा है, उसकी शुरुआत जम्मू-कश्मीर से हो चुका है. उन्होंने कहा कि हमारी कोशिश यह करेगी कि हम गांधी के मुल्क को ‘गोडसे का मुल्क’ नहीं बनने देंगे. उन्होंने कहा कि जो मुल्क के अंदर हो रहा है और हमारे लोकतंत्र, संविधान, सेक्युलरिज्म पर हमला हो रहा है उसका प्रयोगशाला हमारा जम्मू-कश्मीर बन चुका है. इसकी शुरूआत जम्मू-कश्मीर से हुई है और पूरे मुल्क में वहीं हो रहा है जो हमारे साथ हुआ है. हमने जिस महात्मा गांधी, नेहरू के मुल्क के साथ हाथ मिलाया है वही आइडिया ऑफ इंडिया है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.