Maharashtra Politics : क्या बीजेपी का दामन थमेंगे शरद पवार ? जानें क्या बोले संजय राउत

12

Maharashtra Politics : शरद पवार क्या बीजेपी का दामन थाम लेंगे ? इस तरह की चर्चा जोरों पर हो रही है. मामले पर शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) के सांसद संजय राउत की प्रतिक्रिया सामने आयी है. राउत ने दावा किया कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष शरद पवार अपने भतीजे अजित पवार की तरह बीजेपी से हाथ मिलाने की ‘‘गलती’’ नहीं करेंगे. आपको बता दें कि एनसीपी नेता अजित पवार ने पिछले महीने महाराष्ट्र में एकनाथ शिंदे नीत बीजेपी सरकार में उपमुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी. उनके साथ एनसीपी के आठ अन्य विधायकों ने भी कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली थी.

शरद पवार की पार्टी राज्य में शिवसेना (यूबीटी) और कांग्रेस के साथ विपक्षी महा विकास आघाड़ी के साथ वर्तमान में नजर आ रही है. राउत ने शिवसेना (यूबीटी) के मुखपत्र ‘सामना’ में अपने साप्ताहिक स्तंभ ‘रोखठोक’ में लिखा कि यदि अजित पवार अपनी खुद की राजनीतिक पार्टी बनाएं और चुनाव लड़ें तो वह सच में बड़े नेता बन सकते हैं. अगर अजित पवार भाजपा की मदद से वैसा ही करते हैं जैसा कि एकनाथ शिंदे ने किया तो उनकी राजनीति रेत के महल की तरह ढह जाएगी.

Sharad Pawar and Ajit Pawar
shrad pawar

अजित पवार ने अपने चाचा के दम पर हासिल किया राजनीति में मुकाम

शिवसेना (यूबीटी) नेता ने आरोप लगाया कि अजित पवार ने अपने चाचा के दम पर राजनीति में मुकाम हासिल किया और अब वह उनका (चाचा) ही राजनीतिक करियर खत्म करने का काम कर रहे हैं. राज्यसभा सदस्य ने कहा कि शरद पवार ने अजित पवार से मुलाकात के बाद भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ कड़ा रुख अपनाया है. उन्होंने दावा किया कि शरद पवार को लगता है कि मोदी का समर्थन करना दमनकारी ताकतों का समर्थन करने की तरह है और जो उनकी पार्टी छोड़कर चले गये हैं, उनका राजनीतिक करियर भविष्य में खुद-ब-खुद खत्म हो जाएगा. शरद पवार बीजेपी के पाले में जाने की गलती नहीं करेंगे. यह कोई व्यक्ति विशेष का मामला नहीं है, बल्कि लोकतंत्र बनाम तानाशाही का मामला है.

शरद पवार

अजित पवार चाहते हैं मुख्यमंत्री बनना

राउत ने अजित पवार की तुलना ‘‘कठफोड़वा पक्षी’’ से की जो मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे की कुर्सी में ‘‘छेद करेगा’’ और उन्होंने दावा किया कि यह तय है कि उपमुख्यमंत्री एवं भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस इस पक्षी को शक्ति देने का काम करेंगे. उन्होंने दावा किया कि अजित पवार मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं और फडणवीस का समर्थन करने वाले भाजपा विधायकों को लगता है कि शिंदे अब बोझ बन गये हैं तथा उनके कारण पार्टी (बीजेपी) को काफी नुकसान हो रहा है. शिंदे का यह दावा कि उनसे 2024 के बाद भी मुख्यमंत्री बने रहने का वादा किया गया है, यह सही नहीं है क्योंकि ऐसा होता तो अजित पवार को शामिल नहीं किया जाता.

भाषा इनपुट के साथ

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.