लॉकडाउन पार्ट 2.0: वक्त है कुछ नया करने और जिंदगी के ये पल सहजने का : कंज्यूमर वॉयस

0 188

जरूरी है कि घर में रहते हुए हम अपने खानपान का विशेष ध्यान रखें। कई ऐसा ना हो कि अधिक कैलोरी वाले खाद्य पदार्थ लें जिससे आपका वजन नियंत्रित ना रह पाएं। लॉकडाउन के इस नाजुक दौर में स्वाद के चक्कर में सेहत के साथ समझौता करना सही नहीं है।

कोविड-19 के कारण देश में लॉकडाउन का दूसरा दौर चल रहा है। इस दौरान घर पर रहना जितना जरूरी है उतना ही शारीरिक और मानसिक तौर पर स्वस्थ रहना भी जरूरी है। इसके लिए हमें चाहिए कि हम अपनी दैनिक दिनचर्या में थोड़ा परिवर्तन करें जिसका फर्क हम स्वयं महसूस कर सकते हैं।

 

आज हमारे लिए जरूरी है कि हम अपने शरीर में मौजूद हानिकारक तत्वों को बाहर निकालें। इसके लिए हमको सुबह-शाम गुनगना पानी पीने की जरूरत है। भोजन में हमको लिक्विड डाइट की मात्रा अधिक लेने की होगी। मौसम के इस दौर में ठंडे पेय पदार्थों का सेवन नहीं करें ताकि शरीर विभिन्न प्रकार के वायरस और बैक्टीरिया से सुरक्षित रहे। स्वास्थ्य से जुड़े लोगों का भी यह मानना है कि जिस प्रकार बाहरी शरीर की साफ-सफाई जरूरी है उसी प्रकार शरीर के आंतरिक अंगों की सफाई भी बहुत आवश्यक है।

लॉकडाउन में भी फिटनेस प्लान में रहें

आज के समय में वायरस से बचने के लिए शरीर का रोग-प्रतिरोधक तंत्र मजबूत होना और भी जरूरी है, जिससे हम सब स्वस्थ रहें। इसके लिए जरूरी है कि घर में रहते हुए हम अपने खानपान का विशेष ध्यान रखें। कई ऐसा ना हो कि अधिक कैलोरी वाले खाद्य पदार्थ लें जिससे आपका वजन नियंत्रित ना रह पाएं। लॉकडाउन के इस नाजुक दौर में स्वाद के चक्कर में सेहत के साथ समझौता करना सही नहीं है।

घर में रहकर सुबह-शाम करीब तीस मिनट टहलने का अभ्यास जारी रखें। इसके लिए आप टीवी, सोशल मीडिया एकांडटस फॉलोकर या ऑनलाइन ऍप की मदद से योग या व्यायाम कर सकते हैं। मेडिटेशन भी बहुत लाभदायक है।

 

 

अपने शौक को पूरा करने का सही समय लॉकडाउन के दिनों को अपने शौक पूरा करने का एक जरिया बनाएं। हो सकता है अपने कॅरियर के चलते आप अपने अपने शौक पूरा नहीं कर सकें हो यह सही समय है। अपने शौक को पूरा करने से शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य सही रहता है। आप जहां हैं वहां रहकर कुछ नये-नये प्रयोग भी कर सकते हैं।

कोविड-19 क्या है

कोविड-19 यानी कोरोना वायरस सांस से संबंधित एक नई बीमारी है जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में और दूषित सतहों से फैल सकती है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि 80 साल से ज्यादा उम्र के लोगों में इसके गंभीर परिणाम होने की संभावना है, विशेषकर वे जो अन्य बीमारियों से भी पीडित हों। इस बीमारी के प्रमुख लक्षण हैं- बुखार, सूखी खांसी और सांस लेने में तकलीफ। इस बीमारी का अभी तक कोई टीका या उपचार नहीं निकला है।

ऐसे में क्या करें

  1. हाथों को अच्छे से धोएं या हैँट सैनिटाइजर का बार-बार इस्तेमाल करें।
  2. खांसते या छींकते हुए अपने मुंह को टिशु या कोहनी से ढंके।
  3. बीमार होने पर घर पर ही रहें।
  4. अगर आप में कोविड 19 के लक्षण दो दिन से ज्यादा हों तो तुरंत डॉकटर की मदद लें।
  5. हाथ मिलना बंद करें और नमस्कार की आदत डालें।
  6. ज्यादा उम्र के बुजुर्ग (विशेषकर 80 की उम्र वाले,) और डायबिटीज, फेफड़ें और दिल की बीमारी से पीडित लोग तीन महीने की जरूरी दवाइयां (जैसे उच्च रक्तचाप या डायबिटीज की दवाइयां) साथ रखें और भीड़ में ना जाएं।
  7. जितना हो सके घर में रहें और सार्वजनिक स्थानों से दूरी बनाएं रखें।