Lockdown 4: बिहार के JDU नेता का CM अरविंद केजरीवाल पर तंज, कहा- उन्‍हें मिले भारत रत्न.

0 190

Lockdown 4.0: कोरोना संक्रमण (CoronaVirus Infection) को रोकने के लिए जारी लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान जगह-जगह फंसे पड़े प्रवासी श्रमिकों (Migrant Labourers) का अपने घरों की ओर पलायन बड़ा मुद्दा बन गया है। इसे लेकर दिल्ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) और बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) आमने-सामने होते रहे हैं। कभी श्रमिकों को जबरन भगाने तो कभी उनकी वापसी के रेल किराया को लेकर दोनों राज्य सरकारें आमने-सामने होती रही हैं। इसी सिलसिले में जनता दल यूनाइटेड (JDU) के पूर्व प्रवक्‍ता अजय आलोक ने तंज कसते हुए अरविंद केजरीवाल के लिए भारत रत्न (Bharat Ratna) की मांग की है।

जेडीयू नेता ने ट्वीट कर जमकर साधा निशाना

जेडीयू नेता व पार्टी के पूर्व प्रवक्‍ता अजय आलोक (Ajay Alok) ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर जमकर निशाना साधा है। उन्‍होंने ट्वीट (Tweet) में तंज कसा है कि दिल्ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल के दो महीने की सफलता की कहानी यह है कि वहां संक्रमण बढ़ा है, भूखे मजदूर भाग रहे हैं और वे हवा में 10 लाख लोगों को खाना खिला रहे। वहां कंटेनमेंट जोन (Containment Zone) में भी संक्रमण फैलाने की छूट दे दी गई है। ऊपर से रोज प्रेस वार्ता हो रही है। अजय आलोक ने तंज कसते हुए कहा है कि इतना काम करने वाले मुख्‍यमंत्री को भारत रत्न मिलना चाहिए।

दिल्ली के यशस्वी CM @ArvindKejriwal के 2 महीने की सफलता की कहानी दिल्ली का बढ़ता संक्रमण , भूखे मज़दूर , भागते मज़दूर ,रोज़ाना प्रेस वार्ता , हवा में 10 लाख लोगों को खाना खिलाना , और कंटेन्मेंट ज़ोन में भी संक्रमण फैलाने की छूट देना ——— इतना काम करने वाले CM को भारत रत्न मिले ।

 

रोजाना मीडिया से रूबरू होते केजरीवाल

 

विदित हो कि दिल्ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल वहां कोरोना संक्रमण की जानकारी देने के लिए रोजाना मीडिया से रूबरू होते हैं। वे मीडियो को दिल्‍ली में कोरोना संक्रमण व लॉकडाउन की स्थिति तथा हालात पर काबू पाने के लिए किए जा रहे उपायों की जानकारी देते हैं।

दिल्‍ली से बड़ी संख्‍या में पहुंचे प्रवासी श्रमिक

कोरोना संक्रमण के काल में दिल्‍ली से बड़ी संख्‍या में प्रवासी श्रमिक बिहार पहुंचे हैं। यह सिलसिला जारी है। दिल्‍ली से बिहार पहुंचे प्रवासी श्रमिकों में करीब 26 फीसद कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।