कोरोना काल में कोच्चि की लक्ष्मी मेनन ने शुरू किया लघु उद्योग, पीपीई किट के स्क्रैप से बनाए बिस्तर

0 105

महिलाएं अगर चाहें तो क्या नहीं कर सकती। कोरोना काल के बीच जहां एक तरफ छोट-बड़े सभी उद्योग धंधे प्रभावित हो रहे हैं। वहीं, दूसरी तरफ कोच्चि की रहने वाली लक्ष्मी मेनन ने जज्बा दिखाया है और एक लघु उद्योग शुरू किया है। लक्ष्मी अपनी टीम के साथ पीपीई (पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्वीपमेंट- PPE) किट के स्क्रैप से बिस्तर तैयार कर रही है। इतना ही नहीं उन्होंने इस कोरोना काल में अपने साथ अन्य महिलाओं को भी रोजगार दिया है।

 

बता दें कि देश इस वक्त कोरोना महामारी से जंग लड़ रहा है। ऐसे में सरकार लोगों को लगातार एहतियात बरतने के निर्देश दे रही है। वहीं, अस्पतालों में फ्रंट लाइन वॉरियर के तौर पर काम कर डॉक्टर नर्स और अन्य मेडिकल स्टाफ को पीपीई किट पहनना अनिवार्य है। ताकि ये लोग कोरोना से बच रहें। ऐसे में देश में कई जगह पीपीई किट तैयार की जा रही हैं। पीपीई किट बनाने के दौरान काफी मटीरियल ऐसा होता है जो उपयोग में नहीं आने के कारण फेंक दिया जाता है। इसी मटीरियल का उपयोग लक्ष्मी और उनकी टीम गद्दे बनाने में कर रही है।

देश में संक्रमितों की संख्या 32 लाख के पार

देश में संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 32 लाख को भी पार कर गया है, वहीं एक अच्छी बात यह भी है कि बड़ी संख्या में हर दिन मरीज ठीक भी हो रहे हैं। अब तक 24 लाख से ज्यादा कोरोना के मरीज पूरी तरह से स्वस्थ हो चुके हैं जबकि, इस महामारी से मरने वालों का आंकड़ा भी 60 हजार के करीब पहुंच गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटे (मंगलवार, 25 अगस्त 2020) में कोरोना के 67 हजार 151 मामले सामने आ गए हैं और 1,059 लोगों की मौत हो गई। इस दौरान 63 हजार 173 मरीज ठीक हुए। वहीं आठ 23 हजार 992 सैंपल टेस्ट हुए।

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देश में कोरोना के 32 लाख 34 हजार 475 मामले सामने आ गए हैं। इनमें से सात लाख सात हजार 267 एक्टिव केस है। 24 लाख 67 हजार 759 मरीज ठीक हो गए हैं। 59 हजार 449 मरीजों की मौत हो गई है। रिकवरी रेट 76.30 फीसद हो गया है। डेथ रेट 1.84 फीसद है। अब तक कुल तीन करोड़ 76 लाख 51 हजार 512 सैंपल टेस्ट हो गए हैं।